[gtranslate]
Country

कटघरे में ‘खाकी- द बिहार चैप्टर’ के रीयल हीरो

पिछले कुछ दिनों से नेटफ्लिक्स पर वेब सीरीज ‘खाकी- द बिहार चैप्टर’ की चर्चा हो रही है। इस वेब सीरीज में असल जिंदगी के आईपीएस पुलिस अफसर अमित लोढ़ा के जीवन की घटनाओं को कहानी के रूप में पेश किया गया है। एक ओर जहां यह वेब सीरीज दर्शकों के बीच लोकप्रिय हो रही है, वहीं दूसरी तरफ अब यह बात सामने आई है कि अमित लोढ़ा को भ्रष्टाचार के आरोप में निलंबित कर दिया गया है। ऐसे में इस वेब सीरीज की लोकप्रियता पर असर पड़ने की आशंका जताई जा रही है। लोढ़ा पर वित्तीय लाभ के लिए स्पेशल विजिलेंस यूनिट (SVU) ने अपने पद का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया गया है।

अमित लोढ़ा की किताब ‘द बिहार डायरीज’

अमित लोढ़ा ने ‘द बिहार डायरीज’ किताब लिखी है। इस किताब में उनके करियर के कई आपराधिक मामलों का जिक्र है। इनमें से एक मामले पर आधारित एक वेबसीरीज बेटेली खाकी का हाल ही में नेटफ्लिक्स पर प्रीमियर हुआ। एक मोस्ट वांटेड गैंगस्टर को बिहार पुलिस ने कैसे पकड़ा उसकी कहानी वेब सीरीज में दिखाई गई है।

अमित लोढ़ा पर आरोप

अमित लोढ़ा पर पद के दुरुपयोग का आरोप लगा है। पुलिस के मुताबिक, आईपीएस अधिकारी होने और सरकारी नौकरी करने वाले अमित लोढ़ा का प्रोडक्शन हाउस फ्राइडे स्टोरीटेलर्स के साथ नेटफ्लिक्स के साथ वित्तीय लेन-देन था। इससे उन्हें आर्थिक लाभ हुआ। विभाग की ओर से हुई जांच में अमित लोढ़ा पर लगे आरोप सही साबित हुए हैं।

खबरों के अनुसार, प्रोडक्शन हाउस के साथ उनका सौदा कथित तौर पर कुछ रुपए का बताया जा रहा है। लेकिन पुलिस की ओर से दावा किया जा रहा है कि उनकी पत्नी के खाते में 49 लाख रुपये का लेनदेन हुआ था। इसके साथ ही प्रोडक्शन हाउस के साथ डील फाइनल होने से पहले ही पत्नी के खाते में कुछ पैसे जमा कर दिए गए थे। वहीं अमित लोढ़ा के बारे में कहा गया कि पुलिस महानिरीक्षक के रूप में तैनात होने के बाद से ही वे “अवैध रूप से” वसूली कर रहे थे। इसी जांच के आधार पर सात दिसंबर को अमित लोढ़ा के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया गया था। इस मामले में आगे की जांच पुलिस उपाधीक्षक स्तर के अधिकारी करेंगे।

यह भी पढ़ें : किन्नरों को खाकी वर्दी पहनाने वाला दूसरा राज्य बनेगा बिहार

You may also like

MERA DDDD DDD DD