[gtranslate]
Country

राजस्थान में सियासी घमासान

राजस्थान कांग्रेस में अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच तकरार का नया अध्याय रविवार रात से शुरू हो गया है। गहलोत जैसे ही कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ने जा रहे हैं, ऐसे संकेत हैं कि पायलट मुख्यमंत्री का पद संभालेंगे, और यह नया ड्रामा राजस्थान में चल रहा है। इसलिए राज्य में कांग्रेस का नया ‘पायलट’ कौन होगा, इस सवाल के साथ ही यह सवाल भी खड़ा हो गया है कि क्या पार्टी राज्य में सत्ता खो देगी ?

दरअसल कांग्रेस में नए राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव और भारत जोड़ो यात्रा के बीच राजस्थान में राजनीतिक संकट गरमा गया है। कांग्रेस आलाकमान द्वारा सचिन पायलट को अगला मुख्यमंत्री बनाने की संभावना के बीच अशोक गहलोत के समर्थक 90 विधायकों ने अपना इस्तीफा सौंप दिया। उधर, पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने इस मामले को सुलझाने के लिए मल्लिकार्जुन खड़गे और अजय माकन को हर एक बागी विधायक से बात करने के निर्देश दिए। हालांकि, विधायकों ने दोनों नेताओं के सामने कुछ शर्तें रखते हुए मिलने से इनकार कर दिया। उधर, कांग्रेस आलाकमान इन शर्तों पर सहमत नहीं दिख रहा। ऐसे में खड़गे और अजय माकन गहलोत से मुलाकात करके दिल्ली लौटेंगे और पूरी रिपोर्ट आलाकमान को सौंपेंगे।

अशोक गहलोत ने शुक्रवार को घोषणा की कि पार्टी अध्यक्ष पद के लिए राहुल गांधी को लुभाने की आखिरी कोशिश विफल होने के बाद वह इस पद के लिए मैदान में उतरेंगे। इसी के तहत विधायक दल का नया नेता चुनने के लिए रविवार शाम सात बजे विधायकों की बैठक बुलाई गई। हालांकि गहलोत समर्थक विधायकों ने इस बैठक से मुंह मोड़ लिया और विधानसभा अध्यक्ष सी. पी जोशी के आवास पहुंचे। करीब 92 विधायकों ने वहां इस्तीफा देने की इच्छा जताई। इनमें से कई ने इस्तीफा भी दे दिया। इन विधायकों का प्रतिनिधित्व करते हुए प्रताप सिंह खाचरियावास और शांति धारीवाल ने गहलोत के आवास पर केंद्रीय निरीक्षक अजय माकन और मल्लिकार्जुन खड़गे से मुलाकात की। केंद्रीय निरीक्षक के विधायकों की भावनाओं से अवगत कराया गया। हालांकि, दरार बनी रही।

गहलोत समर्थकों की क्या भूमिका है?

अशोक गहलोत का समर्थन करने वाले विधायकों की राय है कि उन्हें पार्टी अध्यक्ष के पद के साथ-साथ मुख्यमंत्री का पद बरकरार रखना चाहिए। उसके लिए उनका मत है कि गहलोत को ‘एक व्यक्ति, एक पद’ के नियम से छूट दी जानी चाहिए। अगर ऐसा संभव नहीं है तो उनकी मांग है कि सचिन पायलट की जगह गहलोत समर्थक विधायक को मुख्यमंत्री बनाया जाए। गहलोत राष्ट्रपति पद के साथ-साथ मुख्यमंत्री पद को भी बरकरार रखना चाहते हैं। कुछ दिन पहले गहलोत ने कहा था कि एक व्यक्ति दो पदों पर आसीन हो सकता है। हालाँकि, जैसे ही राहुल गांधी ने स्पष्ट किया कि गहलोत ने अपनी धुन बदल दी, उनसे उदयपुर के घोषणापत्र के अनुसार ‘एक व्यक्ति, एक पद’ नियम का पालन करने की उम्मीद की गई थी। हालांकि, ऐसा लगता है कि गहलोत अभी भी मुख्यमंत्री पद छोड़ने के लिए मानसिक रूप से तैयार नहीं हैं।

पार्टी अध्यक्ष का पद स्वीकार करने से हिचकिचा रहे हैं गहलोत?

पार्टी अध्यक्ष पद के लिए अशोक गहलोत गांधी परिवार के चहेते माने जाते हैं। हालांकि चर्चा है कि वह अध्यक्ष पद के लिए इच्छुक नहीं हैं क्योंकि पार्टी अध्यक्ष के चुनाव मैदान में उतरने के बाद उन्हें मुख्यमंत्री पद छोड़ना होगा। गहलोत को आशंका थी कि पार्टी अध्यक्ष का पद मिलने के बाद भी सारे स्रोत गांधी परिवार के पास ही रहेंगे और दूसरी ओर राजस्थान में उनका वर्चस्व भी प्रभावित होगा।

पार्टी नेतृत्व पर गहलोत का दबाव?

यह स्पष्ट था कि अशोक गहलोत को 2018 में सत्ता में आने पर और बाद में 2020 में सचिन पायलट के विद्रोह के दौरान अधिकांश विधायकों का समर्थन प्राप्त था। गहलोत ने संकेत दिया था पार्टी नेतृत्व को नया नेतृत्व चुनने की पूरी शक्ति सौंपने के लिए विधायक दल की बैठक में एक-पंक्ति का प्रस्ताव लाया जाएगा। दरअसल उनके समर्थक विधायक बैठक में नहीं गए। इसके अलावा, उनमें से कई ने इस्तीफा दे दिया। सचिन पायलट मुख्यमंत्री पद के लिए पार्टी के नेता की पसंद हैं, इसलिए गहलोत ने अपनी पसंद के विधायक को मुख्यमंत्री बनाने के लिए यह दबाव तकनीक अपनाई है।

यह भी पढ़ें : क्या है हनीमून किडनैपिंग

 

कांग्रेस के युवा चेहरे सचिन पायलट को मुख्यमंत्री पद का प्रबल दावेदार माना जा रहा था। हालांकि गहलोत समर्थक विधायकों की बगावत को लेकर कई नाम चर्चा में हैं। इसमें प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा, विधानसभा अध्यक्ष सी. पी मुख्यमंत्री पद के लिए जोशी के नाम पर चर्चा हो रही है। डोटासरा को अशोक गहलोत का विश्वासपात्र माना जाता है। हालांकि, मुख्यमंत्री पद के लिए सी. पी जोशी को गहलोत का पसंदीदा माना जाता है। जोशी एक अनुभवी नेता हैं और इससे पहले केंद्रीय मंत्री और प्रदेश अध्यक्ष के पदों पर रह चुके हैं। अनुभव के साथ गहलोत के प्रति वफादार रहना उनके लिए एक प्लस पॉइंट है। हालांकि किसी अन्य विधायक का नाम भी सामने आने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है।

क्या कहते हैं निर्दलीय विधायक?

राजस्थान में निर्दलीय उम्मीदवारों की संख्या सबसे अधिक (13) है, उसके बाद कांग्रेस और भाजपा का स्थान है। माना जा रहा है कि इनमें से दस विधायक गहलोत हैं, जबकि तीन पायलट समर्थक बताए जा रहे हैं। गहलोत के वफादार विधायक संयम लोढ़ा गहलोत कांग्रेस द्वारा राय व्यक्त की गई है कि उन्हें राष्ट्रपति पद के साथ-साथ मुख्यमंत्री के रूप में बने रहना चाहिए। बहुजन समाज पार्टी से कांग्रेस में शामिल हुए राजेंद्र सिंह गुढ़ा ने हाल ही में मुख्यमंत्री पद के लिए पायलट का समर्थन किया था।

पार्टी नेतृत्व की क्या भूमिका है?

हालांकि गांधी परिवार, खासकर राहुल गांधी और प्रियंका गांधी, मुख्यमंत्री पद के लिए सचिन पायलट का समर्थन करते हैं, लेकिन वे अपना फैसला विधायकों के वोटों के आधार पर नहीं कर सकते​ ​ राजस्थान में राजनीतिक घटनाक्रम के चलते अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी चर्चा में हैं। उन्होंने अजय माकन और मल्लिकार्जुन खड़गे को हर विधायक से अलग-अलग चर्चा करने का निर्देश दिया ​है। जहां राहुल गांधी की भारत जोड़ी पदयात्रा चल रही है, वहीं राजस्थान में सत्ता संघर्ष के लिए कोली को बीजेपी के हवाले कर दिया गया ​है। इसलिए पार्टी नेतृत्व ने निरीक्षकों को इस दरार को जल्द से जल्द खत्म करने का निर्देश दिया ​है। ​​

सत्ता खो देगी कांग्रेस?

राजस्थान में पिछले तीन दशकों से कांग्रेस और भाजपा बारी-बारी से सत्ता में हैं। 24 साल तक मुख्यमंत्री पद गहलोत और वसुंधरा राजे शिंदे के इर्द-गिर्द घूमता रहा। राजस्थान में यह परंपरा बन गई है कि सत्ताधारी दल अगला चुनाव हार जाता है। लेकिन इस बार जब कांग्रेस ने इस परंपरा को तोड़ने का फैसला किया है तो सत्ता का नया खेल शुरू हो गया ​है।​​​ ​अगले साल चुनाव होंगे। तो ऐसा लगता है कि बीजेपी अब कुछ कदम उठाने के बजाय एक साल इंतजार ​करेगी।​​ सरकार विरोधी जनमत की तुलना में कांग्रेस को गुटबाजी से अधिक नुकसान हो सकता है। बहुत कुछ इस बात पर निर्भर करेगा कि गहलोत-पायलट संघर्ष करना जारी रखते ​है या नहीं। ​​

You may also like

MERA DDDD DDD DD