Country

रामलाल की संघ में वापसी, संतोष नए संगठन महामंत्री

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) रामलाल की अपने मूल संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में वापसी हो गई है। अब वे संघ में सह संपर्क प्रमुख का दायित्व संभालेंगे। संघ के वरिष्ठ प्रचारक रहे रामलाल को 2006 में भाजपा महासचिव (संगठन) बनाया गया था। वह लगातार 13 वर्षों तक इस पद पर रहे।

रामलाल ने साल 2017 में भी पदमुक्त करने का आग्रह किया था, लेकिन तब पार्टी ने लोकसभा चुनाव की तैयारी शुरू होने से उनका आग्रह स्वीकार नहीं किया था। इसके बाद उन्होंने इस महीने की पांच जुलाई को फिर से भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को पत्र लिखकर पदमुक्त करने का आग्रह किया था।

भाजपा में राष्ट्रीय अध्यक्ष के बाद सबसे ताकतवर पद संगठन महामंत्री का माना जाता है। पार्टी की पूरी संगठन व्यवस्था उसी के पास रहती है और संघ व भाजपा के बीच का सबसे अहम काम भी वही संभालता है। रामलाल की जगह भाजपा में यह जिम्मेदारी कौन संभालेगा, इस बारे में अभी फैसला होना बाकी है। हालांकि वरिष्ठता के लिहाज से संयुक्त संगठन मंत्री वी सतीश व शिव प्रकाश के नाम इसके लिए चर्चा में हैं। चूंकि इस पद के लिए फैसला संघ के समन्वय से होता है, इसलिए कुछ समय भी लग सकता है।

रामलाल की जगह बीएल संतोष को बीजेपी का संगठन महासचिव बनाया गया है। बता दें कि एक दिन पहले ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने संगठन में बड़ा बदलाव करते हुए बीजेपी के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल को वापस बुला लिया था।

रामलाल को (आरएसएस) के अखिल भारतीय सह-प्रमुख की बागडोर सौंपी गई। आरएसएस के इस बदलाव को रामलाल की संठगन में मूल वापसी के तौर पर भी देखा जा रहा है। दरअसल रामलाल, बीजेपी के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री के पद से हटना चाहते थे और उन्होंने यह इच्छा पार्टी से भी जताई थी। रामलाल ने 30 सितंबर 2017 को पीएम मोदी के नाम एक खत लिखा था। इस चिट्ठी में उन्होंने जाहिर किया था कि इस दायित्व को निभाते हुए मुझे 11 वर्ष बीत चुके हैं, मेरी आयु 65 वर्ष हो चुकी है, इसलिए आपसे अनुरोध है कि संबंधित अधिकारियों से परामर्श करके किसी अन्य को यह कार्य सौपें ताकि तेज गति से काम हो सके।

You may also like