[gtranslate]
Country

आगरा में बच्चा बेचने के प्रकरण में कामयाबी, माँ को मिला मासूम, हॉस्पिटल सील

आगरा में चौथे स्तंभ की शक्ति का एक बार उस समय फिर एहसास हुआ जब एक गरीब दंपति को उसका बच्चा वापस मिल गया । आगरा में रिक्शा चालक के द्वारा डिलीवरी होने के बाद हॉस्पीटल को 35 हजार का बिल न चुका पाने के चलते डॉक्टर ने उनके बच्चे को ही एक लाख में बेच दिया था । उसके बाद मीडिया ने यह मामला प्रमुखता से उजागर किया था । इसके बाद डॉक्टर ने जिस व्यक्ति को बच्चा बेचा था । वह बच्चे को लौटाने पर मजबूर हो गया और एक बेबस मां को उसका मासूम मिल गया। फिलहाल प्रशासन ने इस घटना के बाद हॉस्पिटल पर सील लगा दी।

आगरा के जेपी अस्पताल में प्रसव की कीमत न चुकाने पर डॉक्टर ने उसका बच्चा बेच दिया था। मामले की उच्चाधिकारियों से शिकायत की गयी थी । मामला मीडिया संज्ञान में लाया गया तो प्रशासन हरकत में आया। सीओ और एसीएम पीड़ित परिवार से घर जाकर मिले। बयान दर्ज किए।

इस दौरान बच्चा खरीदने वालों को ढूंढा और रात 11 बजे पुलिस पीड़ित दम्पति को ले गई और बच्चा सुपुर्द कराया। लेकिन इसके साथ ही सुलगता सवाल यह है कि हॉस्पिटल मालिक पर रिपोर्ट दर्ज क्यों नही कराई गई, और उसे पुलिस द्वारा गिरफ्तार क्यों नही किया जा रहा है ?

गौरतलब है कि गत 24 अगस्त को शंभू की पत्नी बबीता को प्रसव पीड़ा हुई । तब एक आशा वर्कर उनके घर आई और बबिता को वह फ्री में डिलीवरी करवाने का आश्वासन देने लगी। शिवनारायण की मानें तो उन लोगों का नाम आयुष्मान भारत योजना में नहीं था, लेकिन आशा ने कहा कि फ्री में इलाज करवा देगी। जब बबिता अस्पताल पहुंची तो अस्पताल वालों ने कहा कि सर्जरी करनी पड़ेगी।

24 अगस्त की शाम 6 बजकर 45 मिनट पर उसने एक लड़के को जन्म दिया। तब डिस्चार्ज होने से पहले अस्पताल वालों ने उन लोगों को करीब 35 हजार रुपए का बिल थमाया। अस्पताल का नाम जेपी हॉस्पिटल है। गरीब दंपति ने अस्पताल के डॉक्टर और प्रशासन के हाथ पैर जोड़ते हुए अपने पास सिर्फ 500 रुपये होने की बात कही। लेकिन अस्पताल के डाँक्टर जिद पर अड़ गयें।

बताया जाता है कि, इस बात को लेकर डॉक्टर और दंपति के बीच काफी बहस हाे गई। गरीब दंपति ने काफी मिन्नतें करते हुए कहा कि वह रिक्शा चलाकर धीरे-धीरे उनके पैसे चुका देंगे । लेकिन अस्पताल प्रशासन नहीं माना। शिव नारायण के अनुसार हॉस्पिटल के डॉक्टर ने दंपति से एक कागज पर अंगूठा लगवा लिया और उनके नवजात शिशु को एक लाख रुपये में बेच दिया। इस तरह दंपति काे बिना बच्चे के ही अस्पताल से लौटना पड़ा था ।

You may also like

MERA DDDD DDD DD