[gtranslate]
Country world

जानिए,  Google ने इस छात्र को क्यों दिया 22 लाख का ईनाम ? 

इस वर्ष हुए गूगल फ़ॉर डूडल कम्पटीशन के विजेता की घोषणा कर दी गई है। इस डूडल को कल यानी कि 15 जून को अमेरिका में गूगल के होमपेज पर दिखाया जाएगा। इसके बारे में Google की सीईओ सुंदर पिचाई ने घोषणा की। इस डूडल के बारे में ब्लॉग पोस्ट में बताया भी गया है। इस बार डूडल फॉर गूगल का विनर  11वीं के छात्र मिलो गोल्डिंग को घोषित किया गया है।
प्रतियोगिता में  54 डूडल को सेलेक्ट किया गया था।इसे हर एक राज्य और यूएस टेरिटरी  से सेलेक्ट किया गया था। गूगल ने इसके लिए वोटिंग को ओपन करके बेस्ट डूडल चुनने को कहा था। सबसे ज्यादा वोट मिलने वाले डूडल को ग्रेड ग्रुप से सेलेक्ट किया गया , इसके बाद जज के पैनल ने फाइनल विनर को सेलेक्ट किया है।

आइये, मिलो गोल्डिंग और इस google for doodle के बारे में और जानते हैं

 डूडल को 11वीं के छात्र और लेक्सिंग्टन में रहने वाले मिलो गोल्डिंग ने बनाया है। इनके डूडल का नाम ‘फाइंडिंग हॉप’ है। इसे गूगल के होमपेज पर 15 जून को दिखाया जाएगा।इस आर्टवर्क में एक टीनएज लड़का एक छोटे लड़के को बैलून दे रहा है जो ओ लेटर को भी रिप्रेजेंट कर रहा है।
इस सीन में होपफुल, कलरफुल मोमेंट्स हैं जो ब्लैक और व्हाइट बैकग्राउंड के बोल्ड कंट्रास्ट के साथ है। ये हम में कई लोगों के एहसासों को दर्शाता है। जो हम सबने कभी ना कभी अपने लाइफ में महसूस किया है।
google
इस डूडल के साथ मेरा पर्सनल कनेक्शन है।
– मिलो

दीवार पर पेंटिंग करने के लिए पड़ती थी कभी डांट

मिलो गोल्डिंग ने बताया एक टाइम था जब उनके माता-पिता को रिश्तेदारों से माफी मांगनी पड़ती थी क्योंकि वो उनके दीवार पर ड्राइंग बना देते थे। वो हमेशा ही अपने पेंसिल और ड्राइंग बुक को साथ रखते हैं। उनके पिता की मौत के बाद तो उनके जीवन का उद्देश्य ही बदल गया और वे सिर्फ़ सामाजिक कार्य और पेंटिंग में मशगूल हो गए।

Read Also :

हर साल Google ‘डूडल फ़ॉर गूगल’ प्रतियोगिता कराता है। जिसका हर वर्ष अपना एक स्पेसिफिक थीम के होता है।…
गोल्डिंग ने कुछ सालों पहले ‘Sanguine Path’ नाम से चैरिटी शुरू किया । इसमें 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चे जिसने किसी अपने करीबी को खोया है, उसे उसके दुःख से बाहर निकालने की कोशिश की जाती है। उन्हें क्रिसमस और बर्थ डे गिफ्ट, केयर पैकेज और बैक टू स्कुल किट दिया जाता है।

मिलो गोल्डिंग को गूगल इस डूडल के लिए ईनाम राशि 22 लाख रूपये भी दे रहा है। गूगल का डूडल जब भी लोगों के सामने आता है तो लोग उसे बेहद पसंद करते हैं। पसन्द क्यों भी न करें, उसमें हर बार कुछ न कुछ अलग सन्देश होता है। कभी किसी साइंटिस्ट को समर्पित तो कभी किसी कलाकार को समर्पित होता है यह डूडल। विशेष दिनों को भी गूगल डूडल बना कर लोगों को बधाई देता है।

गूगल का डूडल जब भी लोगों के सामने आता है तो लोग उसे बेहद पसंद करते हैं। पसन्द क्यों भी न करें, उसमें हर बार कुछ न कुछ अलग सन्देश होता है। कभी किसी साइंटिस्ट को समर्पित तो कभी किसी कलाकार को समर्पित होता है यह डूडल। विशेष दिनों को भी गूगल डूडल बना कर लोगों को बधाई देता है।
Google इस प्रतियोगिता को क्यों आयोजित करता है?
 डूडल फ़ॉर गूगल  इसलिए बनाए जाते हैं, ताकि Google.com पर आने वाले लोग उन्हें देखकर खुश हो सकें। पिछले कई डूडल में इतिहास में अपना नाम बनाने वाले कुछ होनहार, कुशल, और जोशीले लोगों के बारे में बताया गया है। ‘Google के लिए डूडल’ पहली से दसवीं कक्षा के बच्चों को अपना artwork, Google India के होमपेज पर दिखाने का एक मौका देता है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD