[gtranslate]
Country

सीरम इंस्टीट्यूट 100 देशों को देगा कोरोना वैक्सीन की 1.1 बिलियन डोज

कोरोना का कहर पूरी दुनिया पर बरपा हुआ है। महामारी के कारण लाखों लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि कई देशों में कोरोना का कहर कम हुआ है लेकिन कुछ देशों में कोरोना की दूसरी वेव ने भारी नुकसान पहुंचा रखा है। कई देशों ने कोरोना वैक्सीन बना ली है और वह अपने देशवासियों पर कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण कर रहे हैं। भारत में कोरोना वैक्सीन का सबसे बड़ा टीकाकरण आपरेशन जारी है। वैक्सीनेशन कार्यक्रम के अंतर्गत अभी तक भारत में 45 लाख लोगों को टीकाकरण हो चुका है। भारत द्वारा तैयार की गई वैक्सीन को लेकर पहले लोगों के मन में कई तरह के सवाल थे। लेकिन अब कई देशों ने भारत द्वारा तैयार की गई वैक्सीन को मंजूरी दे दी है।

इस बीच वैक्सीन निर्माता कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और यूनिसेफ ने कोरोना वैक्सीन कोविड़शील्ड और नोवावैक्स की लांग टर्म सप्लाई के लिए समझौता किया है। इस समझौते के अंतर्गत 100 देशों को 1.1 बिलियन डोज की सप्लाई की जाएगी। भारत को दुनिया में इस समय सबसे बड़ा वैक्सीन निर्माता माना जाता है। यहीं कारण है कि दुनिया के कोरोना से ग्रसित देश भारत से वैक्सीन ले रहे है। भारत में दो तरह की कोरोना वैक्सीन है पहली जिसका नाम है कोविड़शील्ड और दूसरी कोवैक्सीन। इन दोनों वैक्सीन को पूरे भारत में इस्तेमाल की आपात मंजूरी मिली है।

UNICEF के समझौते से निम्न व मध्य वर्ग लोगों को मिलेगा फायदा

हाल ही में संयुक्त राष्ट्र बाल कोष यूनिसेफ के कार्यकारी निदेशक हेनरीटा फोर ने सीरम इंस्टीट्यूट के साथ समझौते की घोषणा की है। समझौते की खास बात यह है कि इसके अंतर्गत निम्न व मध्य वर्ग के लोगों को टीका मिल सकेगा। अगर हम आकड़ो की बात करें तो संयुक्त राज्य अमेरिका, इजरायल, ब्रिटेन और भारत ने अपनी आबादी के 40 लाख से अधिक लोगों को वैक्सीन दे दी है।

वर्ल्ड कोरोना बैरोमीटर के अनुसार भारत में 10,803,533 करोड़ लोग कोरोना से संक्रमित है। तो वहीं कोरोना की वजह से अब तक 154,862 लाख लोगों की मौत हो चुकी है। 10,496,308 करोड़ लोग ठीक हो चुके है। भारत में सात अगस्त को संक्रमित लोगों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितंबर को 40 लाख के पार चली गई थी। वहीं, संक्रमण के कुल मामले 16 सितम्बर को 50 लाख, 28 सितम्बर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख और 20 नवम्बर को 90 लाख तथा 19 दिसम्बर को एक करोड़ के पार चले गए थे।

You may also like

MERA DDDD DDD DD