[gtranslate]
Country

अब देवभूमि में आपका स्वागत है,प्रतिदिन 2000 आगंतुकों की बाध्यता खत्म

” अतिथि देवो भव: ” की पद्धति को अपने जीवन का मुख्य आधार मानने वाले देवभूमि उत्तराखंड में अब बाहरी राज्यों के लोगों के लिए अपने द्वार खोल दिए हैं । देर शाम प्रदेश के आपदा प्रभारी सचिव ने इस बाबत एक आदेश जारी कर प्रदेश में बाहरी लोगों के आने को छूट दे दी है । इसके साथ ही देवभूमि उत्तराखंड में प्रतिदिन दो हजार व्यक्तियों तक ही आने की बाध्यता भी अब खत्म कर दी गई है।

 

याद रहे कि प्रदेश में प्रतिदिन 2000 व्यक्तियों से ज्यादा के आने पर प्रतिबंध लगा था। लेकिन इसके साथ ही प्रदेश सरकार ने बाहर से आने वाले व्यक्तियों के लिए दो नियमावली लागू की हैं । जिनमें प्रदेश में आने से पहले ई पास की जरूरत नही होगी लेकिन रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी होगा। इसके साथ ही 72 घंटे की एक कोविड-19 के रिपोर्ट भी साथ में लानी होगी। ध्यान रहे कि कोविड-19 की यह रिपोर्ट नेगेटिव हो और साथ ही 72 घंटे के अंदर की ही हो।

प्रदेश के प्रभारी सचिव (आपदा प्रबंधन ) एस. मुरुगेशन ने कल देर शाम इसके आदेश कर दिए हैं। अब तक राज्य में अधिकतम दो हजार लोगों को ही प्रवेश की अनुमति थी और केवल आईसीएमआर से मान्यता प्राप्त लैब से कोरोना निगेटिव रिपोर्ट का होना भी जरूरी शर्त था। बहरहाल, सरकार ने दोनों मानक में ढील दे दी है। अब राज्य में प्रवेश के लिए किसी अनुमति, ई-पास की जरूरत नहीं होगी। रजिस्ट्रेशन और जांच रिपोर्ट से जुड़े दस्तावेजों ही राज्य में प्रवेश के वक्त बार्डर पर चेक किए जाएंगे।

You may also like

MERA DDDD DDD DD