[gtranslate]
Country

मुल्तानी मर्डर केस में पंजाब के पूर्व डीजीपी सैनी को कोर्ट से राहत

पंजाब के पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी को बलवंत सिंह मुल्तानी मर्डर मामले में कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। कोर्ट ने जहां एक ओर उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगाई है, वहीं  पंजाब सरकार को तीन हफ्ते में जवाब दाखिल करने को कहा है। यह फैसला जस्टिस अशोक भूषण जस्टिस आर सुभाष रेड्डी व जस्टिस एमआर शाह की तीन सदस्यीय बैंच ने सुनाया है। कोर्ट ने पूर्व डीजीपी को भी पुलिस करवाई में सहयोग करने को कहा है।

सैनी के वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि “सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए फैसले के 10 साल बाद सैनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया जाना दुर्भावना से प्रेरित व गलत है। ऐसे में जबकि अब वह एक रिटायर्ड पुलिस अधिकारी हैं। उन्होंने कहा, पंजाब सरकार सैनी के पीछे लगी हुई है क्योंकि उन्होंने दो चार्जशीट फाइल की थी जिसमें पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह आरोपी हैं”।

सरकार की ओर से पेश वकील सरतेज सिंह नरूला इसे सैनी को मिली राहत नहीं मान रहे हैं, बल्कि उनका कहना है कि “यह कोर्ट का प्रोसेस है। इसके बाद सरकार का पक्ष कोर्ट के सामने आने पर सैनी की बेल एप्लीकेशन पर बहस होगी और फिर कोर्ट फैसला देगा”। कोर्ट ने सरकारी वकील से पूछा कि 30 साल पुराने मामले में गिरफ्तारी की इतनी जल्दी क्यों है।

कोर्ट के निर्देश दिए जाने के बाद अब एसआईटी की टीम सैनी से सवाल करेगी। इसके लिए उन्होंने पूरी तैयारी कर ली है। आईजी लेवल के अधिकारी उनसे यह सवाल पूछेंगे। सैनी 2018 में रिटायर हो गए थे। वह अपने ऊपर दर्ज एफआईआर को रद्द करने की मांग कर रहे हैं। अपने ऊपर दर्ज एफआईआर को वह राजनीति की चाल साज बता रहे हैं।

बलवंत सिंह मुल्तानी को सैनी ने अपने ऊपर आतंकी हमला करने के मामले में गिरफ्तार किया था। मुल्तानी सिटको में काम करता था। उनके मर्डर के बारे में इसी साल 18 अगस्त को खुलासा हुआ है। 6 मई को 6 और लोगों समेत सैनी को आरोपी बनाया गया है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD