[gtranslate]
Country

अमेरिकी राष्ट्रपति की बेटी इवांका ट्रंप हुई ज्योति की मुरीद,अखिलेश ने दिए एक लाख 

अमेरिकी राष्ट्रपति की बेटी इवांका ट्रंप हुई ज्योति की मुरीद,अखिलेश ने दिए एक लाख 

देश में कोरोना महामारी के चलते लोग परेशानियों से जूझ रहे हैं । लेकिन इस दौरान कुछ लोग ऐसे भी हैं जो इन परेशानियों से जूझते हुए संघर्ष का रास्ता तय कर रहे हैं। ऐसे लोग समाज के लिए प्रेरणादायक बन गए हैं। बिहार की 15 साल की ज्योति ने भी कोरोना काल में मिसाल कायम कर दी है।

ज्योति ने हरियाणा के गुड़गांव से अपने बीमार पिता को साइकिल पर बिठाया और अपने गृह प्रदेश बिहार को निकल दी। 7 दिन तक रोजाना डेढ़ सौ किलोमीटर साइकिल चला कर वह 1200 किलोमीटर का सफर तय करके मंजिल पर पहुंच गई। महज 15 साल की ज्योति ने देश ही नहीं दुनिया में नाम कमाया है। आज हर कोई उसके साहस को सलाम कर रहा है ।

दो दिन पहले उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ज्योति की काफी सराहना की और साथ ही उसे एक लाख का इनाम भी सम्मान के तौर पर दिया। इसी के साथ ही भारतीय साइकलिंग महासंघ (सीएफआई ) ने भी ज्योति को अपने यहां ऑफर दिया है। फिलहाल सीएफआई ज्योति से ट्रायल के लिए उनके घर तक पहुंच गया है।

लेकिन इसी दौरान दुनिया में अपनी ताकत का डंका बजाने वाले देश अमेरिका से सुखद भरी खबर आ रही है। जिसमें अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप  ने ज्योति की हौसला अफजाई की है। इस बाबत इवांका ट्रंप ने ट्वीट  करके ज्योति के साहस की  सराहना की है।

गौरतलब है कि ज्योति के पिता गुरुग्राम में रिक्शा चलाते थे और उनके दुर्घटना का शिकार होने के बाद वह अपनी मां और जीजा के साथ गुरुग्राम आई थी और फिर पिता कीहैंड  देखभाल के लिए वहीं रुक गई। इसी बीच कोविड-19 के कारण लॉकडाउन की घोषणा हो गई और ज्योति के पिता का काम ठप्प पड़ गया। ऐसे में ज्योति ने पिता के साथ साइकिल पर वापस गांव का सफर तय करने का फैसला किया।

पिता को साइकिल पर बैठाकर गुरुग्राम से दरभंगा तक का सफर तय करने वाली पंद्रह साल की ज्योति के दिन बहुरने वाले हैं। भारतीय साइकिलिंग महासंघ (सीएफआई) ने लॉकडाउन समाप्त होने के बाद ज्योति को ट्रायल के लिए बुलाया है। अगर ज्योति सीएफआई के मानकों पर थोड़ा भी खरा उतरती है तो उसे विशेष ट्रेनिंग और कोचिंग मुहैया कराई जाएगी।

ज्योति ने कोरोना संकट के कारण घोषित राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के दौरान गुरुग्राम से दरभंगा तक का बारह सौ किलोमीटर का सफर साइकिल से तय किया था। इस दौरान उसके पिता मोहन पासवान भी उसके साथ थे। ज्योति रोजाना करीब डेढ़ सौ किलोमीटर साइकिल चलाकर 7 दिनों में गुरुग्राम से दरभंगा पहुंची थी।

कोरोना संकट के वक्त 15 साल की ज्योति कुमारी की लोग जमकर तारीफ कर रहे हैं और हर तरफ उनकी मिसाल दी जा रही है। कई बड़ी हस्तियों द्वारा उनकी तारीफ होने के बाद अब अमेरिकी राष्ट्रपति की बेटी इवांका ट्रंप भी उनकी मुरीद हो गई है और ट्वीट कर उनकी तारीफ की है।   इवांका ने ट्वीट कर लिखा है कि  15 साल की ज्योति लॉकडाउन में अपने पिता मोहन पासवान को साइकिल पर बिठाकर 1,200 किलोमीटर से ज्यादा की दूरी सात दिन में तय करके गुरुग्राम से बिहार के दरभंगा पहुंची थी।

धीरज और प्रेम के इस खूबसूरत अहसास ने भारतीय लोगों और साइकिल फेडरेशन की कल्पना को दर्शाया है! ऐसे में ज्योति ने भी एक ऐसा साहसी कदम उठाया जिसे देख-सुनकर हर कोई हतप्रभ है। लॉकडाउन में पिता के फंसे होने से बेटी पिता के लिए ज्योति के इस समर्पण और प्रेम ने सभी को अभिभूत किया और हर कोई उनकी अपने-अपने तरीके से तारीफ और हौसलाफजाई करने में लगे हैं।

You may also like