[gtranslate]
Country

लॉकडाउन के बाद दिहाड़ी मजदूरों के पलायन पर राजनीति शुरू

लॉकडाउन के बाद दिहाड़ी मजदूरों के पलायन पर राजनीति शुरू

कोरोना वायरस के डर से अभी भी लोग पलायन कर रहे है। कोरोना वायरस का संक्रमण 1000 के पार पहुँच चुका है। इससे 20 लोग की मौत हो गई है तो वहीं 19 लोग ठीक भी हुए है। इसी को देखते हुए भारत सरकार ने 21 दिन का लॉकडाउन का निर्णय लिया गया था। पर दिहाड़ी मजदूर ओर कुछ लोगों में कोरोना वायरस को लेकर इतना डर गए है कि वह पलायन कर अपने घर के लिए पैदल ही जा रहे है। यह सबसे ज्यादा दिल्ली के आसपास के इलाकों से देखा जा सकता है।

दिल्ली से चौथे दिन भी हजारों मजदूरों का पलायन कर रहे है। वह भूखे-प्यासे पैदल ही जा रहे है। इस पर अब पार्टियों ने राजनीति शुरू कर दिया है। पार्टियों ने एक दूसरे पर सवाल खड़े कर रहे। दिल्ली की केजरीवाल सरकार और उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की राज्य सरकारों ने एक-दूसरे को इस स्थिति के लिए जिम्मेदार ठहराया है। वहीं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि स्तिथि ऐसी रही तो लॉकडाउन फेल हो जाएगा। कल दिल्ली के आनंद विहार पर हजारों की संख्या में मजदूर मौजूद रहे। वह अलग अलग राज्यों से थे।

वहाँ पर कल रात में भी वहाँ मजदूर मौजूद रहे पर दिन के मुकाबले ये भीड़ रात में कुछ कम रही। उनका जाने के लिए कोई प्रबंध नहीं हुआ तो वह पैदल सड़क मार्ग से निकल गए। वहीं कुछ लोग सड़क के किनारे फुटपाथ पर समान लिए वहीं सो गए। तो कुछ लोग बस डिपो पर इक्कठा होना शुरू हो गए हैं। वह इस उम्मीद में वहा आ रहे है कि शायद बस अब चलना शुरू होगी और उन्हें अपने अपने घर तक छोड़ आएंगी।

कल दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सरकार लर यह आरोप लगया था कि लोग दिल्ली से लोग पलायन हो रहे है क्योकि आम आदमी पार्टी की सरकार ने वहाँ बिजली ओर पानी कक कनेक्शन काट दी है। जिसके वजह से लोग वहाँ से अपने घर जाने के लिए निकल गए। इसी के साथ सिसोदिया ने कहा था कि कोरोना वायरस से लड़ने के जगह भाजपा अच्छी राजनीति कर रही है। सिसोदिया ने यह तीखी प्रतिक्रिया उन खबरों के बाद आई है जिनमें कहा गया है कि प्रवासी मजदूरों की बड़ी संख्या अपने गृहराज्यों की बसों में सवार होने के लिए आनंद विहार पहुंची है।

सिसोदिया ने ट्वीट किया, ‘‘मुझे बहुत दुःख है कि कोरोना वायरस महामारी के बीच बीजेपी नेता ओछी राजनीति पर उतर आए हैं। योगी आदित्यनाथ जी की सरकार ने आरोप लगाया है कि अरविंद केजरीवाल जी ने बिजली-पानी का कनेक्शन काट दिया इसलिए लोग दिल्ली से जा रहे हैं। यह गम्भीरता से एक होकर देश को बचाने का समय है, घटिया राजनीति का नहीं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘आज दिल्ली की सीमा पर जो लोग हैं वो केवल दिल्ली से नहीं बल्कि हरियाणा, पंजाब, राजस्थान तक से आए लोग हैं। जो भी इस वक्त दिल्ली में है, उसे छत देने और खाना देने की ज़िम्मेदारी हमारी है ताकि कोरोना वायरस के ख़िलाफ़ प्रधानमंत्री मोदी जी का बंद सफल हो सके।’’

अभी देश में 21 दिनों का लॉकडाउन लगा है पर शहर के मुख्य सड़कों पर देखा जा सकता है कि कुछ कुछ ग्रुप में लोग घर के लिए निकल गए है। हर सड़क पर गरीबी और लाचारी ही बिखरी पड़ी है। इन लौटने वालों में हिंदुस्तान के मस्तक से गुजरती तकलीफ और वेदना की लकीरें दिखती हैं। भूख और गरीबी की अटूट जंजीरें, बिलखते बच्चे, तड़पती माताएं और छटपटाते पिता इस भीड़ का हिस्सा हैं। अकेले दिल्ली से ही पांच लाख से ज्यादा लोग दो दिन में यूपी में दाखिल हो चुके हैं।

शनिवार को भी दिल्ली से गाजियाबाद तक बच्चों को गोद में लिए और सामान सिर पर लादे लोगों की कतारें लगी रहीं। इससे लॉकडाउन विफल होने की आशंका बढ़ गई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार-शनिवार की रात नोएडा, गाजियाबाद, बुलंदशहर, अलीगढ़, हापुड़ जैसे इलाकों से बसें लगाकर लोगों को गंतव्य तक पहुंचाने की व्यवस्था कराई।

You may also like

MERA DDDD DDD DD