[gtranslate]
Country

कर्नाटक के ‘सुरेश राम’ बने प्रज्वल

वर्ष 1977 में पहली बार केंद्र की सत्ता से कांग्रेस को बेदखल कर जनता पार्टी की सरकार सत्ता में आई थी। जयप्रकाश नारायण ने सम्पूर्ण क्रांति का स्वप्न जनमानस के मन-मस्तिष्क में बैठा जनता परिवार को सत्ता के शिखर तक पहुंचा तो दिया लेकिन इस परिवार के अति महत्वाकांक्षी नेताओं की आपसी रार को वह थामने में विफल रहे। मोरारजी देसाई को अपदस्थ कर खुद प्रधानमंत्री बनने की चाह रखने वालों में शामिल एक बड़े नेता थे तत्कालीन रक्षामंत्री बाबू जगजीवन राम। जगजीवन राम देश के पहले दलित पीएम बनने की राह पर थे लेकिन उनके पुत्र सुरेश राम के सेक्स स्कैंडल ने इस सम्भावना को समाप्त कर डाला था। दशकों बाद कर्नाटक के खांटी राजनीतिक परिवार पर भी एक सेक्स स्कैंडल चलते अस्तित्व का संकट आन खड़ा हुआ है

कर्नाटक के हासन सीट से सांसद और वर्तमान लोकसभा चुनाव में भाजपा की सहयोगी जेडीएस के नेता प्रज्वल रेवन्ना अपने चाल, चरित्र और चेहरे पर गर्व करने वाली भाजपा को शर्मसार करने का कारण बन उभरे हैं। पूर्व प्रधानमंत्री एवं जेडीएस प्रमुख एच डी देवगौड़ा के पोते और कर्नाटक के मुख्यमंत्री रह चुके एचडी कुमारस्वामी के भतीजे प्रज्वल रेवन्ना सेक्स स्कैंडल के आरोपों से घिर चुके हैं। प्रज्वल के अलावा उनके पिता एचडी रेवन्ना जो होलेनरासीपुर से विधायक हैं, का नाम भी इस मामले में सामने आ रहा है। कर्नाटक की राजनीति में बेहद महत्वपूर्ण परिवार से जुड़े प्रज्वल रेवन्ना और उनके पिता का नाम सेक्स स्कैंडल मामले में आने से सियासी भूचाल आ गया है। दावा किया जा रहा है कि बचने के लिए प्रज्वल रेवन्ना देश से फरार हो चुके हैं। करीब 2000 से ज्यादा महिलाओं के यौन शोषण के आरोप में घिरे प्रज्वल रेवन्ना के खिलाफ विपक्षी दलों ने मोर्चा खोल दिया है। उन्हें पार्टी से निलंबन के बाद उनकी गिरफ्तारी की मांग की जा रही है।

एचडी रेवन्ना को गिरफ्तार कर ले जाती पुलिस

दावा किया जा रहा है कि सेक्स स्कैंडल से जुड़े हजारों वीडियो सर्कुलेट हुए हैं जिसमें सरकारी अधिकारियों समेत कई बड़े नाम सामने आए हैं। गौरतलब है कि हासन में 26 अप्रैल के चुनाव से एक दिन पहले हजारों पेन ड्राइव के जरिए ऐसे सेक्स वीडियोज सामने आ गए जिन्हें कथित तौर पर सांसद ने खुद ही रिकॉर्ड किया था। इतना ही नहीं ये वीडियोज सोशल मीडिया पर भी शेयर किए गए हैं। कर्नाटक में लोकसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान से ठीक दो दिन पहले एक अश्लील वीडियो वायरल हुआ। वीडियो में कथित तौर पर जनता दल (सेक्युलर) के सांसद प्रज्वल रेवन्ना दिखे। ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ की एक रिपोर्ट अनुसार मतदान से तीन दिन पहले कर्नाटक के हासन जिले में 2,000 से ज्यादा पेन ड्राइव बांटी गई। पेन ड्राइव में 2000 से ज्यादा फाइलें थीं जिनमें वीडियो और तस्वीरें शामिल थीं। जल्द ही ये फोटो-वीडियो वाट्सऐप पर शेयर किए जाने लगे। पेन ड्राइव में करीब हजारों की संख्या में वीडियोज हैं। वीडियोज में कुछ महिलाओं के साथ जोर-जबरदस्ती भी दिख रही है। हालांकि, ज्यादातर महिलाएं जो प्रज्वल रेवन्ना की शिकार बनीं, वो विरोध नहीं कर पाईं। प्रज्वल पर आरोप यह भी है कि इन वीडियो को प्रज्वल ने खुद रिकॉर्ड कर महिलाओं को ब्लैकमेल भी किया है।

कर्नाटक सरकार द्वारा 27 अप्रैल को वीडियोज से संबंधित जांच के लिए एसआईटी गठित करने के आदेश दिए गए। एसआईटी जांच में यह साफ हो सकेगा कि कितने वीडियो हैं और ये कब-कब बनाए गए हैं। प्रज्वल रेवन्ना के अब तक अलग-अलग लड़कियों के साथ 2500 से ज्यादा अश्लील वीडियो क्लिप की जानकारी सामने आ चुकी है। जांच एजेंसी को एक पेन ड्राइव मिली है, जिसमें रेवन्ना से जुड़े अश्लील वीडियो हैं। इस सनसनीखेज घटनाक्रम के बाद राज्य के साथ-साथ देशभर की राजनीति में उबाल आ गया है। कर्नाटक मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने प्रधानमंत्री मोदी को एक पत्र लिखा है जिसमें उन्होंने विदेश मंत्रालय और गृह मंत्रालय को रेवन्ना के पासपोर्ट को रद्द करने और उन्हें वापस लाने के लिए निर्देश देने की मांग की है।

मामला तूल पकड़ने के बाद जेडीएस से उनको निष्कासित कर दिया गया है। इस बीच प्रज्वल रेवन्ना ने सोशल मीडिया एक्स पर एक पोस्ट किया जिसमें उन्होंने कहा है की पूछताछ में शामिल होने के लिए मैं बेंगलुरु में नहीं हूं, इसलिए मैंने अपने वकील के माध्यम से सीआईडी बेंगलुरु से बात की है। जल्द ही सच्चाई सामने आएगी। इसके अतिरिक्त हाल ही में प्रज्वल के पिता विधायक एचडी रेवन्ना ने भी सफाई देते हुए कहा कि मुझे पता है कि किस तरह की साजिश चल रही है, मैं उनमें से नहीं हूं, जो डर जाऊंगा। पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा के बेटे और हासन की होलेनारसीपुर सीट से विधायक एचडी रेवन्ना पर भी यौन शोषण का आरोप लगा है। इन आरोपों को लेकर उन्होंने कहा कि जो वीडियो वायरल हो रहे हैं, वो 4-5 साल पुराने हैं। सालों पुरानी कोई चीज उन्हें अब मिल गई है और अब केस दर्ज कर रहे हैं। उन्होंने आगे कहा कि वो इस पर अभी कुछ नहीं कहेंगे, क्योंकि मामले की जांच एसआईटी कर रही है, वहीं प्रज्वल के चाचा एवं कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा है कि अगर प्रज्वल दूसरे देश गया है तो सरकार उसे वापस लाएगी। इसके अलावा उन्होंने कहा कि पार्टी का इससे कोई लेना-देना नहीं है।

पिता-पुत्र के खिलाफ एफआईआर

प्रज्वल लगातार दूसरी बार हासन सीट से जद(एस)-बीजेपी अलायंस के उम्मीदवार हैं। यहां दूसरे चरण में वोटिंग हो जाने के बाद प्रज्वल जर्मनी चले गए। मतदान से ठीक दो दिन पहले ही प्रज्वल के कथित यौन शोषण के वीडियो वायरल हुए थे। जिसके बाद 67 वर्षीय विधायक एचडी रेवन्ना और 33 वर्षीय सांसद प्रज्वल रेवन्ना के लिए मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं, बल्कि वायरल वीडियोज पिता पुत्र के लिए गले का फांस बन चुकी हैं। ऐसे में 28 अप्रैल को उनकी महिला रसोइया द्वारा हासन क्षेत्र के होलेनारसीपुर थाने में की गई शिकायत के आधार पर दोनों के खिलाफ यौन शोषण के आरोप में एफआईआर दर्ज की गई है। इस पीड़िता ने शिकायत में आरोप लगाया है कि जब उसने रेवन्ना परिवार में रसोइये के तौर पर काम करने की शुरुआत की, उसके चार महीने बाद से ही उसका शारीरिक शोषण शुरू हो गया। इस महिला का आरोप है कि कई अन्य महिलाओं के साथ भी यौन उत्पीड़न किया गया है। पीड़िता द्वारा कहा गया कि ज्वाइनिंग के चार महीने बाद प्रज्वल मुझे अपने कमरे पर बुलाता था। घर में छह महिला कर्मचारी थीं और सभी ने बताया कि वो प्रज्वल से डरती थीं। घर में काम करने वाले पुरुष कर्मियों ने महिला कर्मियों को भी सावधान रहने के लिए कहा था। जब एचडी रेवन्ना की पत्नी नहीं होती थी तो वो महिलाओं को स्टोर रूम में बुलाता था, उन्हें छूता था और यौन उत्पीड़न करता था। महिला ने शिकायत दर्ज कराते हुए कहा कि प्रज्वल रेवन्ना ने मेरी बेटी के साथ भी छेड़खानी करने की कोशिश की। महिला की शिकायत के आधार पर पुलिस द्वारा आईपीसी की धारा 354ए, 354डी, 506 और 509 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। विशेष जांच दल (एसआईटी) ने केस की जांच के सिलसिले में दोनों आरोपियों को नोटिस भेज पूछताछ के लिए बुलाया। एसआईटी एचडी रेवन्ना और प्रज्वल रेवन्ना के करतूतों की जांच के साथ-साथ इस बात की भी जांच करेगी कि आखिर रेवन्ना के वो अश्लील वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कैसे हुए।

गौरतलब है कि बीते साल 1 जून को वीडियो का पहली बार जिक्र प्रज्वल रेवन्ना द्वारा ही किया गया था। उस दौरान उन्होंने बेंगलुरु सिविल कोर्ट में 86 मीडिया आउटलेट्स और तीन लोगों के खिलाफ मुकदमा दायर किया था। प्रज्वल रेवन्ना द्वारा दायर किए गए मुकदमे में मीडिया के खिलाफ गैग ऑर्डर की मांग की गई थी। उस दौरान कहा गया था कि याचिकर्ता के खिलाफ ऐसी फेक न्यूज फोटो/वीडियो प्रतिवादियों की तरफ से प्रसारित प्रकाशित सर्कुलेट किए जाने का खतरा है। इस मामले में प्रज्वल के ड्राइवर कार्तिक का नाम भी शामिल था। जिसने प्रज्वलन के यहां ड्राइवर के तौर पर सात सालों तक काम किया। उसने 2023 में रेवन्ना के परिवार की नौकरी छोड़ दी थी। ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ की एक रिपोर्ट मुताबिक ड्राइवर के पास प्रज्वल के फोन तक पहुंच थी। साल 2023 में ड्राइवर की तरफ से हासन में पुलिस शिकायत दर्ज कराई गई थी। एफआईआर में कहा गया था कि 13 एकड़ जमीन नहीं देने के कारण प्रज्वलन ने उसका और उसकी पत्नी का अपहरण कर लिया। ड्राइवर कार्तिक के मुताबिक जिस पेन ड्राइव को लेकर कोहराम मचा हुआ है वो पहले उसके पास थी। ड्राइवर ने कहा कि उसने कई सालों तक काम किया, मेरे साथ हुई हिंसा, जमीन छिन जाने और पत्नी पर हमले के कारण एक साल पहले नौकरी छोड़ दी थी। कार्तिक का कहना है कि वो रेवन्ना पर केस करने और कानूनी लड़ाई लड़ने की तैयारी कर रहा था, इस बीच उसकी मुलाकात देवराज गौड़ा से हुई, जो कि वकील और बीजेपी नेता हैं। बातचीत आगे बढ़ी तो उन्हें रेवन्ना के बारे में बताया। उन्होंने न्याय दिलाने का वादा किया लेकिन मेरा केस नहीं लड़ा। ड्राइवर के मुताबिक गौड़ा ने उससे रेवन्ना की कथित अश्लील वीडियो से भरी पेन ड्राइव ले ली थी। इसके अलावा कार्तिक का दावा है कि उसने अश्लील वीडियो वाली पेन ड्राइव कर्नाटक के डिप्टी सीएम डीके शिवकुमार और कांग्रेस सांसद डीके सुरेश को भी दी थी।

भाजपा नेता ने उठाया मुद्दा

भाजपा नेता और वकील जी देवराज गौड़ा ने जनवरी साल 2024 में इन वीडियोज का मुद्दा उठाया। गौड़ा की याचिका के चलते ही साल 2023 में प्रज्वल सांसद के तौर पर अयोग्य घोषित हो गए थे। हालांकि सर्वोच्च न्यायलय द्वारा इस पर रोक लगा दी गई थी। 2023 में उन्होंने हासनपुर से विधानसभा चुनाव भी लड़ा था लेकिन प्रज्वल के पिता एचडी रेवन्ना के सामने चुनाव हार गए थे।

एचडी रेवन्ना हुए गिरफ्तार

सेक्स स्कैंडल मामले में प्रज्वल के पिता एचडी रेवन्ना को 3 मई को कर्नाटक पुलिस की एसआईटी द्वारा गिरफ्तार किया गया है। 2 मई को मैसूर में एक महिला ने एचडी रेवन्ना के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज कराया था। एफआईआर के मुताबिक महिला के साथ यह घटना 29 अप्रैल को हुई थी। वहीं मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इस मामले के संबंध में एचडी रेवन्ना को दो बार नोटिस दिया गया था, उसके बावजूद भी वो हाजिर नहीं हुए। इसके बाद उनकी गिरफ्तारी की गई। एसआईटी से बचने के लिए रेवन्ना ने अग्रिम जमानत की याचिका डाली थी, जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया। गौरतलब है कि पिता-पुत्र के खिलाफ लुक आउट नोटिस भी जारी किया गया था। इसके अलावा सीबीआई से मांग की गई कि इंटरपोल से ब्लू कॉर्नर नोटिस भी जारी करवाया जाए। पुलिस ने रेवन्ना और मैसूर जिले के कृष्णराज नगर तालुक के निवासी सतीश बबन्ना के खिलाफ अपहरण समेत कई आरोपों में भारतीय दंड संहिता की कई धाराओं में मामला दर्ज कर 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

पीड़िताओं ने किया पलायन

वीडियो वायरल होने के बाद कई महिलाओं के लिए मुश्किलें बढ़ गई हैं। वीडियो क्लिप वायरल होने के बाद पार्टी ने प्रचार नहीं किया। इस निर्वाचन क्षेत्र के युवाओं के पास अपने फोन में वीडियो थे। जेडीएस के एक स्थानीय नेता का कहना है कि हम लोगों का सामना कैसे करते और प्रज्वल के लिए वोट डाले, कैसे कह सकते थे। खबर यह भी है कि गांव में बने एक फार्म हाउस बाड़े में प्रज्वल कथित तौर पर यहीं वीडियो रिकॉर्ड करता और अपने दोस्तों के साथ यहां पार्टी भी करता था।

जेडीएस के एक नेता के अनुसार पहले पार्टी के लिए काम करने वाली महिलाएं अब पार्टी के साथ नहीं हैं। वीडियो वायरल होने के बाद महिलाएं सोशल मीडिया से अपनी तस्वीरें हटा रही हैं। बीबीसी की एक रिपोर्ट अनुसार वीडियो वायरल होने से कई महिलाओं की पहचान उजागर हो गई है। कई महिलाओं के पति प्रज्वल और उनके संबंध को लेकर सवाल उठा रहे हैं। पहचान उजागर होने से महिलाओं ने हासन छोड़ दिया है।

पास के ही गांव में पूर्व जिला पंचायत के वो सदस्य रहते हैं जिन्होंने प्रज्वल के खिलाफ रेप का केस दर्ज कराया। लेकिन वीडियो क्लिप के फैलने के बाद से महिलाओं की पहचान उजागर होने के कारण कई परिवारों ने भी हासन छोड़ दिया है। एक दुकानदार ने कहा कि महिलाओं की पहचान उजागर करना वाकई गलत था। मैं उनमें से कुछ को जानता हूं वो लोग छिप गए हैं। पता नहीं वो लोग वापस लौट सकेंगे या नहीं। ये परिवार केस भी नहीं करना चाहते थे लेकिन रेवन्ना परिवार के साथ केस लड़ते हुए हासन में रह पाना असंभव है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD