[gtranslate]
Country

शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला,सार्वजनिक स्थलों को ब्लाक नहीं किया जा सकता 

पिछले छह सात महीने पहले राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली का शाहीन बाग़ काफी चर्चाओं का केंद्र बना । यहां  लगभग 100 दिनों तक CAA के विरोध में  आंदोलन चला।इस मामले में अब  न्यायालय ने बड़ा फैसला दिया है। अदालत ने  पिछले साल दिल्ली में CAA के विरोध में शाहीन बाग में हुए प्रदर्शन पर सुप्रीम कोर्ट ने  अपने फैसले में कहा कि कोई भी व्यक्ति या समूह सार्वजनिक  स्थानों को ब्लॉक नहीं कर सकता है।  कोर्ट ने कहा कि पब्लिक प्लेस पर अनिश्चितकाल के लिए कब्जा नहीं  किया जा सकता।

कोर्ट ने कहा  CAA के विरोध में बड़ी संख्या में लोग जमा हुए थे, रास्ते को प्रदर्शनकारियों ने ब्लॉक किया।  कोर्ट ने इस  मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट से अलग-अलग फैसला दिया गया ।  कोर्ट ने कहा कि सार्वजनिक स्थानों और सड़कों पर अनिश्चित काल तक कब्जा नहीं किया जा सकता है। विरोध जताने के लिए पब्लिक प्लेस या रास्ते को ब्लॉक नहीं किया जा सकता। शीर्ष अदालत ने कहा कि अधिकारियों को इस तरह के अवरोध को हटाना चाहिए।

विरोध प्रदर्शन तय जगहों पर ही होना चाहिए। अदालत ने कहा कि प्रदर्शनकारियों के सार्वजनिक जगहों पर प्रदर्शन करना  लोगों के अधिकारों का हनन है। कानून में इसकी इजाजत नहीं है।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आवागमन का अधिकार अनिश्चित काल तक रोका नहीं जा सकता। शाहीन बाग में मध्यस्थता के प्रयास सफल नहीं हुए, लेकिन हमें कोई पछतावा नहीं है।  कोर्ट ने कहा सार्वजनिक बैठकों पर प्रतिबंध नहीं लगाया जा सकता है लेकिन उन्हें निर्दिष्ट क्षेत्रों में होना चाहिए।  संविधान विरोध करने का अधिकार देता है लेकिन इसे समान कर्तव्यों के साथ जोड़ा जाना चाहिए।

बता दें कि नागरिकता कानून के विरोध में शाहीन बाग में 100 दिनों से ज्यादा दिन तक लोग धरने पर बैठे थे। लेकिन कोरोना वायरस के कारण दिल्ली में धारा 144 लागू होने के बाद पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को वहां से हटा दिया था। शाहीन बाग प्रदर्शनकारियों को वहां से हटाने के लिए शीर्ष अदालत में भी अपील की गई थी। बता दें कि धरना के कारण कई सड़कों को बंद कर दिया गया था और लोगों को आवाजाही में दिक्कतें होती थीं।

You may also like

MERA DDDD DDD DD