Country world

एक बार फिर चीन की शरण में पाक

चीन के विदेश मंत्री वांग यी चीन-अफगानिस्तान-पाकिस्तान त्रिपक्षीय विदेश मंत्री स्तरीय वार्ता में भाग लेने के लिए इस्लामाबाद पहुंचे हैं। इसी बीच पाक विदेश मंत्री  कुरैशी और यी के बीच वार्ता हुई है। भारत सरकार के जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल-370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। दुनिया भर से बेइज्जत होने के बाद अब पाकिस्तान ने अपने सबसे करीबी देश चीन के सामने एक बार फिर अपना दुखड़ा रोया है। दरअसल पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी और चीन के विदेश मंत्री वांग यी के बीच कल शनिवार को इस्लामाबाद में द्विपक्षीय वार्ता हुई।  इस दौरान पाकिस्तान ने एक बार फिर चीन के सामने कश्मीर का राग रखा। इस वर्ता के बाद चीन ने पाकिस्तान से कहा कि कश्मीर में भारत द्वारा की गई ‘एकतरफा’ कार्रवाई से मामला और ‘जटिल’ होगा।

पिछले महीने पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा भारत सरकार द्वारा  समाप्त किए जाने और उसे दो केन्द्र शासित प्रदेशों- लद्दाख और जम्मू-कश्मीर में बांटे जाने के बाद से ही दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया है। भारत ने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल-370 हटाए जाने को अपना आतंरिक मामला बताया है और पाकिस्तान की ओर से दुनियाभर में दिए जा रहे बयानों को विरोध करते  हुए इसकी आलोचना की है।
इस बैठक के दौरान कुरैशी और यी ने अफगान शांति प्रक्रिया पर समान विचारों को भी रेखांकित किया, कुरैशी ने कहा कि क्षेत्र में शांति और स्थिरता बनाए रखने के लिए पाकिस्तान और चीन समन्वय और सलाह-मशविरा जारी रखेंगे। गौरतलब है कि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने 6 सितंबर शुक्रवार को एलओसी का दौरा किया,जहां पर इलाके में तनाव के बीच बॉर्डर पर हालिया परिस्थितियों के बारे में उन्हें जानकारी दी गई।

 सूत्रों के मुताबिक इमरान खान ने पाकिस्तान के रक्षा और शहीद दिवस के मौके पर एलओसी  का दौरा किया।  इसी दिन ‘कश्मीर के साथ एकजुटता का घंटा’भी मनाया गया।  एक बयान में दावा किया गया, इमरान खान ने पाकिस्तान की ओर से कथित तौर पर भारत की ओर से किए गए युद्धविराम का जबरदस्त जवाब देने की तारीफ की साथ ही कथित तौर पर भारत की आक्रामकता का जवाब देने को पाकिस्तान तैयार रहेगा यह बात भी कही. इस यात्रा के दौरान, खान ने वहां मौजूद सैनिकों और मारे गए सैनिकों के परिवारों से भी मुलाकात  की।

You may also like