[gtranslate]
Country

पीएम के ‘मोर प्रेम’ पर मचा शोर, लालू हुए आहत तो मोदी को राहत क्यों ?

वर्ष 2017 की बात है जब बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव के पटना स्थित आवास पर दो मोर पाले गये थे। उस दौरान लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव बिहार के वन एवं पर्यावरण मंत्री थे । तेजप्रताप के आदेश पर पटना के संजय गांधी जैविक उद्यान से दो मोर लालू यादव के आवास पर लाये गये थे।

तब इसके पीछे लॉजिक दिया गया कि ऐसा इसलिए किया गया था, क्योंकि लालू यादव की सेहत बहुत खराब थी और उनपर कई मुकदमे भी थे। उस दौरान किसी ज्योतिष ने उन्हें मोर के सान्निध्य में रहने के लिए कहा था।

लेकिन जैसे ही यह खबर मीडिया के जरिए सामने आई तो लालू यादव पर वन प्राणी अधिनियम के उल्लंघन का मामला बन गया था। इससे पहले कि लालू वन विभाग की गिरफ्त में आते मोरो को उडा दिया गया था। शायद यही वजह है कि मोर उनके घर से बरामद नहीं हुए थे। वन विभाग ने पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के निवास पर तब बकायदा छापा मारा था।

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के मोर प्रेम का यह प्रकरण आज इसलिए सुर्खियों में है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कल अपने इस्टाग्राम और ट्विटर हैंडल से मोर के साथ वीडियो जारी की थी। यह वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही है। इस वीडियो के साथ ही पीएम नरेंद्र मोदी ने एक कविता भी लिखी है।

फिलहाल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मोर प्रेम सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बन गया है । खासकर इस बात को लेकर कि जब पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव पर वन अधिनियम कानून के तहत कार्यवाही की गई थी और उनके घर छापा मारा गया था तो पीएम नरेंद्र मोदी के घर पर खुली छूट क्यों? सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मोर प्रेम फिलहाल विरोधियों के निशाने पर आ गया है ।

कांग्रेस के प्रवक्ता पवन खेड़ा ने प्रधानमंत्री मोदी के वीडियो पर तंज कसा है। पवन खेड़ा ने ट्वीट कर कहा है कि वाह मोदी जी वाह! लाखों प्रवासी मज़दूरों को सड़कों पर भूखे पेट पैदल चलने और मरने के लिए छोड़ने वाले प्रधानमंत्री पक्षियों को दाना डालते हुए अपना फोटोशूट करवा रहे हैं। पवन खेडा ने आगें लिखा है कि जब नेता इतना आत्ममुग्ध हो, तो जनता के पास आत्मनिर्भर बनने के सिवा कोई विकल्प भी नहीं है।

यही नहीं बल्कि एक व्यक्ति ने लिखा कि देश के दो करोड़ सैलरी वाले लोग बेरोजगार हो गए हैं और दिहाड़ी पर काम करने वाले 25 करोड़ से ज्यादा लोग बेरोजगार हो गए हैं। फिर भी मोदी जी अपनी ही मस्ती में लगे हैं। देश का मुखिया इस संकट की घड़ी में मौज का वक्त बिताने की बजाए देश के लिए काम करके जॉब्स जाने वाले लोगों को राहत देने के लिए काम करता तो हम भी खुश होते।

इसी के साथ ही लोकप्रिय कवि कुमार विश्वास ने प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी का वीडियो ट्वीट कर इसे विपक्ष के लिए संदेश बताया है। साथ ही कुमार विश्वास ने अपने ट्वीट में लिखा है, “मने अपने वि-पक्षियों को संदेश दे रहे कि वन्स मोर।”

https://twitter.com/DrKumarVishwas/status/1297440206551834624?s=19

वाइल्ड लाइफ विशेषज्ञों की मानें तो चिड़ियाघरों में जो मोर रखे जाते हैं उनके लिए भी स्टेट चीफ वाइल्ड लाइफ वॉर्डन की अनुमति जरूरी है। क्योंकि मोर एक राष्ट्रीय पक्षी है। यह पक्षी वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन एक्ट-1972 के तहत शेड्यूल-1 में हैं। कानूनन जिसके पास भी यह पक्षी होता है उसके खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है। ऐसे व्यक्ति को सात साल तक की सजा या 25,000 रुपये जुर्माना या फिर दोनों ही हो सकता है।

हालांकि, दूसरी तरफ कहा जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्ली के लुटियंस जोन के आवास में रहते हैं । बताया गया कि वहां अक्सर मोर आते रहते हैं। इन मोरों के साथ ही प्रधानमंत्री ने अपनी वीडियो जारी की है । इस पर बताया जा रहा है कि यह मोर पालतू नहीं है, बल्कि लुटियंस जोन के हरियाली वाले इलाके में अक्सर मोर आते रहते हैं। जिनको प्रधानमंत्री दाना खिलाते रहते हैं।

You may also like

MERA DDDD DDD DD