[gtranslate]
Country Uttarakhand

उत्तराखंड में BJP विधायक को ग्रामीणों ने दौडाया, कहा डंडो से पीटेंगे, मामला दर्ज

ग्रामीणों का अब सब्र टूटने लगा है। जबसे कोरोना महामारी का संकट बड़ा है तब से लोग जनप्रतिनिधियों के प्रति कठोर हो गए हैं। खासकर ऐसे जनप्रतिनिधि जो पिछले 4 सालों से गांव के अंदर तक झांकने नहीं जा रहे थे। ऐसे जनप्रतिनिधियों को अब ग्रामीणों के विरोध का सामना करना पड़ रहा है। जहां उन्हें खरी-खोटी सुनने को मिल रही है।

ऐसा ही एक मामला सामने आया है उत्तराखंड के जिला हरिद्वार में। यहां के झबरेड़ा से भाजपा विधायक देशराज कर्णवाल को गुर्जर बाहुल्य भक्तोंवाली गांव में ग्रामीणों का विरोध का सामना करना पड़ा। ग्रामीणों ने विधायक को जमकर खरी-खोटी सुनाई । यही नहीं बल्कि एक व्यक्ति ने तो यहां तक कह दिया कि तुम्हें हम डंडो से पीटेंगे। इसके बाद विधायक आगे – आगे और ग्रामीण पीछे- पीछे ।

इस मामले में झबरेड़ा विधायक के प्रतिनिधि जितेंद्र कुमार ने पंकज व उनके पिता महकार और तीन अज्ञात के खिलाफ अनुसूचित जाति जनजाति उत्पीड़न समेत विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज करा दिया है।

विधायक देशराज कर्णवाल की ग्रामीणो द्वारा की गई छिछालेदार का वीडियो वायरल हो गया है। जिसमें स्पष्ट दिख रहा है कि जब विधायक स्वास्थ्य केंद्र का निरिक्षण कर रहे थे तो 15 – 20 ग्रामीणों ने भक्तोंवाली गांव में भाजपा विधायक को घेर लिया । इसके बाद ग्रामीण उनसे पिछले 4 साल का हिसाब लेने लगे। जिसमें विधायक की बोलती बंद हो गई । भाजपा विधायक देशराज को बलात्कारी व्यक्ति के साथ सोशल मीडिया पर लाइव आने, गांव में विकास न कराने, विकास कराने की झूठी पोस्ट सोशल मीडिया पर डालने को लेकर खूब खरी खोटी सुनाई।

हद तो तब हो गई जब विधायक को इज्जत का हवाला देते हुए लोगों ने कहा कि पिछली बार तो उन्होंने आपको जिता दिया लेकिन अगले साल आपको आइना दिखा देंगे। एक ग्रामीण कहता है कि विधायक जी आपके सिर्फ पद का सम्मान है, जो आज आपको छोड़ रहे हैं, अगर आप इलेक्शन टाइम वोट मांगने आएंगे तो गैलरी में आपके के लिए लठ तैयार है। इसके बाद ग्रामीणों ने भाजपा विधायक को सीधे धमकी देते हुए गांव से चले जाने के लिए कहा दिया।

बताया जाता है कि झबरेड़ा विधायक देशराज कर्णवाल ने भक्तोंवाली गांव का विकास कार्य करने की कई फर्जी घोषणाओं को सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया। विधायक के साथ एक मीडियाकर्मी पर भी ग्रामीणों ने गंभीर आरोप लगाए। इसी के साथ ही ग्रामीणो ने विधायक को एक बलात्कार के आरोपी के साथ लाइव आने पर भी सवाल उठाए ।

इसके बाद ग्रामीणों ने विधायक को वह गलियां और रास्ते दिखाएं जो कीचड़ से लबालब थे। यही नहीं बल्कि गांव के अंदर गंदगी के अंबार को भी ग्रामीणों ने विधायक को दिखाया। यह देख कर विधायक की सिट्टी पिट्टी गुम हो गई। भाजपा विधायक देशराज कर्णवाल गुस्साए ग्रामीणों को शांत करने का प्रयास करते रहे। लेकिन ग्रामीण उन्हें खरी खोटी सुनाते रहे।
किसी तरह विधायक अपनी जान बचाकर गांव से निकल भागे।

उधर दूसरी तरफ
झबरेड़ा विधायक ने एक वीडियो जारी कर आरोप लगाया कि झबरेड़ा नगर पंचायत अध्यक्ष चौधरी मानवेंद्र सिंह के इशारे पर कुछ व्यक्तियों ने उनके साथ अभद्रता की है। वह किसी तरह का भेदभाव नहीं कर रहे हैं। सभी जगह विकास कार्य हो रहे हैं। साफ सफाई वह नाला नाली आदि का निर्माण कर सफाई का कार्य नगर पंचायत या ग्राम पंचायत का होता है।

झबरेडा के नगर पंचायत चेयरमैन चौधरी मानवेद्र सिंह का इस बाबत कहना है कि विधायक के साथ झगड़े की न तो मुझे जानकारी थी और न ही इससे कोई लेना देना है। अगर आरोप लगा रहा ग्रामीण मेरा पीएस है तो विधायक को यह साबित करना चाहिए। विधायक ने मीडिया के जरिये खुद ही मेरे खिलाफ उल्टी-सीधी बातें कही थीं कि मैं कार्य का श्रेय लेना चाह रहा हूं। जबकि मैंने कभी ऐसी पोस्ट नहीं डाली कि कोई काम मैं करा रहा हूं। चौधरी कहते हैं कि स्वास्थ्य केंद्र पर किसी प्रकार की टेस्टिंग आदि की सामान्य सूचनाएं पोस्ट की गई हैं। इसमें मैंने यह नहीं कहा है कि यह काम मैं खुद करा रहा हूं। साथ ही वह यह भी कहते हैं कि स्थानीय लोगों में विधायक के प्रति रोष है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD