[gtranslate]
Country

नेजल वैक्सीन को मिली मंजूरी

कोरोना जैसी महामारी से निपटने के लिए देश को एक और हथियार मिल चुका है। दरअसल देश – विदेश में बढ़ते हुए कोरोना के बीच एक और बूस्टर डोज को मंजूरी मिल चुकी है। यह बूस्टर डोस भारत के बायोटिक कंपनी की है। जिसके नेजल वैक्सीन को केंद्र सरकार ने मंजूरी दी है। इस वैक्सीन के दो बूंद से ही कोरोना के बेअसर होने का दावा किया जा रहा है। इसी संदर्भ में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने भी राज्यसभा में कहा था कि एक्सपर्ट कमेटी ने नेजल वैक्सीन को मंजूरी दे दी है। नेजल वैक्सीन को 23 दिसम्बर से टीकाकरण अभियान में शामिल किया जा रहा है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री के मुताबिक भारत बायोटेक की इस नेजल वैक्सीन को कोविन ऐप पर शामिल किया जाएगा। फिलहाल, अभी निजी अस्पतालों में ही यह वैक्सीन उपलब्ध होगी। सरकार जल्द ही इसे सरकारी अस्पतालों से लेकर मार्केट में भी उपलब्ध करा सकती है। गौरतलब है कि इस वैक्सीन को मंजूरी मिलने से अब किसी को वैक्सीन के लिए इंजेक्शन लेने की जरूरत नहीं होगी। व्यक्ति चाहे तो नाक में दो बूंद ड्रॉप वाली यह वैक्सीन भी ले सकता है।

गौरतलब है कि भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड ने इस इनकोवैक वैक्सीन को लेकर नवंबर में केंद्र सरकार से संपर्क साधा था। उस दौरान बायोटेक ने केंद्र सरकार से इस कोविड रोधी दवा ‘इनकोवैक’ को कोविन पोर्टल में शामिल करने का अनुरोध किया था। जिससे इस वेक्सीन को भी लेने वाले लोग को टीकाकरण का प्रमाणपत्र मिल सके। अभी भारत बायोटेक की कोवैक्सीन, सीरम इंस्टीट्यूट की कोविशील्ड और कोवैक्स, रूस की स्पूतनिक वी और बायोलॉजिकल ई लिमिटेड की कोर्बेवैक्स को कोविन पोर्टल में सूचीबद्ध किया गया है। 6 सितंबर को टीका निर्माता द्वारा घोषणा की गई थी कि नाक से दी जाने वाली दुनिया की पहली कोविड-19 रोधी दवा ‘इनकोवैक को आपात स्थिति में सीमित इस्तेमाल के लिए भारत के औषधि महानियंत्रक की मंजूरी मिल गई है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD