[gtranslate]
Country

शरद यादव की जद ( U ) में होगी वापसी!

 

पूर्व केंद्रीय मंत्री और लोकतांत्रिक जनता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव फिलहाल स्वस्थ होकर अस्पताल से घर लौट आए हैं। लेकिन उनके घर आने के साथ ही राजनीतिक चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है । चर्चाओं का यह दौर तब से शुरू हुआ जब से जनता दल यू के सीनियर लीडर उनसे स्वास्थ्य का हाल चाल पूछने आए। जबकि जेडीयू से नाता तोड़ने के बाद शरद यादव ने कभी इन नेताओं से कोई वास्ता नहीं रखा।

फिलहाल ,चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है कि शरद यादव घर वापसी कर रहे हैं । हो सकता है वह जल्द ही जेडीयू में शामिल हो जाए । कहा यह भी जा रहा है कि शरद यादव बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के रास्ते चलकर अपनी पार्टी का जदयू में विलय कर सकते हैं।

गौरतलब है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री और लोकतांत्रिक जनता दल के अध्यक्ष शरद यादव कुछ दिनों पहले बीमार थे और 30 अगस्त को स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से वापस घर लौटे हैं। विधानसभा चुनाव के मद्देनजर जल्द ही इनके बिहार आने की संभावना है।

याद रहे कि वरिष्ठ नेता शरद यादव ने जेडीयू से नाता तोड़कर 2018 में अपनी नई पार्टी लोकतांत्रिक जनता दल का गठन कर लिया था। 2019 के लोकसभा चुनाव में वह महागठबंधन का हिस्सा बने थे। वह गठबंधन के साथ ही विधानसभा का चुनाव भी लड़े थे। लेकिन मधेपुरा सीट से वह इस चुनाव में हार गए थे।

फिलहाल उन पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार खासे फिदा बताए जा रहे हैं । जब शरद यादव बीमार थे तो उनका हालचाल जानने नीतीश कुमार हॉस्पिटल पहुंचे थे । तभी से ही राजनीतिक चर्चाओं का दौर शुरू हो गया था।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिहार में जब से पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी को अपने साथ लाए हैं तब से ही वह नया राजनीतिक गठजोड़ बनाने की जुगत में लगें हैं । बताया जा रहा है कि मांझी के बाद अब उनका अगला लक्ष्य शरद यादव होंगे। शरद यादव को जनता दल यू में वापस लाकर नीतीश कुमार एक जाति विशेष के मतदाताओं को पार्टी की ओर आकर्षित करने के लिए प्रयासरत है ।

सभी जानते हैं कि बिहार में पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव का एक बड़ा वोट बैंक रहा है। जिस पर फिलहाल मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की नजर है। इसके मद्देनजर ही नीतीश कुमार उन्हें जदयू में वापसी कराने के लिए जी तोड़ मेहनत कर रहे हैं।

दूसरी तरफ शरद की पार्टी लोजद के प्रदेश महासचिव राजेंद्र सिंह यादव ने कहा कि बिहार चुनाव में शरद की अहम भूमिका होगी। हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि शरद यादव जदयू में वापिस लौट रहे हैं या नहीं? जबकि जदयू के प्रदेश प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने सिर्फ यह कहा कि शरद वरिष्ठ समाजवादी नेता हैं। उनकी राजनीति में अलग पहचान है।

याद रहे कि दो दिन पहले ही मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की पार्टी हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा भी जेडीयू के साथ विलय कर गई है। ऐसे में अब देखने वाली बात यह होगी कि पूर्व केंद्रीय मंत्री यादव की लोकतांत्रिक जनता दल मांझी के रास्ते चल कर जेडीयू के साथ आती है। या शरद यादव अपनी पार्टी का विलय जदयू में कराते हैं ?

You may also like

MERA DDDD DDD DD