[gtranslate]
Country

शाहीनबाग़ : सरकार पर जमकर  भड़कीं  कांग्रेस नेता सदफ ज़फर

२९ जनवरी २०२० को करीब साढ़े पांच बजे शाहीनबाग के मंच से एलान हुआ कि लखनऊ से हमारे बीच आ चुकीं हैं समाजसेविका एवं कांग्रेस नेता सदफ ज़फर।  वो मंच पर आयीं , पहले तो माइक्रोफोन के न काम करने की वजह से उनकी आवाज लोगों तक नहीं पहुँच रही थी।  फिर जैसे ही सही माइक उनके हाथों में थमाया गया  कांग्रेसी  नेता सदफ ज़फर ने जमकर केंद्र सरकार पर आरोप लगाना शुरू कर दिया।

 

सरकार पर जमकर  भड़कीं सदफ ज़फर

उन्होंने कहा , ” क्या सरकार को सीएए लागू करने से पहले यह अंदाजा नहीं था कि इसका  लोगों पर गलत असर पड़ेगा और देश का माहौल ख़राब होगा? नागरिकता के लिए तो संविधान में पहले ही कानून है तो अलग से अपना अजेंडा सेट  करने के लिए ही यह सरकार सीएए लायी है। एनआरसी की क्रोनोलॉजी से यह सभी को भर्मित ककर रहें हैं। रामलीला मैदान से प्रधानमंत्री कुछ बोलते हैं और गृहमंत्री संसद में खड़े होकर कुछ बोलते हैं। ”

सदफ ज़फर ने लखनऊ में १९ दिसम्बर को  सीएए विरोध में प्रदर्शन करने के दौरान अपनी गिरफ़्तारी पर भी पुलिस पर गंभीर आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि मुझे पुरुष पुलिस ने बुरी तरह जेल में यातनाएं दी हैं , मेरे बाल को पकड़कर मुझे घसीटा गया है। बेतों से जब मुझे मारा जा रहा था तो मेरे शरीर से खून निकलने लगा।  लेकिन लखनऊ पुलिस फिर भी मुझे बुरी तरह  पीटती रही। ”


बता दें कि 19 दिसंबर को लखनऊ में सीएए के विरोध में आंदोलन के दौरान 100 से ज्यादा लोगों की गिरफ्तारी हुई थी।

  सदफ ज़फर की गिरफ़्तारी परमहासचिव प्रियंका गांधी  की बात

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने यूपी सरकार को यह कहते हुए लताड़ लगाई थी कि इसने “अमानवीयता की सभी हदें पार कर दी हैं।” प्रियंका ने जफर के परिवार के सदस्यों से मिलने के लिए जफर के घर पहुंचते ही ट्वीट किया था  कि, “पुलिस ने बेबुनियाद आरोप लगाकर सदफ को जेल में डाल दिया है।”

शाहीनबाग में ‘दि संडे पोस्ट’ से बात करते हुए सदफ ज़फर ने कहा कि वो सीएए पर  अपना विरोध दर्ज़ कराने  के लिए शाहीनबागआयी हैं। बीस दिनों तक जेल में रहने के बाद , अपने साथ हुई बर्बरता को भी मैं सबसे साँझा करके , लखनऊ पुलिस का असली आमनवीय चेहरा दिखाना चाहती हूँ।

You may also like