[gtranslate]
Country

सिंधु बाॅर्डर फिर बना हिंसा का अखाड़ा, स्थानीय लोगों और किसानों में भिडंत

सिंधु बाॅर्डर पर 26 जनवरी को हुई हिंसा के बाद से ही तनाव का माहौल है। भारी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात है, लेकिन आज सुबह फिर से बवाल हो गया है। यहां स्थानीय लोगों और किसान आंदोलन के बीच झड़प हुई हैं। माहौल इतना बिगड़ गया कि लाठी डंडे भी चल गए हैं। स्थानीय लोग पुलिस के सामने पथराव करते रहे। पहले पुलिस मूकदर्शक बनी रही, लेकिन बाद में बवाल को बढ़ता देख उसे लाठी चार्ज करना पड़ा। दरसल सिंधु बाॅर्डर पर जहाँ किसान धरना प्रदर्शन कर रहे हैं वहाँ पर कुछ स्थानीय लोग अपने आप को बवाना व नरेला गांव का बताते हुए किसान आंदोलन की तरफ बढ़े और उन्होंने किसानों के खिलाफ नारेबाजी की।

इस बीच किसानों की ओर से भी फ्रंटलाइन पर लोग खड़े हो गए। जैसे ही खुद को स्थानीय गांव वाले बताने वाले लोग आगे बढ़े, वैसे ही किसान और स्थानीय लोगों में भिंड़त हो गयी। स्थानीय लोगों ने लाठी डंडों से आंदोलनकारी किसानों पर वार कर दिया। दूसरी तरफ आंदोलनकारी किसानों ने भी पथरबाजी कर दी। जिससे कई पुलिस वाले घायल हो गए द्य इसके बाद पुलिसवालों ने स्थानीय लोगों पर लाठी चार्ज कर भीड़ को तितर- बितर कर दिया। इस दौरान एक स्थानीय व्यक्ति ने आरोप लगाया कि पहले हमला किसानों ने किया। उनकी तरफ से तलवार से वार ली गई हैं।

पुलिस जवानों का भी कहना है कि किसानों की ओर से तलवारबाजी हुई है। इसमें एक तलवार जब्त भी कर ली गई है। स्थानीय लोगों में गुस्सा हाइवे बंद को लेकर बताया जा रहा है। कई स्थानीय लोगों का कहना है कि हाइवे बंद होने से हमारे सामने रोजी-रोटी का संकट पैदा हो गया है। फिलहाल पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर कर स्थिति को कंट्रोल किया है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD