[gtranslate]
Country

डाटा सिक्योरिटी ने जारी किया बयान, कहा- आरोग्य सेतु ऐप से प्राइवेसी को कोई खतरा नहीं

डाटा सिक्योरिटी ने जारी किया बयान, कहा- आरोग्य सेतु ऐप से प्राइवेसी को कोई खतरा नहीं

भारत सरकार की ओर से कुछ समय पहले ही कोरोना की रोकथाम और लोगों की सुरक्षा के मद्देनजर ट्रैकिंग एप आरोग्य सेतु को लॉन्च किया गया था। लेकिन लॉन्च होने के बाद से प्राइवेसी और डेटा सिक्योरिटी को लेकर ऐप पर कई तरह के सवाल उठे हैं। इसपर कांग्रेस नेता राहुल गांधी की ओर से भी आरोप लगाया है कि इससे लोगों की निजता खतरे में पड़ सकती है।

आरोग्य सेतु टीम की तरफ से जवाब

इन सभी सवालों का आरोग्य सेतु ऐप की टीम की ओर से जवाब दिया गया है। आरोग्य सेतु टीम ने स्पष्ट किया है कि आरोग्य सेतु ऐप से किसी भी यूजर की निजता का उल्लंघन नहीं होता है। ऐप में प्राइवेसी से जुड़े सवाल पर टीम ने कहा कि उनके द्वारा निरंतर सिस्टम की टेस्टिंग की जा रही है। साथ ही सिस्टम को अपग्रेड भी किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हम सभी को भरोसा दिलाना चाहते हैं कि अब तक डेटा चोरी या फिर सुरक्षा में चूक जैसा कोई मामला सामने नहीं आया है।

आरोग्य सेतु एप का काम करने का प्रोसेस ऐसा ही है कि यूजर की लोकेशन मांगी जाती है। इसका जिक्र प्राइवेसी पॉलिसी में भी किया गया है। यूजर की लोकेशन को सिक्योर और एन्क्रिप्टेड तरीका से सर्वर पर स्टोर किया जाता है। रजिस्ट्रेशन के दौरान, सेल्फ-असेसमेंट और कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग डेटा भरते दौरान ही किया जाता है। टीम ने बताया कि उन्होंने इस मामले पर कई हैकर्स से बातचीत की हैं। जिसके बाद टीम ने पाया है कि इस एप की सुरक्षा को तोड़ने आसान नहीं है।

पॉपुलर फ्रेंच हैकर ने दी थी चेतावनी

गौरतलब है कि हाल ही में पॉपुलर फ्रेंच हैकर रॉबर्ट बैप्टिस्ट ने जानकारी दी थी कि आरोग्य सेतु में उन्हें बड़ी खामी का पता लगा है। इससे पहले राहुल गांधी ने भी ट्वीट करते हुए कहा था कि आरोग्य सेतु ऐप एक जटिल सर्विलांस सिस्टम है। यह प्राइवेट ऑपरेटर के लिए आउटसोर्स है और कोई संस्थागत निरीक्षण नहीं है और ऐसे में डेटा सिक्योरिटी और गोपनीयता संबंधी चिंताएं बढ़ती हैं।

लेकिन अब ट्विटर पर आरोग्य सेतु के आधिकारिक अकाउंट से ट्वीट कर इस मामले में जानकारी देते हुए स्पष्ट किया गया है कि एप से किसी की भी प्राइवेसी को लेकर कोई खतरा नहीं है और डेटा पूरी तरह सुरक्षित है। भारत सरकार ने इस ऐप को कोरोना संक्रमण को ट्रैक करने के लिए लॉन्च किया था। एक महीने के अंदर अब तक इस एप को नौ करोड़ से अधिक लोगों द्वारा डाउनलोड किया जा चुका है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD