[gtranslate]
Country

सुपर पावर अमेरिका ने कोरोना उत्पत्ति पर खड़े किए हाथ

कोरोना

अमेरिकी खुफिया एजेंसियों ने कहा है कि वे कभी नहीं जान पाएंगे कि कोरोना वायरस की उत्पत्ति कहां से हुई ? एक नई रिपोर्ट में खुफिया एजेंसियों ने जानवरों से इंसानों में या प्रयोगशालाओं से लीक होने वाले कोरोना वायरस पर विस्तृत जानकारी प्रदान की है। अमेरिकी राष्ट्रीय खुफिया निदेशक (ओडीएनआई) के कार्यालय का कहना है कि प्राकृतिक उत्पत्ति और प्रयोगशाला से लीक होना दोनों ही परिकल्पनाएं हैं। लेकिन विश्लेषक इस बात से असहमत हैं कि किसका मूल्यांकन किए जाने की सबसे अधिक संभावना है।

रिपोर्ट में इस बात का भी खंडन किया गया है कि कोरोना वायरस को जैव हथियार बताया गया था। इस सिद्धांत के समर्थकों की वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी तक सीधी पहुंच नहीं है। रिपोर्ट अगस्त में अमेरिकी राष्ट्रपति को जारी की गई 90-दिवसीय समीक्षा का अनुसरण करती है।

कुछ अमेरिकी खुफिया एजेंसियों ने दृढ़ता से तर्क दिया है कि कोरोना वायरस की उत्पत्ति प्राकृतिक है। लेकिन इस बात की पुष्टि नहीं हुई है। ओडीएनआई की रिपोर्ट में पाया गया कि चार खुफिया एजेंसियां ​​और एक संगठन इस बात से कम आश्वस्त थे कि कोरोना वायरस की उत्पत्ति किसी संक्रमित जानवर या संबंधित वायरस से हुई है। अमेरिकी खुफिया एजेंसियों का मानना ​​है कि वे नई जानकारी के बिना कोरोना वायरस की उत्पत्ति के लिए निश्चित स्पष्टीकरण नहीं दे पाएंगे।

यह भी पढ़ें : वैक्सीनेटेड लोग भी फैला सकते हैं कोरोना का डेल्टा वेरिएंट : स्टडी

चीन ने कोरोना वायरस की उत्पत्ति की जांच में विश्व स्वास्थ्य संगठन का सहयोग नहीं किया है, जिसके कारण शी जिनपिंग सरकार की आलोचना हुई है। अभी तक चीन ने नई रिपोर्ट पर कोई टिप्पणी नहीं की है।

पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने बार-बार कोविड -19 को “चाइना वायरस” बताया है। कुछ अमेरिकी खुफिया एजेंसियों ने इस स्पष्टीकरण का पुरजोर समर्थन किया है कि वायरस की उत्पत्ति नेचुरल है। लेकिन इसकी पुष्टि कम हुई है, और हाल के महीनों में वायरस बड़ी संख्या में और स्वाभाविक रूप से वन्यजीवों में फैल गया है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD