[gtranslate]
Country

किसानों पर लॉकडाउन की मार, सरकार ने कहा 20 अप्रैल से पहले न काटे गेहूं 

किसानों पर लॉकडाउन की मार, सरकार ने कहा 20 अप्रैल से पहले न काटे गेहूं 

देश के अधिकतर किसान 15 मार्च को ओलावृष्टि से हुई फसलों की बर्बादी को अभी बर्दाश्त कर भी नहीं पाए थे कि इसी दौरान कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन हो गया। पहले ओलावृष्टि और उसके बाद फिर फसलों को काटने के लिए किसानों को मजदूरों का टोटा पड़ गया। क्योंकि सभी मजदूर अपने दूरदराज के गांवों को निकल गए। देखे तो दिल्ली एनसीआर के किसान ज्यादातर इन मजदूरों पर ही निर्भर थे। इसके बाद यहां के किसानों ने जैसे-तैसे करके फसल को काटकर घरों में लाने और सरकार के बिक्री केंद्र तक पहुंचाने का मन बना लिया था।

अप्रैल की 1 तारीख से ही किसानों की फसल ज्यादातर खेतों में पक कर तैयार हो गई है। इसमें थोड़ा नमी होने पर किसान यह सोचकर अभी अपने अपने घरों में आराम कर रहे थे कि एक-दो दिन में वह अपनी रबी की फसल की कटाई शुरू कर देंगे। लेकिन इन बेचारे किसानों को क्या पता था कि अब उन पर लॉकडाउन की मार पड़ने वाली है। आज सरकार ने किसानों के लिए लॉकडाउन के मद्देनजर एडवाइजरी जारी की है। जिसके चलते किसान अपनी पकी पकाई फसलों को 20 अप्रैल तक खेत से काटकर न घर ला सकता है और न ही बिक्री केंद्रों पर पहुंचा सकता है।

इससे किसान पशो-पेश में है। किसान समझ नहीं पा रहे हैं कि आखिर वह क्या करें। अगर वह अपनी फसलों को 20 अप्रैल तक खेतों में ही खड़ा रहने दे तो वह सुखकर अपने आप ही वहीं झड़ जाएगी और अगर खेतों से फसलों को काटकर वह बिक्री केंद्रों तक पहुंचाता है तो किसान पर सरकार की नाराजगी महंगी पड़ सकती है। हालांकि, जिस तरह से एडवाइजरी जारी हुई है उससे लगता है कि 20 अप्रैल से पहले गेहूं बिक्री केंद्र शुरू नहीं होंगे। गौरतलब है कि गेहूं को रबी की फसलों में सबसे प्रमुख फसल माना जाता है। फसल पकने के बाद आमतौर पर अप्रैल के शुरुआती 10 दिनों में इसकी कटाई का काम शुरू हो जाता है। लेकिन लॉकडाउन के चलते इस बार इसमें देरी हो सकती है।

कृषि क्षेत्र में काम करने वाली सबसे अहम सरकारी संस्था भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) ने देशभर के किसानों के लिए एक एडवाइजरी जारी की है। इस एडवाइजरी में सभी किसानों से गेहूं की कटाई का काम 20 अप्रैल तक टालने की अपील की गई है। एडवाइजरी में कहा गया है कि इसबार गेहूं को पूरी तरह पकने में 10 अप्रैल से ज़्यादा का समय लग सकता है। क्योंकि इस बार तापमान में नमी की मात्रा औसत से ज़्यादा है। परिषद् का यह भी कहना है कि इसके चलते वैसे भी गेहूं की कटाई का काम देरी से शुरू होगा। लेकिन कोरोना के चलते लॉकडाउन को देखते हुए कहा गया है कि इसे कम से कम 20 अप्रैल तक टाल दिया जाए।

यही नहीं बल्कि परिषद ने गेहूं के अलावा सरसों, चना और दाल जैसी अन्य रबी फसलों की कटाई के सम्बंध में भी एडवाइजरी के रूप में एक विस्तृत दिशानिर्देश जारी किए हैं। इन दिशानिर्देशों में कटाई और उसके बाद की प्रक्रिया के दौरान सभी मज़दूरों और किसानों को मास्क लगाने के साथ साथ खेतों में भी दूरी बनाए रखने की सलाह शामिल हैं। इतना ही नहीं, खाना खाने या आराम करने के दौरान भी 3-4 फीट की दूरी बनाए रखने की सलाह दी जा रही है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD