[gtranslate]
Country

नए शोध से बढ़ी चिंता, ओमिक्रोन पर अधिकांश टीके नहीं प्रभावी

विश्व में कोरोना की धीमी रफ्तार एक बार फिर बढ़ती जा रही है। दोनों खुराक लेने वाले भी संक्रमित हो रहे हैं। इस समय कोरोना से बचाव के लिए मास्क और कोरोना वैक्सीन को ही कारगर माना जा रहा है। लेकिन वैक्सीन की प्रभावशीलता पर अब सवाल उठने लगे है। इस बीच विशेषज्ञों ने भी विश्व को चेतावनी दी है कि कोरोना महामारी का असर बहुत तेज हो गया है। हाल में में न्यू यॉर्क टाइम्स में पब्लिश एक रिपोर्ट में चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं।

इस रिपोर्ट के अनुसार कोविशील्ड सहित सभी टीके ओमिक्रोन के खिलाफ सभी विफल हो गए हैं। शोधक के अनुसार, 2 ही टीके ओमिक्रोन पर  प्रभावी हैं। हालांकि ओमिक्रॉन से संक्रमित होने के बाद टीका लगाने वाले गंभीर रूप से बीमार नहीं हो रहे हैं।

कोरोना महामारी से बचना आसान नहीं

दरअसल ओमिक्रॉन  पर कोरोना का टीका कितना कारगर है, इस पर शोध किया जा रहा है। इस शोध की शुरुआती रिपोर्ट के मुताबिक ओमिक्रॉन  के संक्रमण से ऐसे ही लोग बचे हैं। जिन्हें बूस्टर डोज के साथ फाइजर और मोर्डर्ना का टीका लगाया गया है। लेकिन ये दोनों टीके कुछ देशों में उपलब्ध हैं। एस्ट्राजेनेका, जॉनसन एंड जॉनसन और रूस के टीके भी ओमिक्रॉन  के खिलाफ कम प्रभावी हैं।

ये दोनों टीके प्रभावी हैं

न्यूयॉर्क टाइम्स के अनुसार, अधिकांश साक्ष्य प्रयोगशाला प्रयोगों पर आधारित हैं। जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को पूरी तरह से कवर नहीं कर पाते हैं। फाइजर और मोर्डर्ना  के टीके नई एमआरएनए तकनीक पर आधारित हैं। दोनों टीकों ने अब तक लोगों को नए वेरिएंट से बचाया है। अमेरिका और यूरोप के कुछ देशों में इसका इस्तेमाल किया जा रहा है। चीन के दो टीके, सिनोफार्म और सिनोवैक ओमाइक्रोन, बिल्कुल भी प्रभावी नहीं हैं।

ब्रिटेन में एक प्रारंभिक अध्ययन में पाया गया कि ऑक्सीकोडोन के टीके 6 महीने के बाद ओमिक्रॉन से सुरक्षा प्रदान नहीं करते हैं। भारत में 90% लोगों को कोवशील्ड के खिलाफ टीका लगाया गया है। जिसका अफ्रीका में खूब इस्तेमाल होता है। ग्लोबल कोरोना वैक्सीन प्रोग्राम कोवेक्स ने 44 देशों में इसकी 67 मिलियन खुराक बांटी है।

यह भी पढ़ें : कोरोना महामारी का एपिसेंटर बना यूरोप

रूस में वैक्सीन की स्थिति

शोधकर्ताओं का मानना है कि रूसी स्पुतनिक वैक्सीन का इस्तेमाल अफ्रीका और लैटिन अमेरिका में किया जा रहा है। यह ओमिक्रोन से सुरक्षा प्रदान नहीं करता है। जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन के बारे में भी यही सच है। यह ओमिक्रोन  से सुरक्षा प्रदान नहीं करता है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD