[gtranslate]
Country

मोहन भागवत के बयान पर सियासी दंगल

मॉब लिंचिंग की चर्चा एक बार फिर सुर्खियों में है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) ने रविवार को एक कार्यक्रम में मॉब लिंचिंग और मुसलमानों पर एक बयान दिया है,जिसके बाद राजनीति के गलियारों में एक नई बहस छिड़ गई है। मोहन भागवत के बयान पर तमाम राजनीतिक दलों की ओर से टिप्पणी की जा रही है।

मोहन भागवत(Mohan Bhagwat) ने क्या बयान दिया था?

मॉब लिंचिंग(Mob Launching) का मसला पिछले कुछ वर्षों में बहस का विषय बना है।ऐसे में RSS प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) ने बीते दिन इस मसले पर एक कार्यक्रम में खुलकर बात की। मोहन भागवत(Mohan Bhagwat) ने कहा कि यदि कोई हिन्दू कहता है कि,’मुसलमान यहां नहीं रह सकता है, तो वो हिन्दू नहीं है।’

लिंचिंग विवाद पर मोहन भागवत(Mohan Bhagwat)ने कहा कि गाय एक पवित्र जानवर है, लेकिन जो इसके नाम पर दूसरों को मार रहे हैं, वो हिन्दुत्व के खिलाफ हैं। ऐसे मामलों में कानून को अपना काम करना चाहिए। इसके अलावा मोहन भागवत(Mohan Bhagwat) ने कहा था कि,’ सभी भारतीयों का डीएनए एक है, चाहे वो किसी भी धर्म का हो।’

सिद्ध हो चुका है कि हम पिछले 40,000 सालों से एक ही पूर्वजों के वंशज हैं!

RSS प्रमुख ने कहा कि यह सिद्ध हो चुका है कि,’ हम पिछले 40,000 सालों से एक ही पूर्वजों के वंशज हैं।भारत के लोगों का डीएनए (DNA) एक जैसा है।हिंदू और मुसलमान दो समूह नहीं हैं, एकजुट होने के लिए कुछ भी नहीं है, वे पहले से ही एक साथ हैं।

मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) के बयान पर छिड़ी बहस, जानिए किसने-क्या कहा?

RSS प्रमुख की ओर से ऐसा बयान दिया गया तो इस पर बहस होना तो तय था। सबसे पहली टिप्पणी AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) की आई, जिन्होंने कई ट्वीट कर मोहन भागवत पर पलटवार किया। RSS के भागवत ने कहा लिंचिंग करने वाले हिंदुत्व विरोधी हैं। इन अपराधियों को गाय और भैंस में फर्क नहीं पता होगा, लेकिन क़त्ल करने के लिए जुनैद, अखलाक, पहलू, रकबर, अलीमुद्दीन के नाम ही काफी थे।

ओवैसी बोले कि आसिफ़ को मारने वालों के समर्थन में महापंचायत बुलाई जाती है, जहां भाजपा का प्रवक्ता पूछता है कि “क्या हम मर्डर भी नहीं कर सकते?” कायरता, हिंसा और कत्ल करना गोडसे की हिंदुत्व वाली सोच का अटूट हिस्सा है, मुसलमानों की लिंचिंग भी इसी सोच का नतीजा है।”

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस दिग्गज दिग्विजय सिंह(Digvijay Singh) ने इस मसले पर मोहन भागवत पर तीखा वार किया। सोमवार को दिग्विजय सिंह ने अपने ट्वीट में लिखा कि मोहन भागवत जी यह विचार क्या आप अपने शिष्यों, प्रचारकों, विश्व हिंदू परिषद/ बजरंग दल कार्यकर्ताओं को भी देंगे? क्या यह शिक्षा आप मोदी-शाह जी व भाजपा मुख्यमंत्री को भी देंगे? यदि आप अपने व्यक्त किए गए विचारों के प्रति ईमानदार हैं तो भाजपा में वे सब नेता जिन्होंने निर्दोष मुसलमानों को प्रताड़ित किया है उन्हें उनके पदों से तत्काल हटाने का निर्देश दें।

दिग्विजय सिंह(Digvijay Singh) ने लिखा कि शुरुआत नरेंद्र मोदी व योगी आदित्यनाथ से करें।मुझे मालूम है आप नहीं करेंगे क्योंकि आपके कथनी और करनी में अंतर है. आपने सही कहा है कि #हमपहलेभारतीय_हैं, #WeAreIndiansFirst लेकिन हुज़ूर अपने शिष्यों को तो पहले समझाएं। वे मुझे कई बार पाकिस्तान जाने की सलाह दे चुके हैं!!

मुख्तार अब्बास नकवी ने भी इस बाबत अपना जवाब दिया है

मोहन भागवत के बयान के बाद विपक्षी पार्टियों की ओर से आ रही टिप्पणी का जवाब देने के लिए बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी सामने आए। नकवी ने कहा कि,” भारत का रहने वाला हूं भारत की बात सुनाता हूं, जो इस मिट्टी में जो पैदा हुआ है उसका डीएनए अलग कहां से हो जाएगा।हर हिंदुस्तानी इस बात का गौरव करता है कि वह हिंदुस्तानी है और इस मिट्टी में पैदा हुआ है।”

मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि कुछ लोगों को हिंदुस्तान के डीएनए से एतराज हो सकता है लेकिन इतना जरूर है कि RSS और मोहन भागवत देश को जोड़ने का काम करते हैं। दिग्विजय सिंह और असदुद्दीन ओवैसी को केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने गुमराही गैंग कहा।

नकवी ने कहा कि ये लोग तो वही गाना गाते हैं, “‘मिले सुर मेरा तुम्हारा’, यह तो आतंकियों के मारे जाने और सर्जिकल स्ट्राइक पर भी सवाल उठाते हैं।इनके सुर देश को जोड़ने वाले नहीं हैं, देश को तोड़ने वाले सुर हैं।”

सवाल यह है कि देश में जब भी चुनाव होने वाले होते हैं तभी ऐसे विवादित बयानों की बयार क्यों आती है? सब एक हैं तो यूनिफॉर्म सिविल लॉ, एक जैसी शिक्षा व्यवस्था, एक ही बोर्ड, एक देश एक नियम यह सब धरातल पर आते-आते हिन्दू मुस्लिम एसटी एससी आदि में क्यों बंट जाता है?

क्यों भयंकर ‘भुखमरी और अकाल’ का सामना करने को मजबूर हैं Ethiopia के लोग ?

You may also like

MERA DDDD DDD DD