[gtranslate]
Country

तीन दिन से लापता बस्ती के पूर्व CMO को नही ढूंढ पाई यूपी पुलिस

3 दिन से उत्तर प्रदेश के बस्ती में पूर्व सीएमओ रहे डॉक्टर जे. पी. त्रिपाठी रहस्यमय परिस्थितियों में लापता है । वह रोजाना की भांति वाराणसी से मिर्जापुर अपने ऑफिस जा रहे थे। बताया जाता है कि वह गंगा के भटौली पुल पर अपने ड्राइवर से यह कहकर उतरे कि उन्हें शौच जाना है । इसके बाद जब काफी देर तक वह नहीं लौटे तो ड्राइवर ने इसकी सूचना उनकी चिकित्सक पत्नी को दी । जिन्होंने बाद में गुमशुदगी का मामला दर्ज कराया।

डॉ. त्रिपाठी 22 अगस्त की सुबह वाराणसी से मिर्जापुर के लिए कार से निकले थे। इसी दौरान 9 : 15 बजे उन्होंने भटौली स्थित गंगा पुल को पार करते ही कार रुकवाई। चालक पवन से कार साइड में लगाने को कहा और शौच जाने की बात कहते हुए कहीं चले गए। यही नहीं बल्कि अपना मोबाइल और पर्स आदि भी कार में ही छोड़ दिया।

करीब डेढ़ घंटे तक डॉक्टर त्रिपाठी नहीं लौटे तो चालक को शंका हुई। उसने पहले आसपास खोजा। काफी देर तक कुछ पता नहीं चला तो डाक्टर के ही मोबाइल से उनकी पत्नी को मामले की जानकारी दी। इसके बाद अधिकारियों को जानकारी हुई तो खलबली मच गई। स्थानीय पुलिस के साथ ही आला अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए। उनकी डाक्टर पत्नी भी वाराणसी से पहुंच गईं।

पूर्व सीएमओ की गुमशुदगी का मामला रहस्यमय होता जा रहा है। बताया जा रहा है कि वह अपनी कोरोना में ड्यूटी लगने से परेशान थे। उनका ड्राइवर पवन की माने तो वह 2 दिन पहले कह रहे थे कि अब उनकी ड्यूटी कोरोना में लगने वाली है, तो वह नहीं बचेंगे । कयास लगाए जा रहे हैं कि इसके चलते ही शायद वह गंगा में डुबकी लगा गए। लोगों का कहना है कि यह संभव नहीं है। वह इसलिए कि एक डॉक्टर कभी भी किसी बीमारी का इलाज करने से नहीं डरता है । फिर वह तो बस्ती के पूर्व सीएमओ भी रह चुके थे।

1 माह पूर्व ही उन्हें प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बस्ती के सीएमओ पद से हटाया था। इसके बाद उनकी नियुक्ति मिर्जापुर के चिकित्सालय में वरिष्ठ परामर्शदाता के रूप में हुई थी। जबकि उनकी पत्नी सुनंदा भी डॉक्टर है और वाराणसी के कैंसर हॉस्पिटल में तैनात है। काफी दिनों से वह अपने पति का वाराणसी में स्थानांतरण कराने को लेकर परेशान थी।

उधर , दूसरी तरफ यह भी कहा जा रहा है कि वह मानसिक अवसाद में थे। लेकिन कौन से मानसिक अवसाद में थे, यह नही बताया जा रहा है। दावा किया जा रहा है कि पति-पत्नी के बीच अच्छे संबंध थे । लेकिन बावजूद इसके दोनों अलग-अलग कमरों में सोते थे।

डॉक्टर के ड्राइवर पवन का यह भी कहना है कि 2 दिन पूर्व भी वह गाड़ी से उतर कर गंगा के किनारे घंटों घुमे थे। उनके इस रवैया को आत्महत्या से जोड़कर देखा जा रहा है । कहा जा रहा है कि 2 दिन पहले भी वह गंगा में डुबकी लगाने के इरादे से पटरी पर घूमते रहे थे।

पुलिस को आशंका है कि वे गंगा में कूद सकते हैं। पुलिस ने ग्रामीणों से पूछा तो गाय चरा रहे ग्रामीण ने बताया कि उसने डाक्टर को गंगा किनारे देखा था, पर कूदते हुए नहीं देखा है। ऐसे में डाक्टर ने गंगा में कूद कर जान देने की कोशिश की है या वो कहीं और चले गए है। इस बारे में कोई जानकारी नहीं मिल सकी है।

हालांकि प्रशासन ने लापता चिकित्सक को खोजने के लिए एनडीआरएफ की मदद ली है। इसके अलावा गोताखोर भी पिछले 3 दिन से नदी में उनको ढूंढ रहे हैं। यही नहीं बल्कि नदी में जगह-जगह जाल बिछाकर देखा जा रहा है। लेकिन पूर्व सीएमओ का कहीं अता-पता नहीं मिल रहा है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD