[gtranslate]
Country

जन्मदिन पर माहरानी दिखाएगी ताकत, शाह से मिलकर हुई सक्रिय

काफी दिनों राजस्थान की राजनीति में निष्क्रिय रही भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया सक्रिय होने की तैयारी कर रही है। पार्टी हाईकमान द्वारा हासिए पर डाल दिए जाने के डर से सिंधिया ने राज्य में अपनी ताकत दिखाने के लिए 8 मार्च को चुना है।

इस दिन वह अपने जन्मदिन पर भरतपुर जिले में स्थित कृष्ण मंदिर और आदि बद्री धाम से यात्रा शुरू करने जा रही हैं। इस यात्रा का मकसद प्रदेश में होने वाले उपचुनाव है। जिनमे विजय पाने के लिए पार्टी के वरिष्ठ नेता और गृह मंत्री अमित शाह सिंधिया से चार दिन पहले मुलाकात कर चुके है। इस मुलाकात की राजनीतिक गलियारों में चर्चा ए आम है। इससे पहले शाह और सिंधिया की दूरी जगजाहिर थी।

याद रहे कि पूर्व मुख्यमंत्री सिंधिया ने भाजपा में एक नए प्रदेश नेतृत्व की नियुक्ति के बाद से ही पार्टी कार्यालय और इसकी गतिविधियों से खुद को दूर कर लिया था। सिंधिया के समर्थकों ने दिसंबर 2020 में ‘टीम वसुंधरा राजे’ के 25 जिला अध्यक्षों की घोषणा करके भाजपा को पशोपेश में डाल दिया था और इस सूची को सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया था।

सोशल मीडिया पर ‘वसुंधरा राजे टीम 2023’ को लेकर काफी चर्चा चल रही है। इस शोशल मिडिया प्लेटफार्म पर सिंधिया को अगले सीएम चेहरे के रूप में पेश किया जा रहा है।इस बीच सोशल मीडिया पर ‘टीम वसुंधरा राजे किसान मोर्चा’ के नाम से एक और नया ग्रुप सामने आया है और इसके लिए 10 जिलों में अध्यक्ष नियुक्त किए गए हैं।

उधर , दूसरी तरफ वसुंधरा राजे सिंधिया और अमित शाह की मुलाकात के बाद कई सियासी मायने निकाले जा रहे हैं। सर्वविदित है कि राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार की कैबिनेट विस्तार होना है। बताते चलें कि मंत्रिमंडल विस्तार से पहले राज्य भाजपा विधायक दल के नेता गुलाबचंद कटारिया ने सरकार गिरने की बात भी कही है।

ऐसे में शाह-वसुंधरा के बीच मुलाकात से सियासी मायनें निकलना शुरू हो गया है। सूत्रों के अनुसार भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे सिंधिया और गृहमंत्री अमित शाह के बीच हुई मुलाकात में आगामी उपचुनाव को लेकर रणनीति भी बनी है। राज्य में चार सीटों पर उपचुनाव होना है, जिसमें बीजेपी की अग्निपरीक्षा होनी है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD