[gtranslate]
Country

प्रधानमंत्री ने कहा कि किसानों से बातचीत का रास्ता खुला है 

बजट पेश होने से पहले प्रधानमंत्री ने  विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं से कहा कि उनकी सरकार प्रदर्शनकारी किसानों की ओर से उठाए गए मुद्दों का बातचीत के जरिए समाधान निकालने का निरंतर प्रयास कर रही है| . संसद में विभिन्न दलों के नेताओं की डिजिटल बैठक में मोदी ने यह भी कहा कि तीन कृषि कानूनों को लेकर केंद्रीय कृषि मंत्री ने जो प्रस्ताव दिया था केंद्र सरकार आज भी उस पर कायम है.| पीएम मोदी ने सभी पार्टी के नेताओं से कहा कि किसान और सरकार के बीच बातचीत का रास्ता हमेशा खुला है। उन्होंने कहा कि मैं नरेंद्र तोमर की बात दोहराना चाहूंगा। भले ही सरकार और किसान आम सहमति पर नहीं पहुंचे हैं, लेकिन हम किसानों के सामने विकल्प रख रहे हैं। वो इस पर चर्चा करें।

सरकार की तरफ से सभी विपक्षी दलों को आश्वस्त किया गया है कि सरकार कृषि सम्बंधित कानूनों समेत सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए तैयार है। पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में सर्वदलीय बैठक में कांग्रेस नेता गुलाम नबी आज़ाद, टीएमसी के सुदीप बंद्योपाध्याय, शिवसेना सांसद विनायक राउत, और एसएडी के बलविंदर सिंह भांडेर ने किसान आंदोलन पर लंबी बात की। वहीं जेडीयू सांसद आरसीपी सिंह ने कानूनों का समर्थन किया।

बजट सत्र में कल 20 विपक्षी पार्टी ने राष्ट्रपति के अभिभाषण का बहिष्कार  किया था | बजट सत्र में हंगामा ना हो लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने शुक्रवार को सभी सदस्यों  के साथ मीटिंग में कहा कि सदन सुचारु रूप से चले | जो दल मुद्दा रखना चाहेगा उसे पर्याप्त  अवसर दिया जायेगा,सभी दलों से आग्रह किया गया हैं कि संसद की मर्यादा  रखें |

गौरतलब है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद  ने बजट सत्र की शुरुआत करते हुए सेंट्रल हॉल में अभिभाषण दिया था|  उन्होंने मोदी सरकार की उपलब्धियों के बारे में जानकारी दी|  राम मंदिर और अनुच्छेद 370 का जिक्र करते हुए राष्ट्रपति ने कहा, ‘पिछले कुछ वर्षों में देश ने अनेक ऐसे काम कर दिखाए हैं, जिनको कभी बहुत कठिन माना जाता था|  आर्टिकल 370 के प्रावधानों के हटने के बाद जम्मू-कश्मीर के लोगों को नए अधिकार मिले हैं|  उच्चतम न्यायालय के फैसले के उपरांत भव्य राम मंदिर का निर्माण शुरू हो चुका है|

You may also like

MERA DDDD DDD DD