[gtranslate]
Country

कोविड-19 से मुकाबला के लिए L&T कंपनी देगी 40 करोड़ रुपये की चिकित्सा सहायता

कोविड-19 से मुकाबला के लिए L&T कंपनी देगी 40 करोड़ रुपये की चिकित्सा सहायता

भारत के प्रमुख प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग, निर्माण, निर्माण और वित्तीय सेवाओं के समूह लार्सन एंड टुब्रो यानी एल एंड टी ने अपनी कॉर्पोरेट जिम्मेदारी के एक भाग के रूप में कोविड-19 से लड़ने में मदद करने के लिए कोविड डायग्नोस्टिक किट, पीपीई, एन 95 मास्क और अन्य चिकित्सा उपकरण प्रदान करने की योजना बनाई है। इन चिकित्सा उपकरणों पर 40 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। यह राशि पीएम केयर्स फंड में कंपनी के योगदान के अलावा है। 30 मार्च को कंपनी ने पीएम केयर्स फंड में 150 रुपये करोड़ का योगदान करने का एलान किया था। इसके अलावा कंपनी ने देशभर में 1,60,000 अनुबंध श्रमिकों की बेहतरी के लिए प्रति माह 500 करोड़ रुपये खर्च करने का एलान भी किया था।

लार्सन एंड टुब्रो के सीईओ और एमडी एस एन सुब्रह्मण्यन कहते हैं, “हम इस महत्वपूर्ण समय में केंद्र और राज्य सरकारों का समर्थन कर रहे हैं और कोविड-19 के खिलाफ भारत की लड़ाई में हर संभव मदद की पेशकश कर रहे हैं। एक जिम्मेदार कॉर्पोरेट नागरिक के रूप में, हम पीपीई, डायग्नोस्टिक किट, एन 95 मास्क और वेंटिलेटर सहित महत्वपूर्ण अस्पताल उपकरण प्रदान कर रहे हैं जो महामारी को प्रभावी ढंग से काबू करने में सहायक होंगे। यह पीएम केयर्स फंड में 150 करोड़ रुपये के हमारे योगदान के अतिरिक्त है और हम आगे भी अन्य चिकित्सा आपूर्ति उपलब्ध कराने में अधिकारियों की मदद करेंगे।”

इस समूह ने महाराष्ट्र, तमिलनाडु, गुजरात, बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, असम और तेलंगाना की राज्य सरकारों के तहत विभिन्न स्वास्थ्य सेवाओं के लिए 45,000 व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) प्रदान करने की योजना बनाई है। कंपनी की मध्य प्रदेश, बिहार, गुजरात, तेलंगाना, तमिलनाडु और महाराष्ट्र में स्वास्थ्य एजेंसियों को 1,51,000 एन-95 मास्क प्रदान करने की योजना भी है।

कंपनी ने तमिलनाडु हेल्थ डिपार्टमेंट द्वारा संचालित द किंग इंस्टीट्यूट ऑफ प्रिवेंटिव मेडिसिन एंड रिसर्च, चेन्नई को पूर्व में गद्दों सहित 100 से अधिक सेमी फाउलर बेड, 2 वेंटिलेटर्स, 7 बिपैप वेंटिलेटर और 20 मल्टीपेरटर मॉनीटर सौंप दिए हैं। शीघ्र ही इंस्टीट्यूट को एलएंडटी से 8 वेंटिलेटर और प्राप्त होंगे। कंपनी बिहार, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र में राज्य स्वास्थ्य अधिकारियों के लिए 12 वेंटिलेटर प्रदान करने की भी योजना बना रही है।

एल एंड टी ने पुणे स्थित मालिक्यूलर डायग्नोस्टिक कंपनी माईलैब डिस्कवरी सॉल्यूशंस द्वारा विकसित 155 मेक-इन-इंडिया टेस्ट किट्स केंद्र सरकार और राज्य सरकारों को प्रदान करने की योजना भी बनाई है। प्रत्येक किट 100 परीक्षण कर सकती है और 2.5 घंटे में संक्रमण का पता लगाने में सक्षम है, जबकि अन्य आयातित किटों की तुलना में अधिक समय लगता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि कोरोनो वायरस के लक्षणों की जांच करना ही इस महामारी के खिलाफ सबसे महत्वपूर्ण और कारगर उपाय है। लेकिन दुनिया को परीक्षण किटों की कमी का सामना करना पड़ रहा है और दुनिया भर की प्रयोगशालाएं कम आपूर्ति के साथ या कम क्षमता के साथ जांच कर रही हैं। भारत कोविड-19 की स्क्रीनिंग करने के लिए और अधिक परीक्षण किटों को तैनात करने के लिए कमर कस रहा है और एल एंड टी जैसे कॉर्पोरेट भी इस कारण से योगदान दे रहे हैं।

हाल के दौर में लागू लॉकडाउन के दौरान दैनिक वेतनभोगियों को अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इसे देखते हुए एल एंड टी ने अपने एनजीओ भागीदारों के माध्यम से 1,966 परिवारों को किराने की किट और मुंबई में 8,000 लोगों को पका भोजन उपलब्ध कराया है। इसके अलावा, कंपनी चेन्नई के सार्वजनिक अस्पतालों में फंसे डॉक्टरों, स्वच्छता कर्मचारियों को 2 सप्ताह के लिए प्रति दिन 2,000 भोजन पैकेट प्रदान कर रही है। इसके अतिरिक्त, राज्य की राजधानी तमिलनाडु में प्रवासी श्रमिकों और कामगारों को 20,000 भोजन पैकेट उपलब्ध कराए जा रहे हैं।

कंपनी देशभर में 1,60,000 अनुबंध श्रमिकों की बेहतरी के लिए प्रति माह 500 करोड़ रुपये खर्च करने का एलान पहले ही कर चुकी है। यह राशि लॉकडाउन के दौरान उनके वेतन का भुगतान जारी रखने और श्रम शिविरों में भोजन और बुनियादी सुविधाओं को प्रदान करने पर खर्च की जाएगी। इस दौरान कोविड- 19 से संबंधित तमाम सुरक्षा उपायों और सोशल डिस्टेंसिंग के पूरे नियंत्रण प्रोटोकॉल का पालन किया जा रहा है।

You may also like