[gtranslate]
Country world

किसानों के समर्थन में आया संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद

किसान आंदोलन को लेकर केंद्र सरकार पूरी तरह घिर चुकी है। किसानों के समर्थन में जब से विदेश के लोगों ने हस्तक्षेप किया तब से सरकार को काफी हद तक झुकना पड़ रहा है। यही नहीं विदेश मंत्रालय को सामने आकर बयान जारी करना पड़ रहा है। अब किसानों के समर्थन में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद भी आ गया है। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद ने किसानों और प्रशासन से संयम बरतने की अपील की है। इससे पहले कई अंतर्राष्ट्रीय कलाकारों ने किसानों के आंदोलन का समर्थन किया है। किसान पिछले दो महीनों से अधिक समय से दिल्ली की सीमाओं पर नये तीन कृषि कानूनों को लेकर आंदोलरत है।

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार ने अपने ट्वीट में कहा कि “हम अधिकारियों और प्रदर्शनकारियों से आह्वान करते हैं कि चल रहे #FarmersProtests में अधिकतम संयम बरतें। शांतिपूर्ण विधानसभा और अभिव्यक्ति के अधिकारों को ऑफ़लाइन और ऑनलाइन दोनों संरक्षित किया जाना चाहिए। सभी के लिए सम्मान के कारण उचित समाधान खोजना महत्वपूर्ण है। हालांकि जैसे ही अंतर्राष्ट्रीय पॉप गायिका रिहाना ने किसानों के समर्थन में ट्वीट किया उसके तुरंत बाद भारत के विदेश मंत्रालय ने ट्वीट कर उसका जवाब दिया था। इसके बाद अमेरिका के मंत्रालय ने बुधवार को अपने बयान में कहा था कि तीन कृषि कानूनों से भारतीय बाजार की कार्यक्षमता में सुधार होगा, और निजी निवेश बढ़ेगा। इतना ही नहीं अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने किसानों के प्रदर्शन पर बात करते हुए कहा था कि शांतिपूर्ण प्रदर्शन संपन्न लोकतंत्र की पहचान हैं।

बता दें कि रिहाना ने किसानों के समर्थन में और इंटरनेट बंद किए जाने पर ट्वीट कर कहा था कि इनके बारें में कोई क्यों नहीं बात कर रहा। रिहाना के अलावा जलवायु परिवर्तन कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग ने भी किसानों का समर्थन किया था। थनबर्ग ने किसान आंदोलन से जुड़े टूलकिट को भी शेयर की थी। जिसके बाद दिल्ली पुलिल ने ग्रेटा के खिलाफ एफआईआर की दर्ज की है। ग्रेटा द्वारा शेयर की गई टूलकिट की जांच में जुटी दिल्ली पुलिस ने गूगल और दूसरे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स से इसे तैयार करने वाले लोगों से जुड़ी ईमेल आईडी, URL और अकाउंट की जानकारी मांगी है।

यह जानकारी मिलने के बाद पुलिस अपनी जांच को आगे बढ़ाएगी। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि असली दस्तावेज सामने आने के बाद जांचकर्ताओं को इस टूलकिट को तैयार करने वाले लोगों और इसे शेयर करने वाले लोगों की पहचान में आसानी होगी।

You may also like

MERA DDDD DDD DD