[gtranslate]
Country Latest news

खुले में शौच करने पर बच्चों को लाठी से पीट पीटकर मार डाला

देश में स्वच्छता अभियान और खुले में शौच मुक्ति की बड़ी-बड़ी बातें तो हो रहीं हैं लेकिन समाज में कमजोर  तबकों की स्थिति आज भी शौचालय बनाने के लायक नहीं है। वे खुले में शौच बना ले तो इसकी कीमत उन्हें चुकानी पड़ती है।
 मध्य प्रदेश के शिवपुरी स्थित भावखेड़ी गांव में दो दलित बच्चों की खुले में शौच करने के कारण जाने चली गयी। मानसिक रूप से अस्थिर एक व्यक्ति द्वारा इस बात पर उनकी लाठी से पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। 10 साल की बिटिया रोशनी और 12 साल का बेटा अविनाश दोनों की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई जिसकी वजह बनी ‘खुले में शौच’| ये दोनों नाबालिग रिश्ते में बुआ और भतीजे थे |
 मृत बच्चों के पिता का कहना है कि उनके दादा के नाम पर सरकार ने शौचालय बनाने के लिए पैसा दिया था जिससे उनके यहाँ एक शौचालय तो बना लेकिन यह पुरे परिवार के लिए पर्याप्त नहीं था। इस वजह से परिवार के सब सदस्य खुले में ही शौच के लिए जाते हैं । हमने दरख्वास भी दी थी लेकिन शौचालय मिला नहीं। जबकि केंद्र सरकार का दावा है कि 99.2 फीसद देश का ग्रामीण इलाका शौच से मुक्त हो चूका है। तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पूरे राज्य को खुले में शौच से मुक्त घोषित कर चुकें हैं। वहीं स्थानीय पुलिस ने इस मामले के बारे में बताया कि जैसे ही खबर आई हम लोग घटनास्थल पर पहुंचे और ऐसा बताया गया कि किसी सिरफिरे ने लाठी से दोनों बच्चों को पीटा। फिलहाल पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

इस मामले में बसपा प्रमुख सुश्री मायावती ने इस घटना की निंदा करते हुऐ इस घटना पर दुःख और चिंता व्यक्त की।
मायावती ने बुधवार को ट्वीट किया,
 “देश के करोड़ों दलितों, पिछड़ों व धार्मिक अल्पसंख्यकों को सरकारी सुविधाओं से काफी वंचित रखने के साथ-साथ उन्हें हर प्रकार की द्वेषपूर्ण जुल्म-ज्यादतियों का शिकार भी बनाया जाता रहा है। ऐसे में मध्य प्रदेश के शिवपुरी में दो दलित बच्चों की नृशंस हत्या अति-दुःखद व अति-निन्दनीय है ।”
मायावती ने दोनों दलों से पूछा कि  “कांग्रेस और भाजपा की सरकार बताये कि गरीब दलितों व पिछड़ों आदि के घरों में शौचालय की समुचित व्यवस्था क्यों नहीं की गई है?” मायावती ने इस मामले में दोषियों को सख़्त सज़ा दिलाने की मांग करते हुये कहा, “यह सच बहुत ही कड़वा है तो फिर खुले में शौच को मजबूर दलित बच्चों की पीट-पीट कर हत्या करने वालों को फांसी की सजा अवश्य दिलायी जानी चाहिए।

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी इस घटना की निंदा की है. इस घटना को कमलनाथ ने बेहद हृदयविदारक बताया है उन्होंने अभियुक्तों पर कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं. मुख्यमंत्री ने एक ट्वीट के ज़रिए परिवार की सुरक्षा और उन्हें हर संभव मदद के निर्देश भी संबंधित अधिकारियों को दिए हैं।

You may also like

MERA DDDD DDD DD