[gtranslate]
Country

जादवपुर विश्वविद्यालय में केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो का घेराव ,दिखाएं काले झंडे

केंद्रीय पर्यावरण राज्यमंत्री बाबुल सुप्रियो के अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यक्रम में शामिल होने को लेकर 19 सितंबर को पश्चिम बंगाल के जादवपुर विश्वविद्यालय में जमकर बवाल हुआ। केंद्रीय मंत्री सुप्रियो गुरुवार की शाम को भाजपा से जुड़े अखिल भारतीय विद्यार्थी छात्र संगठन के एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए विश्वविद्यालय गए थे।  जहां विश्वविद्यालय के छात्रों के एक समूह द्वारा उन्हें काले झंडे दिखाए गए व उनका घेराव करते हुए उन्हें कैंपस में प्रवेश और बाद में  बाहर जाने से रोक दिया गया। मंत्री बाबुल सुप्रियो एबीवीपी द्वारा आयोजित एक संगोष्ठी को संबोधित करने के लिए दोपहर ढाई बजे विश्वविद्यालय आए थे । जहां छात्रों ने आरंभ में ‘बाबुल सुप्रियो वापस जाओ’ के नारे लगाते हुए करीब डेढ़ घंटे तक सुप्रियो को कैंपस में प्रवेश करने से रोका।
इस पर सुप्रियो ने कहा कि किसी भी घटना के लिए राज्य में तृणमूल सरकार जिम्मेदार होगी। भारी सुरक्षा के बीच संगोष्ठी में शिरकत करने वाले सुप्रियो ने कैंपस में संवाददाताओं से कहा, “मैं यहां राजनीति करने नहीं आया हूं। विश्वविद्यालय के कुछ छात्रों के व्यवहार से दुखी हूं, जिस तरह उन्होंने मेरा घेराव किया । उन्होंने मेरे बाल खींचे और मुझे धक्का दिया।’’-बाबुल सुप्रियो
शाम पांच बजे परिसर से बाहर निकलते समय भी भाजपा नेता को विरोध-प्रदर्शन का सामना करना पड़ा । घटना के बाद बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों के साथ पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ विश्वविद्यालय पहुंचे। विश्वविद्यालय के कुलाधिपति राज्यपाल के सामने भी वामपंथी छात्र संगठनों- एसएफआई, एएफएसयू, एफईटीएसयू और आईसा और टीएमसीपी से जुड़े छात्रों ने प्रदर्शन किया। छात्रों ने उनका रास्ता रोक दिया और उनके वाहन के बोनट पर प्रहार भी किया। इस बीच पुलिसकर्मी छात्रों से हटने का अनुरोध करते रहे। यादवपुर विश्वविद्यालय अध्यापक संघ (जेयूटीए) के एक प्रवक्ता ने बताया कि छात्रों को मनाने के लिए अध्यापक आगे आए जिसके बाद राज्यपाल धनखड़ केंद्रीय मंत्री और बाबुल सुप्रियो शाम में वहां से रवाना हुए।राज्यपाल धनखड़ ने कहा कि विश्वविद्यालय में छात्रों के एक समूह द्वारा केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो का घेराव किया जाना एक गंभीर मुद्दा है। उन्होंने घटना के संबंध में राज्य के मुख्य सचिव को तुरंत कदम उठाने को कहा। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और पार्टी के पश्चिम बंगाल मामलों के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि यह घटना राज्य में बिगड़ती कानून व्यवस्था का पर्याप्त सबूत है।
भाजपा के राष्‍ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि माकपा का प्रजातंत्र पर कभी विश्वास नहीं रहा है। बंगाल में यदि गणतंत्र नहीं है, तो इसमें सबसे बड़ा हाथ 34 साल की वामपंथी सरकार का है, जिन्होंने प्रजातंत्र की हर दिन धज्जियां उड़ाई। अभी भी वही परंपरा कायम है।
इससे पहले जादवपुर विवि 2017 में उस वक्त बेहद सुर्खियों में रहा था, जब फाइन आर्ट्स विभाग के बाहर छात्रों ने कश्मीर, मणिपुर और नगालैंड के लिए ‘आजादी’ के नारे लगाए थे ।

You may also like

MERA DDDD DDD DD