[gtranslate]
Country

ग्रेटर नोएडा में कोरोना के प्रति जागरूकता का अलख जगा रहे युवा

ग्रेटर नोएडा में कोरोना के प्रति जागरूकता का अलख जगा रहे युवा

एक सिपाही वह होता है जो खाकी वर्दी पहनकर जनता की रक्षा का वचन लेता है। जिसे वह अपनी ड्यूटी मानते हुए कर्तव्य पूरा करता है। पुलिस आजकल कोरोना जैसी महामारी के पालन न कर रहे लोगों को अनुशासन का पाठ पढ़ा रही है। लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में पुलिस जनता को जागरूक करने में पूरी तरह कामयाब नहीं हो पा रही है। शायद यही वजह है कि पुलिस पर लगातार हमले हो रहे हैं।

मुजफ्फरनगर के मोरना गांव में जब पुलिस लोगों को कोरोना का पालन कराने का पाठ पढ़ाने गई तो ग्रामीणों ने उन पर हमला कर दिया। देश में अब तक ऐसे दर्जनों मामले सामने आए हैं जब पुलिस और पब्लिक आपस में उलझ रहे हैं। पुलिस और ग्रामीणों में आपस में तनातनी की खबरें आ रही थी। इसके मद्देनजर कुछ लोग ग्रामीण क्षेत्रों में जन जागरूकता अभियान करने निकल गए।

ऐसे समय में जब लोग अपने घरों से निकलने पर कोरोना वायरस के संक्रमण से पीड़ित होने के डर से बाहर नहीं निकल रहे हैं। ऐसे में समाज के कुछ सिपाहियों ने ग्रामीण जनता को जागरूक करने का बीड़ा उठाया है। ग्रेटर नोएडा के बादलपुर और दुजाना से शुरू हुई यह मुहिम ग्रेटर नोएडा के पूरे गांवों तक चल रही है। जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री बहन मायावती के गांव बादलपुर निवासी महेंद्र नागर और प्रवीण नागर के साथ ही दुजाना निवासी डॉ देवेंद्र नागर ने ग्रामीण जनता के बीच जाकर उनको जागृत करने का जज्बा दिखाया है।

इस अभियान में तीनों युवाओं ने गांव-गांव जाकर गली-गली पहुंचकर लोगों के घरों तक कोरोना के प्रति जागरूकता फैलाने का काम किया। जिसमें महेंद्र नागर के साथ ही डॉ देवेंद्र नागर और प्रवीण नागर ने स्कॉर्पियो गाड़ी को अपना प्रचार वाहन बनाया। हालांकि, इस तरीके से लोगों को जागरूक करना कानून के दायरे में नहीं आता है। लेकिन एक तरह से देखा जाए तो ऐसा करना पुलिस की सहायता करने जैसा ही है।

महेंद्र नागर की माने तो उन्होंने बादलपुर कोतवाली के प्रभारी पटनीश कुमार को जब यह बात बताई कि वह गांव-गांव जाकर लोगों को कोरोना के प्रति जागरूक करना चाहते हैं तो पुलिस की जैसे राह आसान हो गई। बादलपुर कोतवाली प्रभारी पटनीश कुमार ने तीनों लोगों को ही सोशल डिस्टेंस बनाने की हिदायत देने के साथ ही गांव-गांव जाकर कोरोना के प्रति प्रचार करने की स्वीकृति प्रदान कर दी।

इसके बाद तीनों ही लोग गांव-गांव, डगर-डगर जनता को जागरूक करने का बीड़ा उठाए हुए हैं। इस जन जागरूकता अभियान के तहत तीनों लोगों ने अब तक बादलपुर, दुजाना, कचैडा, गिरधरपुर, छपरौला, हाथीपुर, खेड़ा, कल्दा, विश्नोली, खेड़ा, धर्मपुरा, डेयरी, मच्छा, सादोपुर, अच्छेजा, डेरी स्कनर और दूरियाई आदि गांवों के साथ कॉलोनियों में अपने प्रचार वाहन के जरिए लोगों को बता रहे हैं कि कोरोना कितनी खतरनाक बीमारी है। जो जल्द ही महामारी में तब्दील हो जाएगी। उन्होंने जनता से अपील करते हुए कहा कि अगर इस बीमारी को महामारी में तब्दील नहीं करना चाहते हो तो सरकार के द्वारा बताए हुए उपाय को अपनाएं।

You may also like

MERA DDDD DDD DD