[gtranslate]
Country

भाजपा के लिए आप का चक्रव्यूह

हिमाचल में इस बार विधानसभा चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी  शिक्षा को बड़ा राजनीतिक हथियार बना रही है। भाजपा को घेरने का चक्रव्यूह अब हमीरपुर में रचा जा रहा है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा का संसदीय क्षेत्र और केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर व पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल का गृह क्षेत्र हमीरपुर आम आदमी पार्टी के निशाने पर है। प्रदेश की राजनीति की दृष्टि से प्रमुख केंद्र बिंदु में सेंध लगाने की तैयारी है। पार्टी शिक्षा पर संवाद करवा लोगों को भावनात्मक तौर पर अपने साथ जोडऩा चाहती है।

हमीरपुर में कुछ दिन पहले धूमल के शादी की 50वीं सालगिरह मनाने के लिए प्रदेश की कैबिनेट पहुंची थी। इसके बाद भाजपा की राज्य कार्यकारिणी की बैठक हुई। अब आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल यहां दिल्ली मॉडल की बात करेेंगे। वह दिल्ली में शिक्षा व्यवस्था में आए सुधार और हिमाचल के ताजा हालात पर चर्चा करेंगे।

शिक्षा संवाद शुरू करने से पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल आप के नएप्रदेश अध्यक्ष सुरजीत सिंह ठाकुर को सियासी गुर सिखाएंगे। सुरजीत ने सियासत का ककहरा इन्हीं से सीखा है। इस दौरान पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान, हिमाचल के सहप्रभारी एवं राज्यसभा सांसद डा. संदीप पाठक भी मौजूद रहेंगे।

आप के हिमाचल मामलों के चुनाव प्रभारी सत्येंद्र जैन अभी ईडी की हिरासत में हैं। बेशक पार्टी के नए अध्यक्ष की नियुक्ति कर दी है, लेकिन सूत्रों के अनुसार असली कमान केजरीवाल के पास ही है। वह हिमाचल में खुद की उपस्थिति और बढ़ाएंगे। इससे पहले शिमला में शिक्षा पर संवाद कार्यक्रम में दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भाग लिया था। अरविंद इससे पहले मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के गृह जिले मंडी में रोड शो कर चुके हैं। फिर प्रदेश के सबसे बड़े कांगड़ा जिले में रैली की थी। सूत्रों के अनुसार उसके बाद वह शिमला संसदीय क्षेत्र का रुख कर सकते हैं।

आप के प्रदेश अध्यक्ष सुरजीत सिंह ठाकुर ने कहा है कि हिमाचल में शिक्षा की हालत अच्छी नहीं है। शिक्षा की बदहाली की पोल हमीरपुर में खुलेगी, जब दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद  केजरीवाल और पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान शिक्षकों, छात्रों, अभिभावकों से सीधा संवाद करेंगे। इसमें दोनों मुख्यमंत्री सवालों के जवाब देंगे। प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था में कैसे सुधार हो सकता है, इस बारे में केजरीवाल को सुझाव दिए जा सकते हैं। सुरजीत ने कहा कि उनके अध्यक्ष बनने के बाद हिमाचल में केजरीवाल का पहला कार्यक्रम है, इसलिए इसे हर हाल में सफल बनाएंगे। हिमाचल की जनता बदलाव चाहती है। लोग इस बार तीसरे राजनीतिक विकल्प को चुनेंगे।

गौरतलब है की बड़े झटकों के बाद आम आदमी पार्टी हिमाचल में फिर सक्रिय हो गई है। करीब दो महीने के भीतर पार्टी को बड़े झटके लगे हैं। इसमें प्रदेशाध्यक्ष रहे अनूप केसरी का इस्तीफा, एक कार्यकर्ता की ओर से सोशल मीडिया पर खालिस्तान को लेकर टिप्पणी और दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री और हिमाचल चुनाव प्रभारी सत्येंद्र जैन की गिरफ्तारी से पार्टी को नुकसान हुआ है। अब पार्टी ने डैमेज कंट्रोल करने के लिए  हिमाचल की ओर रुख कर दिया है। 

पार्टी हिमाचल में शिक्षा, स्वास्थ्य सेवाओं, युवाओं के लिए रोजगार पर काम करेगी। पर्यटन को बढ़ावा देेने के लिए भी काम होगा। पार्टी ने पहले हिमाचल में ग्राम संपर्क अभियान चलाया, विधानसभा क्षेत्रों में बदलाव मार्च और जन संवाद कार्यक्रम शुरू कर  आप विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुट गई है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD