Country Latest news

कच्चे तेल की कीमतों में आई तेजी से 642 अंक गिरा सेंसेक्स , निफ्टी में 186 की गिरावट 

पश्चिम एशिया में बढ़ते भू-राजनीतिक तनाव के कारण कच्चे तेल के दाम में आ रही तेजी को लेकर चिंता के बीच शेयर बाजारों में मंगलवार को बड़ी गिरावट आने से सेंसेक्स 642 अंक गिर गया। निवेशक कच्चे तेल के दाम तेजी से बढ़ने से देश की राजकोषीय सेहत पर पड़ने वाले प्रभाव को लेकर चिंतित हैं। तीस शेयरों वाला सेंसेक्स 642.22 अंक यानी 1.73 प्रतिशत की गिरावट के साथ 36,481.09 अंक पर बंद हुआ।
एक समय सेंसेक्स में 704 अंक तक की गिरावट आ गयी थी। इसी प्रकार नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी भी 185.90 अंक यानी 1.69 प्रतिशत की गिरावट के साथ 10,817.60 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स के शेयरों में जिन शेयरों में अधिक गिरावट दर्ज की गयी, उनमें हीरो मोटो कार्प, टाटा मोटर्स, एक्सिस बैंक, टाटा स्टील, मारुति और एसबीआई शामिल हैं। इन शेयरों में 6.19 प्रतिशत तक की गिरावट आयी है। तीस शेयरों में से केवल एचयूएल, एशियन पेंट्स और इन्फोसिस लाभ में रहे।

बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों ने 1.84 प्रतिशत तक की गिरावट के साथ बेंचमार्क का अनुसरण किया। सोमवार को 20 प्रतिशत से अधिक यूएसडी 71.95 प्रति बैरल तक चढ़ने के बाद, ब्रेंट क्रूड वायदा मंगलवार को यूएसडी 67.97 प्रति बैरल पर कारोबार करने के लिए थोड़ा सही हो गया।

आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने भी सोमवार को चेतावनी दी थी कि अगर तेल की कीमतें ऊंचे स्तर पर रहती हैं तो भारत का चालू खाता और राजकोषीय घाटा बिगड़ सकता है।

कई विशेषज्ञों ने यह भी कहा कि उच्च तेल की कीमतें भारत में आर्थिक स्थिति को गंभीर रूप से प्रभावित करने की संभावना थी, जो कि तेल की जरूरतों का 70 प्रतिशत से अधिक आयात करती है।

सऊदी अरब में दुनिया की सबसे बड़ी तेल प्रसंस्करण सुविधा पर हमले से वैश्विक कच्चे तेल की कीमतों में रिकॉर्ड उछाल आया है।

You may also like