[gtranslate]
Country

नरेंद्र मोदी 17-18 अगस्त को जाएंगे भूटान

विदेश सचिव, विजय गोखले ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए पत्रकारों को बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 17 से 18 अगस्त को भूटान जाएंगे। अपनी ‘पड़ोस नीति’ पर जोर देते हुए वह वहां पर 720 मेगावॉट  जल विद्युत परियोजना का उद्घाटन भी करेंगे।
बुनियादी ढांचे के विकास के साथ अपने पड़ोसी देशों में रणनीतिक प्रभाव को बढ़ाने के भारत के आर्थिक कूटनीति प्रयासों के एक हिस्से के रूप में, भारत भूटान को रियायती वित्त के साथ 10,000 मेगावॉट जलविद्युत निर्माण में मदद कर रहा है। जिसमें कुल निवेश लगभग $ 1 बिलियन होने की उम्मीद है।
एनएचपीसी लिमिटेड, भारत की सबसे बड़ी पनबिजली कंपनी  से महत्वपूर्ण मंगदेछु परियोजना के लिए डिजाइन और इंजीनियरिंग सलाहकार भी है, जो 15 जुलाई को पूरी तरह से चालू हो गई थी।  रन-ऑफ-द-नदी परियोजना, मध्य भूटान में ट्रोंगसा डोंग्खग जिले में मंगदेछु नदी पर स्थित है।  परियोजना के निर्माण के लिए द्विपक्षीय समझौते पर भारत और भूटान के बीच 30 अप्रैल 2010 को हस्ताक्षर किए गए थे।
2017 में चीन-भारत सैन्य के आमने सामने के बाद  जो भूटान द्वारा दावा किए गए क्षेत्र में चीनी सैनिकों द्वारा घुसपैठ के कारण शुरू हुआ। उसके बाद भूटान में मोदी की यह पहली यात्रा होगी।
” 720 मेगावॉट  जल विद्युत परियोजना एक बहुत बड़ी परियोजना है जिसके द्वारा उत्पन्न बिजली भारत द्वारा खरीदी जाएगी।”
 ये जलविद्युत परियोजनाएं उन क्षेत्रों में प्रति व्यक्ति आय में सुधार करने की क्षमता रखती हैं। विजय गोयल ने भूटान का उदाहरण देते हुए कहा, जिसमें भारत द्वारा उत्पादित बिजली का एक बड़ा हिस्सा खरीदा गया है। थिम्पू में भारतीय दूतावास के अनुसार, जलविद्युत निर्यात भूटान के घरेलू राजस्व का 40% से अधिक प्रदान करता है, और इसके सकल घरेलू उत्पाद का 25% हिस्सा है। भूटान में स्तिथ  जल विद्युत उत्पादन की क्षमता 30,000 MW है।
नरेंद्र मोदी, भूटान में हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट सेक्टर, स्पेस सेक्टर और शिक्षा के क्षेत्र में कई समझौतों पर हस्ताक्षर करेंगे। वह भूटान के सभी एमपी से भी मुलाकात करेंगे जो नवनिर्वाचित होकर मौजूदा भूटान सरकार में शामिल हैं। विजय गोखले ने बताया कि भूटान से मोटरवेहकिल एग्रीमेंट भी अभी प्रक्रिया में है। एक पत्रकार के सवाल के जवाब में गृह सचिव विजय गोखले ने बताया कि भूटान दूसरा ऐसा देश बनने जा रहा है जहां पर मार्च 2020 से रुपे कार्ड स्वीकार किये जाएंगे। इससे पहले सिंगापुर पहला ऐसा देश है जहां पर भारतीय रुपे कार्ड को स्वीकार किया जाता है।
मोदी के इस भूटान दौरे का उद्देश्य वहां के युवाओं को भारत के उद्योग,शिक्षा क्षेत्र आदि में प्रतिभाग करने के लिए उत्साहित करना है। भूटान से स्वास्थ्य संबंधी समझौतों पर भी हस्ताक्षर किए जाएंगे जिससे मॉडर्न अस्पतालों की नींव रखी जाएगी।
एक ओर सरकार ने अपने पड़ोसी नीति को अपनाया है तो दूसरी ओर भूटान, लगातार 23वीं बार चीन से बॉर्डर संबंधी वार्ता कर चुका है।

You may also like