[gtranslate]
Country

काशी विश्वनाथ कॉरिडोर पर विवाद की छाया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 13 दिसंबर को काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का उद्घाटन करेंगे। पीएम मोदी के वाराणसी दौरे को लेकर तैयारियां जोरों पर हैं। काशी विश्वनाथ मंदिर की ओर जाने वाले रास्ते को गेरुआ रंग से रंगा जा रहा है। इसी में पड़ने वाली एक के मस्जिद को भी गेरुआ रंग से रंग दिया है। जिसे लेकर विवाद शुरू हो गया है।

 

दरअसल, प्रधानमत्री मोदी काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के उद्घाटन करने जा रहे है। इस कॉरिडोर से बनारस के बुलानाला इलाके में सड़क किनारे एक काफी पुरानी मस्जिद है जिसे बुलानाला मस्जिद भी कहते हैं। इसका रंग सफेद था। जिसे बनारस विकास प्राधिकरण ने सफेद रंग पर हल्का गेरुआ रंग रातोंरात पेंट करा दिया। जिसके बाद इलाके के लोग प्रशासन ने नाराज हो गए।

 

बुलानाला मस्जिद
बुलानाला मस्जिद

इसको लेकर अंजुमन इंतजामियां मसाजिद कमेटी के मोहम्मद एजाज इस्लाही कहना है कि मस्जिद का रंग रातोंरात बदल दिया गया अगर कुछ करना भी था तो एक बार पहले बात कर लेनी चाहिए थी।साथ ही उन्होंने कहा कि ये मनमानी और तानाशाही है। पहले उनकी मस्जिद सफेद हुआ करती थी जो अब केसरिया रंग की तरह हो गई है। इस घटना को लेकरआपत्ति दर्ज कराई है और डीएम से मिलने की कोशिश भी की है, लेकिन मुलाकात नहीं हुई। इसके अलावा काशी विश्वनाथ मंदिर कार्यालय में भी आपत्ति दर्ज कराई कि ये रंग गलत है। इसको हम पहले जैसा सफेद कराएंगे और इसका पूरा खर्चा उनकी कमेटी ही करेगी। जो नुकसान होगा वो खुद भरना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि इस कारस्तानी को लेकर उन लोगों में बहुत नाराजगी है पीएम मोदी कॉरिडोर का उद्घाटन करने जा रहे हैं और ये संदेश देने की कोशिश की जा रही है कि सारे लोग उनके साथ हैं लेकिन ऐसा है नहीं।

बुलानाला मस्जिद में पुताई करता मजदूर

 

वही इस मामले को लेकर अधिकारियो का कहा है कि काशी विश्वनाथ कॉरिडोर की तैयारियों के अलावा ये भी कोशिश की जा रही है कि विभिन्न मार्गों का सुंदरीकरण भी हो जाए। इसलिए गोदौलिया इलाके से लेकर शीतला घाट तक एक रंग में इमारतों को रंगा गया था और अब इस प्रयोग को मैदागिन इलाके से लेकर गोदौलिया इलाके तक किया जा रहा है। इससे सुंदरता और एकरूपता दोनों आएगी। उन्होंने बताया कि इस रंग रगने के पीछे ये सोच थी कि बनारस की ज्यादातर इमारतें बलुआ पत्थर से बनी हुई है, जिसका रंग हल्का पिंक जैसा होता है तो उसी थीम को लेकर वाराणसी विकास प्राधिकरण काम कर रहा है।

 

यह भी पढ़े :अब श्रीकृष्ण जन्मभूमि बनेगी राजनीति का नया अखाड़ा

 

गौरतलब है कि विवाद के बाद वाराणस प्रशासन बैकफुट पर आते हुए मस्जिद को फिर से सफेद रंग में रंग रही है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD