[gtranslate]
Country

मणिपुर:मुख्यमंत्री के खिलाफ शिकायत करने वाली महिला अधिकारी गिरफ्तार

मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह पर ड्रग्स तस्करों को बचाने का आरोप लगाने वाली नारकोटिक्स एंड अफेयर्स ऑफ बॉर्डर ब्यूरो (एनएबी) की महिला अधिकारी को गिरफ्तार कर लिया गया है। इम्फाल वेस्ट पुलिस ने मंगलवार को आरोप लगाया कि पुलिस अधिकारी थोउनाओजम बृंदा और दो अन्य ने लोगों ने लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन किया है।

इम्फाल फ्री प्रेस के मुताबिक, संगिप्राउ लामखाई में सोमवार की रात को लॉकडाउन प्रतिबंधों का उल्लंघन करने के आरोप में बृंदा और उनके साथियों को अस्थाई रूप से हिरासत में लिया गया था। इम्फाल के पुलिस महानिरीक्षक के. जयंता ने बताया कि बृंदा की पुलिस निगरानी नहीं कर रही है और न ही उन्हें निशाना बनाने का कोई इरादा था।

बृंदा ने हिरासत में लिए जाने के बाद एक फेसबुक पोस्ट लिखा है जिसको लेकर महानिरीक्षक के. जयंता ने ये बात कही। बृंदा ने मंगलवार शाम को अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा, “काकचिंग कंट्रोल रूम की रिपोर्ट के अनुसार, रात 12.40 बजे क्वाकीथेल एफसीआई क्रॉसिंग पर मुझे, सोनिया फरिम्बम और तेनाव को इम्फाल वेस्ट पुलिस द्वारा कर्फ्यू उल्लंघन के आरोप में हिरासत में ले लिया गया।”

बृंदा ने आगे लिखा, “रात होने के कारण मेरे पति कर्फ्यू उल्लंघन के लिए जुर्माना भरने और हम महिलाओं को छुड़ाने के लिए सहमत हो गए और लेकिन उन्होंने मना कर दिया। पुलिस कह रही है कि लमपेल पुलिस मुझे गिरफ्तार करने आ रही है। हम पूरी तरह से वर्दीधारी में सशस्त्र पुलिसकर्मियों से घिरे हुए हैं।”

उन्होंने पुलिस पर आरोप लगाया कि पुलिस की तरफ से उन्हें किन आरोपों में हिरासत में लिया गया इसकी जानकारी नहीं दी। बृंदा ने बताया कि उनका बयान लिया गया, तस्वीरें ली गईं और दो घंटे बाद जाने दिया गया।

दूसरी तरफ इम्फाल वेस्ट जिले के पुलिस अधीक्षक के. मेघचंद्र ने इस मामले पर कहा, “बृंदा जिस कार में सवार थीं उसे वाली चलाने महिला ने खुद की पहचान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के रूप में की थी। हालांकि, उचित सत्यापन से पहले वह वाहन को लेकर आगे चली गईं जिसके बाद एक चेतावनी जारी की गई।”

वहीं इम्फाल फ्री प्रेस ने बताया, “पुलिस ने आरोप लगाया है कि वाहन में रहने वालों ने उनकी यात्रा का विवरण देने से इनकार कर दिया और उनका रवैया भी ठीक नहीं था। इसके बाद बृंदा को अंदर बुलाया गया और पुलिस टीम को वाहन का निरीक्षण करने की अनुमति दी गई।”

हालांकि, पुलिस ने कहा कि बृंदा को एक चालान काटकर 2.30 बजे जाने दिया गया। पर बाद में पुलिस ने बयान जारी कर आरोप लगाया गया कि बृंदा गैर-जिम्मेदार तरीके से अपने दोस्तों के साथ पांच जिलों में गई थीं।

उल्लेखनीय है कि एनएबी की अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक थोउनाओजम बृंदा ने 13 जुलाई को इम्फाल हाईकोर्ट के समक्ष दायर एक हलफनामे में मुख्यमंत्री पर आरोप लगाया कि उनकी तरफ से एक ड्रग्स को बचाने का प्रयास किया जा रहा है। दरअसल, जून 2018 में ड्रग्स तस्करी की एक छापेमारी की गई थी। पुलिस ने जो नशीले पदार्थों जब्त किए थे जिसकी नकदी कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में करीब 28 करोड़ रुपये से अधिक आंकी गई थी।

You may also like

MERA DDDD DDD DD