[gtranslate]
Country

अमिताभ बच्चन के ‘जलसा’ पर मुम्बई की जनता का ‘झलसा’

 

हिंदी सिनेमा के महानायक अमिताभ बच्चन के मुम्बई स्थित घर ‘जलसा’ के बाहर बुधवार सुबह से ही विरोध प्रदर्शन जारी है । मुम्बई के लोग बिग बी के घर के बाहर पोस्टर्स और बैनर्स के सहारे प्रदर्शन कर रहे हैं । जलसा के सामने लोगों का झलसा लग रहा है । इस विरोध प्रदर्शन की वजह अमिताभ का मुंबई मेट्रो को सपोर्ट करना है ।

 

गौरतलब है कि अमिताभ द्वारा मुंबई मेट्रो के सपोर्ट में एक ट्वीट किया था और इसी के बाद से ये विरोध प्रदर्शन जारी है । अमिताभ के घर जलसा के बाहर लोग हाथों में ‘सेव आरे’ के नाम का पोस्टर लेकर प्रदर्शन करते हुए देखे जा रहे है।

 

आपको जानकारी के लिए बता दें कि अमिताभ बच्चन द्वारा सोशल मीडिया पर एक ट्वीट करते हुए मुंबई मेट्रो की तारीफ की गई थी और उन्होंने कहा था कि- ये प्रदूषण का समाधान है । मेरे एक दोस्त को मेडिकल इमरजेंसी थी, उसने कार के बदले मेट्रो से जाना चुना । वापस आकर उसने बताया था कि मेट्रो तेज, सुविधाजनक और सबसे सही है । बिग बी ने आगे अपने ट्वीट में लिखा था कि प्रदूषण का समाधान. अधिक पेड़ उगाओ, मैंने अपने बगीचे में लगाए हैं । क्या आपने लगाए हैं ?

याद रहे कि बीते कुछ दिनों से मुंबई में मेट्रो यार्ड के निर्माण के लिए आरे वन में 2700 से अधिक पेड़ों को काटे जाने के खिलाफ मुम्बई में प्रदर्शन जारी है । इसे पहले इसके विरोध में श्रद्धा कपूर समेत कई सितारे आए थे ।

 

उल्लेखनीय है कि पिछले कुछ दिनों से मुंबई में आरे के जंगल को काटकर मेट्रो कार शेड बनाने की खूब चर्चा हो रही है। जाने माने बॉलीवुड के चेहरे भी इस विवाद में कूद गए हैं और सोशल मीडिया पर लिख रहे हैं। कुछ इसका समर्थन कर रहे हैं तो कुछ विरोध कर रहे हैं। एक्ट्रेस श्रद्धा कपूर ने पेड़ काटकर मेट्रो निर्माण के विरोध में बनाई गई ह्यूमन चेन में हिस्सा लेकर कार्यकर्ताओं का समर्थन किया था।

 

एक्ट्रेस स्वरा भास्कर ने भी इसके खिलाफ आवाज बुलंद की है। विरोध करने वाले कार्यकर्ताओं की मांग है कि मेट्रो कार शेड 3 लोकेशन को आरे के जंगल इलाके से बदल कर कंजुरमार्ग ले जाया जाए और इस परियोजना के लिए जो 2700 पेड़ों को काटे जाने का आदेश हुआ है, उन्हें जस का तस रहने दिया जाए।

 

पर्यावरणविदों का भी कहना है कि आरे जंगल क्षेत्र में मेट्रो 3 के कार शेड के निर्माण से ना सिर्फ पर्यावरण जंगल और वन्यजीव प्राणियों पर बुरा असर पड़ेगा, बल्कि मुंबई में बाढ़ का खतरा और बढ़ जाएगा। कॉरपोरेशन का ये भी कहना है कि प्रोजेक्ट से जुड़ा पर्यावरण आंकलन बहुत पहले किया गया था और उसने किसी रेग्युलेटरी ज़रूरत को नहीं लांघा है। एमएमआरसी के एमडी अश्विनी भिड़े इस विवाद के केंद्र में हैं और कार्यकर्ताओं व पर्यावरण प्रेमियों की आलोचना झेल रहे हैं।

 

उनका कहना है कि अगर मेट्रो 3 को आरे के जंगल एरिया से कहीं और ले जाया गया तो यह सफल नहीं हो पाएगा। कार्यकर्ताओं का कहना है कि यह ब्लैकमेल करने की रणनीति है। सीएम देवेंद्र फडणवीस ने भी दावा किया है कि  यह जमीन सरकारी है।

एमएमआरसी का कहना है कि आरे कोई वनभूमि नहीं है और विरोध करने वाले कार्यकर्ताओं को गलत जानकारी है। मेट्रो कॉरपोरेशन और कार्यकर्ताओं के बीच यह संघर्ष अभी खत्म नहीं हुआ है। फिलहाल, जनता और सरकार के इस संघर्ष के बीच अमिताभ बच्चन दो पाटो के बीच पिसते नजर आ रहे है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD