[gtranslate]
Country

इतिहास में दर्ज हुआ यह साल

देश के लिए साल 2021 काफी उथल- पुथल भरा और राजनीतिक चर्चाओं का रहा है। जहां साल की शुरुआत तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों के गुस्से से हुई तो साल का अंत
ओमीक्राॅन से हो रहा है। साल 2021 में कोरोना वायरस ने ऐसा कहर बरपाया कि अर्थव्यवस्था त्राहिमाम कर उठी। एक और कोरोना अपना प्रभाव फैला रहा था तो दूसरी ओर देश की जनता कोरोना के भय के साए में थी। आॅक्सीजन की कमी, अस्पतालों में बेड की किल्लत, संक्रमण से बचाव के लिए लगे प्रतिबंध को लोगों ने इस साल भी झेला। लेकिन कोरोना से हटकर भी देश में कई बड़ी घटनाएं हुईं जो देश के इतिहास में हमेशा के लिए दर्ज हो गईं। इन घटनाओं को लोग हमेशा याद करेंगे

गणतंत्र दिवस के मौके पर हिंसा

तीन कृषि कानून के विरोध में साल 2020 से दिल्ली के सीमाओं पर बैठे किसान आंदोलन कर रहे थे। साल के शुरुआत में किसानों का गुस्सा फूटा। गणतंत्र दिवस के मौके पर किसानों ने ट्रैक्टर मार्च निकाला। जब किसान लाल किले की ओर बढ़े तो जमकर लाठीचार्ज हुआ। पुलिस और किसानों के बीच विवाद बढ़ा। किसान उग्र हो गए। कुछ उग्र आंदोलनकारी लाल किले पर चढ़ गए और निशान साहिब का झंडा लहराने लगे। यह ट्रैक्टर मार्च गणतंत्र दिवस हिंसा में तब्दील हो गई जिसमें कई लोग घायल हुए, सरकारी संपत्ति का नुकसान हुआ। इसके बाद जिस किसान आंदोलन को जनता का समर्थन मिला हुआ था वो धीरे-धीरे खत्म होने लगा था। लेकिन किसान नेता राकेश टिकैत के आंसुओं ने किसान आंदोलन को फिर जीवित कर दिया।

 

बंगाल में चुनाव और हिंसा


इस साल की सबसे प्रमुख राजनीतिक घटनाओं में पहले स्थान पर पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी की शिकस्त मानी जा सकती है। पश्चिम बंगाल में हुए विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस सत्ता बचाने में कामयाब रही। लेकिन चुनाव के बाद राज्य में हिंसा भड़क गई। हिंसा के दौरान कई परिवारो ने अपने परिजनों को खोया।

कोविड की दूसरी लहर और ऑक्सीजन  संकट


देश में कोरोना की दूसरी लहर का दौर काफी मुश्किल भरा रहा है। इस दौरान कोरोना के ‘डेल्टा स्ट्रेन’ ने सबको डरा कर रख दिया। इस वेब में कई लोग संक्रमित हो रहे थे और सांस लेने में तकलीफ के कारण अस्पताल में भर्ती हो रहे थे। अस्पताल के बाहर मरीजों की कतार का वो मंजर शायद ही कोई भूल पाएगा। वहीं लोगों को ऑक्सीजन  सिलेंडर और रेमडेसिविर के लिए भी बहुत भटकना पड़ा।

टोक्यो से खुशखबरी


इसी साल जापान में हुए टोक्यो ओलंपिक भारत के लिए बेहतर रहा। टोक्यो ओलंपिक में भारत के खिलाड़ियों ने 7 पदक हासिल किए। जिसमें नीरज चोपड़ा ने जेवलिन थ्रो में भारत के लिए गोल्ड मेडल जीता। वहीं भारतीय पुरुष हाॅकी टीम ने 41 साल बाद हाॅकी में मेडल हासिल किया। भारत के लिए ये किसी जश्न से कम नहीं था। भारत सरकार ने वर्षों से खिलाड़ियों को दिए जाने वाले राजीव गांधी खेलरत्न पुरस्कार का नाम बदल कर हाॅकी के जादूगर कहे जाने वाले मेजर ध्यानचंद के नाम पर कर दिया।

भारत ने तोड़ा 1 बिलियन कोविड-19 वैक्सीन का रिकाॅर्ड


कोरोना की दूसरी लहर के बीच भारत में राहत उस समय मिली जब देश में कोरोना के केस कम होने लगे और देश के लोगों को वैक्सीन लगने लगी। इसी दौरान भारत के नाम एक बड़ी उपलब्धि जुड़ गई। दुनिया में भारत वैक्सीनेशन में 100 करोड़ का आंकड़ा पूरा करने वाला पहला देश बन गया।

पैंडोरा पेपर लीक
इसी साल पैंडोरा पेपर लीक ने देश को हैरान कर दिया। इस पैंडोरा पेपर लीक में 90 देशों के सैकड़ों नेताओं और जानी मानी हस्तियों के नाम सामने आए, जिन्होंने अपने धन को छुपाने के लिए गुप्त कंपनियों का इस्तेमाल किया। भारत के लिए यह खुलासा इसलिए बड़ा था क्योंकि पैंडोरा पेपर लीक में क्रिकेट सचिन तेंदुलकर का नाम भी आया था। इस लिस्ट में 300 भारतीयों के नाम सामने आए थे।

वेलकम बैक एयर इंडिया


भारत की सरकारी हवाई उड़ान कंपनी एयर इंडिया लंबे समय से घाटे में चल रही थी। सरकार ने इसकी नीलामी करने का फैसला किया और टाटा संस ने एयर इंडिया को खरीद लिया। एयर इंडिया को खरीदने के लिए 18 हजार करोड़ रुपये की बोली लगाई गई। टाटा संस द्वारा बोली जीतने पर रतन टाटा ने कहा था, ‘वेलकम बैक एयर इंडिया।’ एयर इंडिया को 1932 में जेआरडी टाटा ने ‘टाटा एयरलाइंस’ के नाम से शुरू किया था।

लखीमपुर खीरी कांड


किसान आंदोलन को जब भी याद किया जाएगा तो लखीमपुर खीरी कांड को स्मरण कर सबकी आंखंे जरूर नम होगी। 3 अक्टूबर को लखीमपुर खीरी में प्रदर्शन कर रहे किसानों पर गाड़ी चढ़ा दी गई। इस घटना में चार किसानों ने अपनी जान गंवा दी। इस कांड में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे का नाम बतौर मुख्य आरोपी सामने आया है।

किसानों की घर वापसी
यह साल खास है क्योंकि इस साल के अंत में 378 दिन से चल रहे किसान आंदोलन को खत्म किया गया। केंद्र द्वारा तीन कृषि कानून को वापस लेने के एलान के साथ ही 11 दिसंबर को किसानों ने घर लौटना शुरू कर दिया। इस दिन को किसानों ने विजय दिवस के रूप में मनाया।

सीडीएस बिपिन रावत का निधन

इस साल के आखिरी महीने की शुरुआत में भारत के लिए दुख की घड़ी आई, जब वायुसेना का एमआई 17 हेलीकाॅप्टर क्रैश हो गया। इस दौरान सेना के सबसे बड़े अधिकारी सीडीएस जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी सहित 14 लोग हेलीकाॅप्टर में सवार थे, जिसमें सेना के कई बड़े अफसर शामिल थे। सभी को इस हादसे में देश ने खो दिया।

हरनाज बनी मिस यूनिवर्स


वर्ष 2021 जाते- जाते भारत के लिए खुशखबरी लेकर आईं। सुष्मिता सेन और लारा दत्ता के बाद भारत की बेटी हरनाज कौर संधू को मिस यूनिवर्स 2021 का खिताब मिला। यह खिताब 21 सालों बाद भारत को मिला है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD