[gtranslate]
Country

भारत में 10 हजार से ज्यादा कोरोना मरीज ठीक हुए, अब 26,535 एक्टिव केस

मेडिकल प्लानिंग के कारण भारत में कोरोना मृत्यु दर सबसे कम: स्वास्थ्य मंत्रालय

चीन से शुरू होकर पुरे दुनिया में फैला कोरोना वायरस का अभी तक कोई दवा नहीं बन पाया है। इससे सबसे ज्यादा परेशान अमेरिका देश है। वहां 65 हजार से अधिक लोगों की मौत कोरोना से हुई है।

वहीं भारत में करीब 38 हजार मामले सामने आए हैं। इसके मामले दिन पर दिन बढ़ते ही जा रहे है जिसे देख भारत सरकार ने लॉकडाउन को और आगे बढ़ा दिया। आज दूसरा लॉकडाउन का आखरी दिन था पर शुक्रवार को और 14 दिनों के लिए बढ़ा दिया गया है। अब यह तीसरा लॉकडाउन कल से शुरू होकर 17 मई तक जारी रहेगा। इस लॉकडाउन में सभी जिलों को 3 जोन में बांटा गया है।

ग्रीन जोन में वह जिले आते है जहां अभी तक कोई मामला नहीं आया या बीते 21 दिनों में कोई मामला नहीं आया। इस जोन का मतलब है संक्रमण मुक्‍त हो गया है।  ग्रीन जोन के अंदर भी जिन लोगों को क्‍वारंटाइन में रखा जाएगा उन्‍हें किसी भी तरह के मेल जोल की इजाजत नहीं होती।

ऑरेंज ज़ोन में वे जिले आते है जिन्हें न तो लाल और न ही हरे रंग के रूप में रखा गया है। जब किसी रेड जोन क्षेत्र में 14 दिन तक कोई नया केस नहीं मिलता तो उसे रेड से बदलकर ऑरेंज जोन में शिफ्ट कर दिया जाता है। इस तरह के जोन में वो इलाके या जिले आते हैं जहां से संक्रमण के कुछ मामले निकलकर सामने आते हैं।

रेड जोन ये जोन सबसे खतरनाक होता है। रेड जोन का अर्थ है कि यहां पर संक्रमण की चपेट में कई लोग आ चुके हैं और इसके बढ़ने या यहां की वजह से कहीं दूसरी जगह संक्रमण के बढ़ने की आशंका काफी अधिक होता है। रेड जोन के रूप में जिलों का वर्गीकरण सक्रिय मामलों की कुल संख्या, पुष्टि किए गए मामलों की दर को दोगुना करने, जिलों से परीक्षण और निगरानी फीडबैक की सीमा को ध्यान में रखेगा।
ग्रीन जोन में 319 जिले हैं।
ऑरेंज जोन में 284 जिले हैं।
रेड जोन में 130 जिले हैं।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय अनुसार, देश में कुल कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 37,776 है। इनमें से 26,535 एक्टिव केस हैं। 10,018 मरीज स्वस्थ्य होकर अपने घरों को जा चुके हैं। तो वहीं मृतकों का संख्या 1223 हो गया है।  भारत में 1,000 से अधिक केस वाले नौ राज्य हैं जिसमे सबसे जायदा महाराष्ट्र राज्य है यहाँ पर 11,506 मामले सामने आए है। गुजरात में 4,721, दिल्ली में 3,738, मध्य प्रदेश में 2,719, राजस्थान में 2,666, तमिलनाडु में 2,526, ​​उत्तर प्रदेश में 2,455, आंध्र प्रदेश में 1,525 और तेलंगाना में 1,057 मामले सामने आए हैं।
तमिलनाडु में सबसे अच्छा रिकवरी रेट सामने आया है। यहाँ कल तक यानी 2 मई तक, राज्य के कुल 2,526 मरीजों में से लगभग 52 प्रतिशत या तो रिकवर हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है। इसके बाद तेलंगाना और राजस्थान का नम्बर है जहां 42 प्रतिशत मरीज ठीक हो गए हैं। दिल्ली में लगभग 31 प्रतिशत लोग रिकवर हुए हैं। वहीं उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में रिकवरी रेट 28 प्रतिशत रहा है। तो वहीं महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के सबसे अधिक मामले 11,506 हैं। वहां 1,879 यानि 16 प्रतिशत लोग रिकवर हुए हैं। गुजरात में  रिकवरी रेट सबसे कम 15.56 प्रतिशत है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD