[gtranslate]
Country

क्यों महत्वपूर्ण है Twitter पर ‘ब्लू टिक’ और क्या है इसे हटाने का कारण ?

पिछले कुछ दिनों से लोकप्रिय माइक्रोब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर भारत में चर्चा का केंद्र बनी हुई है। केंद्र सरकार ने सोशल मीडिया कंपनियों के लिए नए नियम पेश किए हैं। इन्हीं नियमों के चलते केंद्र सरकार और ट्विटर आमने-सामने हैं।

इस बीच ट्विटर ने सरसंघचालक मोहन भागवत और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू समेत कुछ अन्य नेताओं के ट्विटर हैंडल से ब्लू टिक हटा दिया था। इस पर केंद्र सरकार ने तुरंत प्रतिक्रिया दी। फिलहाल अब ट्विटर ने ब्लू टिक वापस लगा दिया है यह मामला चर्चा में आने के बाद अब प्रश्न उठ रहे की ब्लू टिक जरुरी क्यों है? इसे प्राप्त करने की प्रक्रिया और नियमों पर चर्चा की जा रही है। तो आइए जानें इस प्रक्रिया के बारे में…

ब्लू टिक स्टेटस सिंबल की तरह..

22 जनवरी को ट्विटर पर पब्लिक वेरिफिकेशन शुरू हुआ। 2017 में कंपनी ने अपना सत्यापन कार्यक्रम बंद कर दिया। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि केवल जिनके पास सक्रिय खाता है, उन्हें ब्लू-टिक दिया जाता है। कंपनी शुरुआत में छह तरह के यूजर्स को ब्लू टिक मुहैया कराती है। बेशक, संबंधित खाते के सत्यापन के बाद एक ब्लू टिक दिया जाता है। इनमें सरकारी (राज्य या केंद्र) कंपनियां, ब्रांड, गैर-लाभकारी संगठन, पत्रकार और समाचार संगठन, मनोरंजन, खेल, गेमिंग, कार्यकर्ता, संगठन और अन्य प्रभावशाली लोग शामिल हैं। अधिक अनुयायियों वाले खातों को भी ब्लू-टिक मिल सकता है। अब यह ब्लू टिक स्टेटस सिंबल की तरह हो गया है। बहुत से लोग इसे पाने की कोशिश कर रहे हैं।

ट्विटर पर ‘ब्लू टिक’ इतना महत्वपूर्ण क्यों है?

कई लोग सोशल मीडिया पर मशहूर लोगों के नाम से फर्जी अकाउंट शुरू करते हैं। यह अक्सर गलत सूचना भी फैलाता है। सत्यापित खाता होने से उस जानकारी की विश्वसनीयता बढ़ जाती है। अगर ट्विटर पर ट्विटर हैंडल को वेरिफाई किया जाए तो इसकी विश्वसनीयता बढ़ जाती है। ट्विटर द्वारा एक ‘ब्लू टिक’ दिया जाता है जिससे यह पता चलता है कि किसी खाते का सत्यापन किया गया है। इससे अन्य उपयोगकर्ताओं को एक निश्चित ट्विटर हैंडल से प्रदान की गई जानकारी विश्वसनीय लगती है।

ट्विटर के नियमों के अनुसार, यदि किसी खाते का नाम बदल दिया जाता है या खाता सक्रिय या अद्यतन नहीं होता है, तो यह असत्यापित होता है और ‘ब्लू टिक’ हटा दिया जाता है। एक और बात यह है कि एक उच्च पदस्थ अधिकारी के ट्विटर हैंडल के सामने एक ब्लू टिक होगा, लेकिन अगर वह कार्यालय छोड़ देता है और सत्यापन मानदंड पूरे नहीं करता है तो फिर ‘ब्लू टिक’ को हटा दिया जाता है।

ब्लू टिक लेना चाहते हैं तो करें ये काम?

वेरिफिकेशन बैज यानी ब्लू टिक पाने के लिए ट्विटर अकाउंट की सेटिंग में जाएं और रिक्वेस्ट वेरिफिकेशन बटन पर क्लिक करें। इस बटन पर क्लिक करने के बाद उस कैटेगरी को चुनें जिसके लिए आपको ‘ब्लू टिक’ चाहिए। फिर सरकार द्वारा आपको दिया गया कोई भी आईडी कार्ड, कार्यालय से प्राप्त ईमेल पता या अपनी पहचान साबित करने के लिए ‘उस’ आधिकारिक वेबसाइट का लिंक प्रदान करें। तो आपका अकाउंट क्लियर हो जाता है।

अगर ये गलतियां की जाती हैं, तो ब्लू टिक हटा दिया जाता है !

ट्विटर ने ब्लू टिक देने के लिए कुछ नियम बनाए हैं। इसी तरह इसे हटाने के लिए भी नियम बनाए गए हैं। इन्हीं नियमों का पालन करते हुए ट्विटर ने उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और सरसंघचालक मोहन भागवत समेत कुछ नेताओं के ट्विटर हैंडल से ब्लू टिक हटा दिया। ट्विटर के नियमों के मुताबिक अगर अकाउंट कई दिनों से एक्टिव नहीं है तो ब्लू टिक डिलीट हो जाता है। कंपनी आपको इसके लिए कोई नोटिस नहीं देती है।

इसके अलावा यदि आपके सरकारी पद पर रहते हुए खाता सत्यापित किया गया था, तो आपके द्वारा उस पद को छोड़ने के बाद ब्लू टिक को हटाया जा सकता है। साथ ही यदि आपका खाता बार-बार Twitter नीति का उल्लंघन करता है, तो आपके खाते से ब्लू टिक हटाए जाने की संभावना है। अगर ट्विटर बार-बार अपना नाम, बायो या प्रोफाइल फोटो बदलकर लोगों को गुमराह करने की कोशिश करता है तो ट्विटर ऐसी कार्रवाई कर सकता है।

Also read: भारत सरकार और ट्ववीटर के बीच बढ़ा विवाद, उपराष्ट्रपति के ट्ववीटर अकाउंट से हटाया ब्लू टिक

You may also like

MERA DDDD DDD DD