[gtranslate]
Country

प्रशांत भूषण मामले में अब दस सितंबर को होगी सुनवाई 

वरिष्ठ अधिवक्ता  प्रशांत भूषण के खिलाफ चल रहे अवमानना केस की सुनवाई 10 सितंबर तक टल गई है। हाल में  सुप्रीम कोर्ट ने  प्रशांत भूषण को कोर्ट की अवमानना का दोषी पाया था।  उन्हें बिना शर्त माफी मांगने के लिए तीन दिन की मोहलत दी गई थी, जो कि कल 24 अगस्त को समाप्त हो गई।  प्रशांत भूषण ने कल कोर्ट में स्पस्ट कह दिया था कि वो माफी नहीं मांगेंगे।

प्रशांत भूषण द्वारा न्यायाधीशों पर टिप्पणी से जुड़े अवमानना मामले में उच्चतम न्यायालय ने आज मुख्य न्यायाधीश (सीजेआई) एसए बोबडे से अनुरोध किया कि इसे अदालत की उपयुक्त पीठ के समक्ष रखा जाए।

सुनवाई के दौरान न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा ने कहा, ‘मेरे पास समय की कमी है। मैं पद से मुक्त होने वाला हूं। इसके लिए चार से पांच घंटे की विस्तृत सुनवाई की आवश्यकता है।’ अदालत ने कहा ‘यह सजा का सवाल नहीं है, यह संस्था में विश्वास का सवाल है। जब लोग राहत के लिए अदालत में आते हैं और वो आस्था डगमगा जाती है तो यह एक समस्या बन जाती है। न्यायमूर्ति मिश्रा दो सितंबर को सेवानिवृत्त हो रहे हैं।

प्रशांत भूषण के वकील राजीव धवन ने तर्क दिया था कि न्यायाधीशों द्वारा भ्रष्टाचार के संदर्भ में कोई भी सवाल, क्या यह अवमानना है या नहीं, इसकी जांच एक संविधान पीठ द्वारा की जानी चाहिए।

दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण से कहा था कि वह न्यायालय की अवमानना वाले ट्वीट को लेकर माफी नहीं मांगने वाले अपने बयान पर पुनर्विचार करें। इसके लिए उन्हें कोर्ट ने 24 अगस्त तक की मोहलत दी थी।कल हुई सुनवाई में प्रशांत भूषण ने माफी मांगने से इनकार कर दिया था।

आज लग रहा था कि सुप्रीम कोर्ट  वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण के खिलाफ अदालत की अवमानना के मामले में सजा सुना सकता  है,लेकिन अब सुनवाई 10 सितंबर तक टल गई है।

कल यानी 24 अगस्त को वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने  अदालत की अवमानना मामले में बिना शर्त माफी मांगने से इनकार कर दिया था। प्रशांत ने अपने जबाब में कहा था  कि उनकी ओर से किया गया ट्वीट अदालत और संविधान की रक्षा के लिए था। अगर वे माफी मांगेंगे तो ये उनकी अंतरात्मा और उस संस्थान की अवमानना होगी जिसमें  सर्वोच्च विश्वास रखते हैं।

You may also like

MERA DDDD DDD DD