[gtranslate]
Country

कोरोना की चपेट में JNU, अब तक 12 की मौत

कोरोना ने देश की सबसे बडी युनिवर्सिटी जेएनयू को भी अपनी चपेट में ले लिया है। जानकारी के अनुसार 10 मई तक दूसरी लहर में 12 लोगों की मौत हो चुकी है। बता दे कि कोरोना की पहली लहर में इस युनिवर्सिटी के 5 लोगों की मौत हुई थी। जबकि दूसरी लहर में दो महीनों में 12 लोगों की जान जा चुकी है। अब तक संक्रमण से जुड़े 200 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं।

गौरतलब है कि दिल्ली स्थित  ज्वाहर लाल युनिवर्सिटी (जेएनयू)  में 4,350 छात्रों के साथ ही काफी स्टाफ भी हैं। इनमें 3,000 छात्र, 1,000 स्टाफ (एडमिन, प्रोफेसर, टैक्निशियन) और 350 गार्ड हैं। देश की इस चर्चित यूनिवर्सिटी में कोरोना के इतने मामले मिलने के बाद हडकंप मच गया है।

जानकारी के अनुसार अब तक संक्रमण से होने वाली मौतों में स्टाफ के लोग ही शामिल हैं। यूनिवर्सिटी के एक स्टाफ ने अनुसार दूसरी लहर में कोरोना की वजह से जान गंवाने वाले ज्यादातर लोगों की उम्र 50 साल से कम है। अकेले 5 से लेकर 10 मई के बीच ही 4 लोगों की मौत हो गई है।

हालांकि जेएनयू प्रशासन लगातार दिल्ली सरकार और प्रशासन के संपर्क में है। फिलहाल मरीजों के लिए क्वारैंटाइन सेंटर में बेड, वेंटिलेटर और ऑक्सीजन की व्यवस्था की जा रही है।

बताया जा रहा है कि जेएनयू में कोरोना के बढते प्रकोप के चलते अब तक तीन बार टेस्टिंग कैंप लगाए जा चुके हैं। जबकि एक बारवैक्सीनेशन कैंप लगाया गया है।

जेएनयू में हालत बिगड़ते देख गत 18 अप्रैल को ही इस बाबत एक कोविड-19 रिस्पॉन्स टीम बना दी गई थी। जिसमें 9 लोग शामिल हैं। इस कमेटी में रजिस्ट्रार चेयरपर्सन हैं। यह टीम कोरोना से जुड़े मामलों पर नजर रखने और संक्रमित व्यक्ति को इलाज मुहैया करवाने के लिए बनाई गई है।

कमेटी के एक सदस्य डॉ. सौरभ शर्मा की मानें तो हम सभी स्टूडेंट और स्टाफ से लगातार संपर्क में हैं। क्वारैंटाइन सेंटर और अस्पताल में भर्ती लोगों की हालत पर लगातार नजर रखी जा रही है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD