[gtranslate]
Country

सिर पर चढ़ा मेटावर्स का जादू, पुराना हुआ इंटरनेट

मेटावर्स

एलन मस्क का सपना लोगों को मंगल ग्रह पर भेजने का है। यह सपना कब पूरा होगा, यह स्पष्ट नहीं है। लेकिन उससे पहले लोग एक नई दुनिया में प्रवेश करेंगे और उस दुनिया को मेटावर्स कहा जाता है। मेटावर्स एक ऐसी दुनिया है जो वास्तविक नहीं है, लेकिन इस आभासी दुनिया में भी आप जमीन खरीद सकते हैं, अपना घर बना सकते हैं, व्यापार कर सकते हैं, पैसा कमा सकते हैं। आप वास्तविक दुनिया में सब कुछ कर सकते हैं।

चांद-तारों के पार भी एक दुनिया है। पौराणिक कथाओं में हमने उस दुनिया के बारे में बहुत कुछ सुना है। उन्होंने कई फिल्मों में भी दुनिया देखी है। जिसमें देवी-देवता, यक्ष, गंधर्व और किन्नर एक पल में मृत्यु से भगवान और स्वर्ग से स्वर्ग तक जा सकते थे। ऐसी दुनिया अब हमें मेटावर्स के रूप में शामिल करने की तैयारी कर रही है। यह कहना कोई अतिशयोक्ति नहीं है कि अगले 10 से 15 वर्षों में हम एक नई दुनिया में स्थानांतरित हो जाएंगे, जिस तरह से मेटावर्स तकनीक में प्रगति की जा रही है।

क्रिप्टोकरेंसी वर्तमान में दुनिया में प्रमुख मुद्रा है। लेकिन अगले कुछ वर्षों में मेटावर्स शब्द का चलन होगा। मेटावर्स वास्तव में एक ऐसी आभासी दुनिया है। जिसमें हम वह सब कुछ कर पाएंगे जो हम वर्तमान में वास्तविक दुनिया में कर रहे हैं। वर्तमान दुनिया में अपनी उपस्थिति के बावजूद हम मेटावर्स की दुनिया के किसी भी हिस्से में उपस्थित हो सकेंगे। जिस तरह हमें वर्तमान दुनिया में रहने के लिए जमीन और घर की जरूरत है। उसी तरह हम उल्काओं की दुनिया में रहने के लिए जमीन का एक भूखंड खरीद सकेंगे और उस पर एक घर बना सकेंगे। जिसकी शुरुआत हो चुकी है।

लोग दुकानें खोलने और संगीत कार्यक्रम आयोजित करने के लिए भूखंड खरीद रहे हैं। हालांकि इस आभासी दुनिया में आपको प्लॉट और दुकान खरीदने के लिए असली पैसे देने पड़ते हैं। फिर भी मेटावॉर्स की दुनिया में नए भूमि अधिग्रहण रिकॉर्ड स्थापित किए जा रहे हैं। आइए इस तथ्य पर एक नजर डालते हैं कि अमेरिकी वीडियो गेम कंपनी के डेवलपर रिपब्लिक रियल ने 32 करोड़ रुपये में जमीन खरीदी है, हांगकांग के अरबपति ने मेटावार्स में एक बड़ा भूखंड खरीदा है, वह मेटावार्स पर एक जीपीए पेल्विस बनाना चाहता है। Tokens.com ने पहले मेटावार्स में 2.43 मिलियन की साजिश रची थी, जो न्यूयॉर्क स्थित एक रियल एस्टेट कंपनी है जो लोकप्रिय मेटावार्स प्लेटफॉर्म सैंडबॉक्स मेटावर्स पर जमीन बेच रही है।

लोग मेटावार्स में वर्चुअल प्लॉट क्यों खरीद रहे होंगे?

आप सोच रहे होंगे कि लोग करोड़ों रुपये देकर मेटावार्स में वर्चुअल प्लॉट क्यों खरीद रहे हैं। तो मैं आपको बता दूं कि जहां फेसबुक और माइक्रोसॉफ्ट समेत दुनिया के कई दिग्गज मेटावर्स की दुनिया को विकसित करने के लिए अरबों रुपये का निवेश कर रहे हैं, वहीं मध्यम वर्ग के लोग भी उस दुनिया में निवेश कर रहे हैं और भविष्य में निवेश करने के लिए एक प्लेटफॉर्म तैयार कर रहे हैं।

1992 में स्टीवन स्टीफंस ने उपन्यास में “मेटावर्स” शब्द का किया इस्तेमाल

स्टीवन स्टीफंस ने पहली बार 1992 में अपने विज्ञान कथा उपन्यास स्नो क्रैश में “मेटावर्स” शब्द का इस्तेमाल किया था। उन्होंने कल्पना की कि मेटावर्स एक ऐसा स्थान होगा जहां लोग अपने आभासी अवतारों के माध्यम से एक-दूसरे के साथ समय बिता सकते हैं और सामाजिक, आर्थिक लेनदेन भी कर सकते हैं। यह विचार अब हकीकत में बदल गया है। अब लोग मेटावर्स पर वर्चुअल जमीन खरीदने के लिए अरबों रुपये खर्च कर रहे हैं। मेटावर्स के लिए विभिन्न तकनीकों का उपयोग किया जाएगा। संवर्धित वास्तविकता, आभासी वास्तविकता और वीडियो टूल सहित। इस तकनीक से लोग आभासी दुनिया में डिजिटल रूप से एक साथ रह सकेंगे। यहां आप खेलों में भी हिस्सा ले सकेंगे, और लोगों के साथ बैठकें कर सकेंगे, खरीदारी कर सकेंगे और सामान बेच सकेंगे। सीधे शब्दों में कहें तो एक ऐसी दुनिया जहां आपकी एक अलग पहचान है। आप घर पर होंगे लेकिन आपका दूसरा अवतार मेटावार्स में होगा और आप घर बैठे ही इस पर नियंत्रण रखेंगे।

मेटावर्स सोशल मीडिया के लिए एक नई क्रांति

यहां आपकी उपस्थिति वीडियो प्रारूप से बहुत अलग होगी। मेटावर्स से कनेक्ट होने वाले डिवाइस की मदद से आप उस वास्तविकता का अनुभव करने में सक्षम होंगे जिसका आप आभासी दुनिया में कई लोगों के साथ आनंद ले रहे हैं। जिस तरह सोशल मीडिया के क्षेत्र में फेसबुक का एकाधिकार है, उसी तरह मार्क जुकरबर्ग भी मेटावर्स को एकाधिकार बनाने की कोशिश कर रहे हैं। मेटावर्स सोशल मीडिया के लिए एक नई क्रांति है और कमाई का एक नया प्लेटफॉर्म है। इसलिए इन मेटावर्स की दुनिया में कई कंपनियां अरबों डॉलर का निवेश करने से हिचकिचाती रही हैं।

You may also like

MERA DDDD DDD DD