Country

आंध्र प्रदेश की राजधानी को लेकर सियासी घमासान तेज़

आंध्र प्रदेश की राजधानी को लेकर खींचतान के कारण वहां की राजनीति में इन दिनों सियासी घमासान चरम सीमा पर है। आंध्र प्रदेश की राजधानी को अमरावती से कहीं और शिफ्ट किये जाने को लेकर वाईएसआर कांग्रेस पार्टी और टीडीपी के बीच चल रही खींचतान अभी ख़त्म भी नहीं हुयी थी कि इसी बीच बीजेपी राज्यसभा सांसद टीजी वेंकटेश के एक बयान ने यहां नया सियासी तूफान खड़ा कर दिया है। वेंकटेश ने दावा किया कि वाईएसआर प्रमुख और सूबे के सीएम जगनमोहन रेड्डी ने केंद्र में भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व के साथ अमरावती से राज्य की राजधानी को स्थानांतरित करने की अपनी योजनाओं को साझा किया है।

कुर्नूल में पत्रकारों से बातचीत में बीजेपी राज्यसभा सांसद ने यहां तक दावा किया कि रेड्डी ,सूबे में चार राजधानी शहरों के पक्ष में हैं। उन्होंने कहा, “राज्य के सभी क्षेत्रों का विकास समान रूप से हो सके इसके लिए मुख्यमंत्री विजयनगरम, काकीनाडा, गुंटूर और कडपा, चारों शहरों को इस रूप में विकसित करना चाहते हैं।” वेंकटेश ने साथ ही यह भी कहा कि इस संबंध में जगन मोहन रेड्डी ने केंद्रीय भाजपा नेतृत्व को एक प्रस्ताव भेजा है। साथ ही उन्होंने नई दिल्ली में भाजपा के कुछ वरिष्ठ नेताओं से इस पर चर्चा भी की है।
अमरावती को राजधानी बनाने पर विपक्ष में रहते हुए जगनमोहन ने तत्कालीन टीडीपी सरकार के निर्णय का विरोध किया था। इस बात का जिक्र करते हुए वेंकटेश ने कहा, “यहां की जनता और किसान भी टीडीपी के उस निर्णय (राजाधानी अमरावती) के खिलाफ थे।” वेंकटेश ने यह भी कहा कि इस निर्णय के कारण ही टीडीपी नेता और चंद्रबाबू नायडू के बेटे नारा लोकेश अपना चुनाव हार गए थे। वेंकटेश ने यह खुलासा ऐसे समय में किया है जब मंत्रियों और वाईएसआरसीपी नेताओं के विरोधाभासी बयानों ने भ्रम पैदा कर दिया है कि क्या राजधानी को अमरावती से स्थानांतरित किया जाएगा ?

You may also like