[gtranslate]
Country

सिपाही की आत्महत्या से फिर कटघरे में यूपी पुलिस

उत्तर प्रदेश पुलिस में अक्सर प्रताड़ना के मामले सामने आते रहते हैं। पिछले साल की ही बात है जब मेरठ जिलें में एक महिला सब इंस्पेक्टर ने अपने साथ प्रताड़ना की बात कह कर आत्महत्या कर ली थी । महिला को उसका ही सीनियर ऑफिसर मेंटली टॉर्चर करता था। तथा उससे शारीरिक छेड़छाड़ भी करता रहता था। महिला सब इंस्पेक्टर ने आखिर में तंग आकर अपने इहलीला समाप्त कर ली थी ।

एक बार फिर ऐसा ही एक मामला पीलीभीत की बीसलपुर कोतवाली में आया है। यहां एक कॉन्स्टेबल ने विभाग के अफसरों की मनमानी से परेशान होकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली ।आत्महत्या करने से पहले यूपी पुलिस के सिपाही ने फेसबुक लाइव किया था ।जिसमें वह बार-बार कह रहा है कि विभाग की प्रताड़ना से परेशान होकर वह आत्महत्या कर रहा है। इससे एक बार फिर यूपी पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लग गए हैं।

आत्महत्या करने वाले सिपाही का नाम जितेंद्र सिंह चौहान है । जो शामली से उस्मानपुर के रहने वाले हैं। जितेंद्र सिंह चौहान 2016 बैच के सिपाही हैं । फिलहाल वह बीसलपुर कोतवाली में यूपी 100 की गाडी पर तैनात थे। जितेंद्र सिंह चौहान के साथ ही उनकी पत्नी सरिता चौहान भी बीसलपुर कोतवाली में ही तैनात है। जितेंद्र सिंह चौहान की पीलीभीत बीसलपुर मार्ग पर अपनी ही कार में मृत हालत में बॉडी मिली । जिसमें स्पष्ट दिख रहा है कि उसकी कनपटी पर गोली लगी।

पुलिस विभाग के अधिकारी इस पूरे मामले को खुदकुशी बता रहे है। कारण को लेकर अलग अलग बात कही जा रही है। मगर एक बात किसी के गले नहीं उतर सकी है। क्योंकि कोई भी हथियार मौके पर नहीं मिला है। न ही कोई इसे लेकर कुछ बता सका है। जब जितेंद्र ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या की है तो वह हथियार कहां गया जिससे उसने खुद को गोली मारी? यह सवालिया निशान है कि आखिर कोई व्यक्ति खुद को गोली मारकर उस हथियार को कैसे कहीं छुपा सकता है? वह हथियार तो वही होगा जहां उसकी डेड बॉडी होगी। लेकिन हथियार का ना मिलना भी मामले को शक और संदेह के दायरे में ला रहा है।

दूसरी तरफ बताया जा रहा है कि जितेंद्र सिंह चौहान छुट्टी न मिलने पर अफसरों से नाराज था। लेकिन दूसरी तरफ बीसलपुर कोतवाली के अधिकारियों का कहना है कि 1 दिन पहले ही जितेंद्र ने ऑनलाइन आवेदन किया था। जिसमें उसने 3 दिन की छुट्टी मांगी थी। उधर, दूसरी तरफ चौहान की आत्महत्या को पारिवारिक कलह भी बताया जा रहा है। हालांकि यह तो जांच के बाद ही पता चलेगा कि आखिर जितेंद्र सिंह चौहान ने किस वजह से अपनी जिंदगी को दांव पर लगा दिया।

You may also like

MERA DDDD DDD DD