[gtranslate]
Country

धरती की निगरानी के लिए इशरो करने जा रहा है तीन सैटलाइट लॉन्च

धरती की निगरानी करने के लिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन तीन सैटेलाइट लॉन्च करने जा रहा है। देश की सीमाओं की सुरक्षा की दृष्टि से यह बेहद जरुरी है क्योंकि इनके जरिए भारतीय सेना आसमान से ही दुश्मनों पर नजर रख सकेगी। बताया जा रहा है कि 25 नवंबर को कार्टोसेट-3 को लांच किया जाएगा, जो अंतरिक्ष में 509 किलोमीटर दूर 97.5 डिग्री के झुकाव के साथ कक्षा में स्थापित होगा। वहीं, दिसंबर में दो और सैटेलाइट छोड़े जाएंगे, जो अंतरिक्ष में भारत की आंख बनकर  काम करेंगे। पीएसएलवी सी-47 रॉकेट को श्रीहरिकोटा से 25 नवंबर को 9 बजकर 28 मिनट पर लॉन्च किया जाना है।यह पीएसएलवी अपने साथ दो दर्जन विदेशी नैनो और माइक्रो सैटलाइट भी लेकर जाएगा।

दिसंबर में होने वाले दो सैटलाइट (रीसैट-2बीआर1 और रीसैट2बीआर2) । इन्हें पीएसएलवीसी48 और सी49 की मदद से दिसंबर में श्रीहरिकोटा से लॉन्च किया जाना है। इससे पहले एजेंसी ने 22 मई को रीसैट-2बी और 1 अप्रैल को ईएमआईसैट (शत्रु के रेडार पर नजर रखने के लिए बनाई गई सैटलाइट) लॉन्च की गई थी। उस दौरान चंद्रयान-2 मिशन के कारण ऑपरेशनल सैटलाइट की लॉन्चिंग में इतना समय लगा। इसरो के इतिहास में ऐसा पहली बार होगा।  जब श्रीहरिकोटा से साल में हुए सभी सैटलाइट लॉन्च सैन्य उद्देश्य से हुए हैं।

वहीं कार्टसेट-3 को 509 किलोमीटर ऑर्बिट में स्थापित किया जाना है। इन सैटलाइट को बॉर्डर सिक्यॉरिटी के लिए काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। इससे पहले भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने 22 मई को रीसैट-2बी और एक अप्रैल को ईएमआईसैट सर्विलॉन्‍स सेटेलाइटों की लॉन्चिंग की थी। इनकी लॉन्चिंग दुश्‍मन के रडार पर नजर रखने के लिए की गई थी।

You may also like