[gtranslate]
Country

भाजपा विधायक का करीबी बताया जा रहा है बलिया हत्याकांड का आरोपी 

उत्तर प्रदेश  के बलिया में कल 15 अक्टूबर को अफसरों के सामने हत्या की वारदात से प्रशासनिक महकमे  में हड़कंप है। आरोप है कि एसडीएम और सीओ के सामने बीजेपी नेता धीरेंद्र सिंह ने एक शख्स की गोली मारकर हत्या कर दी। डीआईजी ने दावा किया था कि रात तक आरोपी को पकड़ लेंगे , लेकिन अभी पुलिस के हाथ खाली हैं। उधर गाजीपुर में भी लूट और हत्या की वारदात से गंभीर सवाल खड़े हो रहे हैं।

कल  का दिन बलिया और गाजीपुर दोनों ही जिलों के अफसरों के लिए चुनौतीपूर्ण रहा। एक तरफ जहां कोटा आवंटन में गोलीबारी के दौरान बलिया में सरेआम अफसरों की मौजूदगी में हत्या की वारदात हुई। वहीं गाजीपुर में बदमाशों ने सरेराह एक युवक को गोली मारी और बाइक लेकर फरार हो गए। दोनों  मामलों में एक भी आरोपी अभी तक गिरफ्तार नहीं हुआ है। जिस तरह वारदात को अंजाम दिया गया उससे कानून-व्यवस्था पर सवालिया निशान खड़े हो रहे हैं।

 बलिया  में कोटे के आवंटन को लेकर बुलाई गई खुली बैठक में एक शख्स की हत्या के मामले में अब नए खुलासे हो रहे हैं।  मामले में फरार मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह  के बैरिया से बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह  का करीबी होने की बात सामने आई है। बैरिया विधायक सुरेंद्र सिंह द्वारा बीजेपी कार्यकर्ता और आरोपी धीरेंद्र सिंह को मिठाई खिलाते एक तस्वीर सामने आई है।  सूत्रों के अनुसार, दबंग धीरेंद्र सिंह बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह का दाहिना हाथ है। ख़बरों के मुताबिक  धीरेंद्र सिंह पहले भी कई बार अधिकारियों से अभद्रता कर चुका है।  वह आर्मी से रिटायर बताया जाता है।

 

डीआईजी (आजमगढ़) भी बलिया में कैंप कर रहे हैं।  डीआईजी सुभाष चन्द्र दुबे ने कहा कि मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह समेत 8 नामजद और 25 अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज किया गया है।  उन्होंने बताया कि इस केस में पुलिस की लापरवाही सामने आई है।  मौके पर पकड़े जाने के बाद भी मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह भाग निकला।

डीआईजी ने दावा किया कि सभी नामजद आरोपियों को पुलिस जल्द ही गिरफ्तार कर लेगी। मामले में लापरवाही बरतने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी।  उन्होंने बताया कि खुली पंचायत में मौजूद अफसरों के खिलाफ शासन ने कार्रवाई की है।

दरअसल बलिया जिले की ग्राम सभा दुर्जनपुर व हनुमानगंज की कोटे की दो दुकानों के आवंटन के लिए कल 15 अक्टूबर  को पंचायत भवन में खुली बैठक का आयोजन किया गया था।  इसमें बैरिया के एसडीएम सुरेश पाल, सीओ चंद्रकेश सिंह और बीडीओ गजेंद्र प्रताप सिंह के साथ ही रेवती थाने की पुलिस फोर्स मौजूद थी।
दुकानों के लिए 4 स्वयं सहायता समूहों ने आवेदन किया, जिसमें 2 समूहों मां सायर जगदंबा स्वयं सहायता समूह और शिव शक्ति स्वयं सहायता समूह के बीच मतदान कराने का निर्णय लिया गया। अधिकारियों ने कहा कि वोटिंग वही करेगा, जिसके पास आधार अथवा अन्य कोई पहचान पत्र होगा।  एक पक्ष के पास आधार व पहचान पत्र मौजूद था, लेकिन दूसरे पक्ष के पास कोई आईडी प्रूफ नहीं था।  इसको लेकर दोनों पक्षों के बीच विवाद शुरू हो गया। मामला बिगड़ता देख बैठक की कार्रवाई को स्थगित कर अधिकारी चले गए।
अधिकारियों के जाने के बाद मौके पर मौजूद रेवती पुलिस दोनों पक्षों को समझाने और विवाद शांत करने में जुट गई , जबकि एक पक्ष अधिकारियों पर पक्षपात करने का आरोप लगाते हुए नारेबाजी करने लगा।  इसी दौरान दूसरे पक्ष के लोगों से भिड़ंत हो गई। बात बढ़ी तो लाठी-डंडे के साथ ही ईंट-पत्थर चलने लगे।  इसी बीच एक पक्ष की ओर से फायरिंग शुरू हो गई।  इस दौरान दुर्जनपुर के 46 वर्षीय जयप्रकाश उर्फ गामा पाल को ताबड़तोड़ 4 गोलियां मार दी गई।  गोली चलते ही अफरातफरी मच गई।  जयप्रकाश को लेकर लोग सीएचसी सोनबरसा पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

दूसरी तरफ गाजीपुर में बदमाशों ने साढ़े तीन लाख की नकदी लूट ली। भागते वक्त रास्ते में बाइक खराब हुई तो एक अन्य राहगीर लड़के की बाइक छीनने लगे। विरोध करने पर बदमाशों ने उसे गोली मारी और बाइक छीनकर फरार हो गए। । मौके पर बदमाश अपनी बाइक भी छोड़ गए। यह घटना थाना बरेसर के परसा-तिराहीपुर मार्ग की है। घटना से गुस्साए ग्रामीणों ने रास्ता जाम कर दिया। देर रात डीएम-एसपी पहुंचे तब कहीं जाकर जाम खत्म हुआ।

You may also like

MERA DDDD DDD DD