[gtranslate]
Country

एक्शन मोड में प्रियंका, पीएम के संसदीय क्षेत्र में उमड़ा जनसमूह 

priyanka

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा के बाद से प्रदेश का राजनीतिक माहौल बदलने लगा है। हाल ही में हुई लखीमपुर खीरी हिंसा में 6 किसानों की मौत हो गई थी।

जिसका आरोप गृह राज्यमंत्री अजय कुमार मिश्र के बेटे आशीष मिश्र पर लगा है। जिसके बाद किसान परिवार ने उत्तर प्रदेश सरकार से कहा कि हमें पैसे नहीं चाहिए, हमें मुआवजा नहीं चाहिए, हमें न्याय चाहिए।

इसी बात को लेकर उत्तर प्रदेश के वाराणसी के जगतपुर इंटर कॉलेज मैदान में किसान न्याय रैली संबोधित करते हुए प्रियंका गांधी ने सरकार को घेरते हुए कहा कि ‘मैंने किसी भी देश में किसी ऐसे व्यक्ति के बारे में नहीं सुना, जिसने लोगों की हत्या की है। उसे पुलिस पूछताछ के लिए आमंत्रित करती हो।’

आगे उन्होंने हाथरस कांड का ज़िक्र करते हुए कहा कि हाथरस के मामले में भी पीड़ित परिवार ने मुझे कहा कि ‘दीदी, हमें इस सरकार से न्याय की उम्मीद नहीं है। लेकिन हमें न्याय चाहिए। हाथरस के मामले में सरकार ने अपराधियों पर कोई कार्रवाई नहीं की। यहां तक कि सरकार ने परिवार वालों को अपनी बेटी की चिता तक जलाने नहीं दी। प्रशासन ने खुद ही बेटी का अंतिम संस्कार कर दिया।’

इसी तरह सोनभद्र में हुए आदिवासी जनसंहार पर भी प्रियंका ने कहा कि यहां से कुछ ही दूर सोनभद्र में एक घटना हुई थी। जब 13 आदिवासी खेत में काम कर रहे थे। जब पुलिस प्रशासन की सहमति से कुछ लोग उनकी जमीन लेने की कोशिश कर रहे थे। वह लोग ट्रैक्टर-जीप लेकर आए और 13 अधिवासियों को गोलियों से भून दिया गया।

उन्होंने आगे कहा कि जब मैं उनसे मिलने गई तो परिजनों ने मुझे बताया कि हमें मुआवजा नहीं चाहिए हमें न्याय चाहिए। लेकिन हमें न्याय की उम्मीद नहीं हैं। उनके पिता जी ने मुझसे कहा कि उन्हें घर के बाहर निकाल कर पीटा गया था।  उनके बच्चों को धमकाया गया था।  इससे पहले कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी काशी स्थित माँ अन्नपूर्णा के मंदिर में दर्शन करने गई और फिर विश्वनाथ मंदिर में पूजा-अर्चना कर बाबा विश्वनाथ से देश और उत्तर प्रदेश की खुशहाली और समृद्धि की कामना की।

रैली में प्रियंका गांधी ने बीजेपी पर भी जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि यह देश भाजपा के पदाधिकारियों, उनके मंत्रियों की जागीर नहीं है। यह देश आपका है।  इस देश को कौन बचाएगा? यदि आप जागरूक नहीं बनेंगे समझदार नहीं बनेंगे।  इनकी राजनीति में उलझे रहेंगे तो आप परेशान रहेंगे। आप किसान हो। आपकी मेहनत ने इस देश को बनाया है। जो प्रधानमत्री आपको आंदोलनजीवी कहते हैं। जो आपको आतंकवादी कहते हैं।  उन्हें न्याय देने के लिए मजबूर कीजिये। हम किसी से नहीं डरते हैं। जब तक गृहराज्य मंत्री इस्तीफा नहीं देंगे, हम लड़ते रहेंगे।’

प्रियंका के साथ मंच पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, सांसद दीपेन्द्र सिंह हुड्डा, राज्यसभा के पूर्व सदस्य प्रमोद तिवारी, पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद, प्रदीप जैन आदित्य, राष्ट्रीय सचिव राजेश तिवारी, बाजीराव खाड़े, पूर्व सांसद डा. राजेश मिश्र, पूर्व विधायक अजय राय, विधायक आराधना मिश्रा, जिलाध्यक्ष राजेश्वर पटेल, महानगर अध्यक्ष राघवेंद्र चौबे मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें : उत्तराखण्ड कांग्रेस में कलह

वहीं लखीमपुर खीरी मामले पर भाजपा की केंद्र व राज्य सरकार को असहज करने वाले वरुण गांधी ने एक बार फिर ट्वीट करके हमला बोला।  अपने ट्वीट में वरुण गांधी ने लिखा है कि लखीमपुर खीरी में हुए किसानो के साथ  घटना को हिंदू बनाम सिख की में बदलने करने की कोशिश हो रही है। ये न सिर्फ़ अनैतिक है बल्कि झूठ भी हैै। ऐसा करना खतरनाक है और किसानों के जख्मों को कुरेदने जैसा है।  जिन्हें ठीक होने में पीढ़ियाँ लगेगी । हमें तुच्छ राजनीति को राष्ट्रीय एकता के ऊपर नहीं रखना चाहिए। गौरतलब है कि दो दिन पहले ही शुक्रवार को इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में बीजेपी प्रमुख जेपी नड्डा ने एक सवाल के जवाब में कहा था कि उन्होंने वरुण गांधी को बुलाकर बात की थी। नड्डा ने ये भी कहा था कि अब इस मामले में सब कुछ ठीक हो जाएगा।

लखीमपुर खीरी में तीन अक्टूबर को हुई हिंसक घटना के बाद से वरुण गांधी लगातार किसानों के समर्थन में ट्वीट कर रहे हैं। वह इस संबंध में योगी सरकार को खत भी लिख चुके हैं और पीड़ित परिवारों के लिए इंसाफ और दोषियों के लिए सजा की मांग कर चुके हैं। वरुण गांधी ने तीन अक्तूबर की घटना के बाद एक वीडियो को पोस्ट कर लिखा है, ‘यह वीडियो बिल्कुल साफ है। प्रदर्शनकारियों को हत्या से चुप नहीं कराया जा सकता। मासूम किसानों का जो खून बहा है उसकी जवाबदेही तय होनी ही चाहिए और न्याय मिलना ही चाहिए। किसानों के सामने ऐसा संदेश नहीं जाना चाहिए कि हम क्रूर हैं।

इसके बाद पांच अक्टूबर को भी भाजपा सांसद वरुण गांधी ने लखीमपुर खीरी हिंसा का एक वीडियो अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया। उन्होंने कहा कि लखीमपुर खीरी में किसानों को गाड़ियों से जानबूझकर कुचलने का यह वीडियो किसी की भी आत्मा को झकझोर देगा। उन्होंने पुलिस से इस वीडियो का संज्ञान लेकर गाड़ियों के मालिकों, इनमें बैठे लोगों और इस प्रकरण में संलिप्त अन्य व्यक्तियों को चिन्हित कर तत्काल गिरफ्तार करने की मांग की थी । गौरतलब है कि लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा को लेकर प्रियंका गांधी काफी सक्रिय हैं और वर्तमान सरकार पर लगातार निशाना साध रही हैं।

You may also like

MERA DDDD DDD DD