[gtranslate]
Country

केजरीवाल की राह पर पुडुचेरी के सीएम वी नारायणसामी, राज्यपाल के खिलाफ पिछले तीन दिनों से कर रहे है धरना प्रदर्शन

पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी पिछले तीन दिनों से राजभवन के बाहर प्रदर्शन कर रहे है। उनकी मांग है कि केंद्र सरकार राज्य की उपराज्यपाल किरण बेदी को वापस बुलाए। उन्होंने कहा कि उपराज्यपाल सवैंधानिक सरकार को काम नहीं करने दे रही है। वह सरकार के हर कार्य में बाधा उत्पन्न कर रही है। उपराज्यपाल के खिलाफ सीएम नारायणसामी के साथ पीसीसी अध्यक्ष ए वी सुब्रमणियन, प्रदेश के सभी मंत्री, कांग्रेस विधायक, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के नेता धरने पर बैठे हुए है। इस धरने पर कांग्रेस की सहयोगी पार्टी डीएमके मौजूद नहीं है।

 

वीसीके नेता मुथारसन ने धरने पर बैठे लोगों को संबोधित करते हुए उपराज्यपाल की अलोकतांत्रिक कार्यशैली की आलोचना की, उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यदि लोकतंत्र में भरोसा करते है तो उन्हें हस्तक्षेप कर उप-राज्यपाल किरण बेदी को हटाना चाहिए। उन्होंने केंद्र सरकार पर किसानों के आंदोलन को समाप्त करने के प्रयासों के तहत फासीवादी तथा निरंकुश रवैया अपनाने का आरोप लगाया।

पुडुचेरी में इस समय कांग्रेस की अगुवाई में धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक गठबंधन यानि की एसडीए की सरकार है। इससे पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी उपराज्यपाल के खिलाफ धरने पर बैठे थे। उस समय केरजरीवाल ने ट्वीट कर कहा था कि आखिर दिल्ली वाले क्या मांग रहे है। आएएस अफसरों की हड़ताल खत्म करो। राशन की डोरस्टेप डिलिवरी लागू करो। आम आदमी पार्टी ने दिल्ली के राज्यपाल अनिल बैजल के खिलाफ तीन मांगो को लेकर अनशन शुरू किया था। एलजी खुद आईएएस अधिकारियों की गैरकानूनी हड़ताल तुरंत खत्म कराएं, क्योंकि वो सर्विस विभाग के मुखिया हैं। काम रोकने वाले आईएएस अधिकारियों के खिलाफ सख्त एक्शन लें। राशन की डोर-स्टेप डिलीवरी की योजना को मंजूर करें। अब पुडुचेरी के मुख्यमंत्री भी राज्यपाल किरण बेदी पर आरोप लगा रहे है कि वह सरकार के कार्यां में बाधा उत्पन्न कर रही है। इसलिए केंद्र सरकार उन्हें तुरंत वापस बुलाए। पुडुचेरी में विधानसभा के लिए 2021 में चुनाव होने है। इसको लेकर बीजेपी वहां अभी से सक्रिय हो गई है। पुडुचेरी में विधानसभा की 30 सीटें हैं।

You may also like

MERA DDDD DDD DD